आज भी मौजूद है ऐसा पत्थर जो लोहे को सोने मे बदल देता है? | Full Mystery Of Paras Stone - instathreads

आज भी मौजूद है ऐसा पत्थर जो लोहे को सोने मे बदल देता है? | Full Mystery Of Paras Stone

कि हमारी दुनिया बहुत बड़ी है अ जितने
बढ़ी है उतनी ही रहस्यमई भी जिसमें से कुछ
रहस्य तो हमें नीचे के साथ मिले कुछ
घटनाओं के रूप में तो कुछ वस्तुओं के तौर
पर हमारे सामने आते रहे जिसका जिक्र तो

समय-समय पर मिलता रहा लेकिन उनकी उपस्थिति
सभी के लिए हमेशा रहस्य ही रही ऐसे एक
वस्तु पारस पत्थर भी है या वहीं पारस
पत्थर जो लोहे को भी सोना बना देता है
भारत पत्थर के बारे में सदियों से लोगों
की सोच यही रही पार क्या वाकई कोई पत्थर

किसी भी चीज को सोना बना सकता है अगर हां
तो कैसे आज अपनी वीडियो में हम पारस पत्थर
की बारीकियों को समझने की कोशिश करेंगे और
बताएंगे आपको कि नया चीज आखिर है कहां
दुनिया में आज भी कई ऐसी चमत्कारी चीज

मौजूद है जिनके बारे में किस्सों कहानियों
में सुना जाता रहा है पारस पत्थर एक ऐसा
चमत्कारी पत्थर है जिसके बारे में कई
कहानियां प्रचलित पारस पत्थर कहां है है
जिसके बारे में कई तरह की बातें सदियों से
होती चली आ रही है और आज भी लोग इसकी खोज

में लगे हैं पारस पत्थर क्या है जो लोग
इसे पानी की लालसा रखते हैं इन तमाम
सवालों के जवाब देने से पहले पारस पत्थर
के बारे में जान लेते हैं दोस्तों पौराणिक
कथाओं के हिसाब से भोपाल से करीब 50
किलोमीटर दूर एक ऐसा किला है जहां पारस
पत्थर के मौजूद होने की बातें कही जाती

हैं इतना ही नहीं भोपाल में काफी मशहूर है
कि की नीति पत्थर की रखवाली कोई और नहीं
बल्कि जिन करते हैं इस किले का नाम है
रायसेन किला मान्यता है कि इस किले के
राजा रायसेन के पारस पत्थर सा जिसके लिए
कई युद्ध हुए और ऐसे एक युद्ध में जब राशन
हार गए तो उन्होंने उसे एक तालाब में फेंक

दिया जाता है तालाब इसी किले में ही है
जिसमें पारस पत्थर कहा तो यह भी जाता है
कि युद्ध में राजा की मौत हो गई थी मरने
से पहले उन्होंने किसी को नहीं बताया था
कि उन्होंने पारस पत्थर कहां छुपा है इनकी
मौत के बाद तो किल कि वीरान हो गया लेकिन

बाद में पारस पत्थर को ढूंढने कई लोग ले
जाने लगे पर जो भी के लिए जाता उसका
मानसिक संतुलन बिगड़ जाता है मान्यता है
ऐसा इसलिए होने लगा क्योंकि उस पारस पत्थर
की रखवाली कर रहा है जिन सब को पागल कर

देता पत्थर पर मान्यताओं के आधार पर और कई
कहानियां
मजदूर पारस पत्थर से
और लोहार अमीर
प्रजाति के पक्षी के पारस पत्थर की खोज
लेने की ताकत एक गरीब ब्राह्मण द्वारा
भगवान विष्णु का कठोर तप कर उनसे

सब्सक्राइब
मान्यताओं पर आधारित है इसलिए इन पर
विश्वास करना बेकार की बात होगी पर
सबस्क्राइब इसकी शुरुआत 2002 साल पहले
पारस पत्थर के बारे में उसी वक्त किलोमीटर
नाम की किताब में लिखा गया था दो पूरी

दुनिया में पारस पत्थर का रहस्य आग की तरह
फैल गया था जो द्विशताब्दी में दावा किया
गया कि किसी ने पारस पत्थर के रहस्य को
सुलझा लिए इस शख्स का नाम निकोलस फल मिलता
जो कि पेरिस में रहकर किताबें बेचने का
काम करता था कहा गया कि निकोलस को अपने

कबाड़ में एक ऐसी किताब मिली थी जिसमें
पारस पत्थर के बारे में सब कुछ लिखा गया
था इसके बाद निकोलस लेवल की जिंदगी बदल गई
वह पेरिस का सबसे अमीर आदमी बन गया था
लेकिन फैमिली की रहस्यमई मौत के बाद वह
किताब किसी ने नहीं देखी जिसके बाद

तकरीबन बंद हो गई कि मान लिया गया था कि
फैमिली की मौत के साथ यह राज उसके साथ चला
गया फिर शांत हो चुके पानी में ऐड ऐड के
लिए ने एक बार फिर पत्थर मारने का काम
किया उन्होंने दावा किया कि उनके पास ना
केवल वह किताब है बल्कि उन्होंने एक ऐसा

पाउडर भी बनाया है जो पारस पत्थर की तरह
काम करता है कि पाउडर मरकरी या नहीं पा
रहा कुएं में बदल देता है कि ऐसा सुनते ही
हंगरी घर आजा रुडोल्फ सेकंड ने उन्हें
अपने यहां काम पर रख लिया यह राजा अपने

शौक की वजह से पूरी तरह से बर्बाद चुका था
ऐसे में उसे पारस पत्थर की सबसे ज्यादा
जरूरत ही प्रोडक्ट सेकंड ने दिल्ली को
पारस पत्थर की फिराक में तो मालामाल कर
दिया व रुडोल्फ सेकंड कुछ भी हासिल नहीं

हुआ इसके बाद अगले 50 सालों में इस पत्थर
की खोज में कई बदलाव आए इसमें इतिहास में
फेमस कई वैज्ञानिकों ने भी रूचि दिखाई
जिनमें इस रॉबर्ट डायल और न्यूटन का नाम
मुख्य रूप से लिया जाता है दिल्ली के जरिए

लोगों को मालूम हो चुका था कि पारस से
पारस पत्थर बनाया जा सकता है इसके बाद
रॉबर्ट ने यह पता लगाया कि को सोने में
बदला जा सकता है तो हर किसी के पास मौजूद
लोगों को सोने में बदला जा सकता है तब एक
तरीके से हंगामा मच गया इधर

सब्सक्राइब के ऊपर प्रयोग करने लगे लेकिन
को है और सफलता नहीं मिली वह इस रॉबर्ट
डायल के दावों का कोई प्रूफ नहीं था
क्योंकि उन्होंने किसी के सामने लड्डू
सोने में बदल कर नहीं दिखाया था साल
1994 अरुण यह पता लगाया कि दुनिया के हर

चीज परमाणुओं से बनी उन्होंने अपने प्रयोग
के जरिए यह साबित किया कि कैसे तो दूसरे
तत्व बदल जाता है ने बताया कि वीरवार
मल्टीप्ल हो जाएंगे इस तत्व का निर्माण हो
जाएगा इस बदलाव के कारण को उन्होंने नाम
दिया

लुटेरों के बीचों बीच यही वह प्रक्रिया है
जिसके नाम से जाना जाने लगा
में पारस पत्थर के रहस्य को सुलझाने का
दावा किया गया कि युवराज
ने दावा किया कि किसी भी तत्व को बदल कर

दिखाया इस दौरान उन्होंने इस्तेमाल किया
था कि अपने पार्टी कलेक्टर के लीटर की मदद
ली जैल पार्टिकल्स को रोशनी की गति से गोल
आकार ट्यूब में छोड़ता जरिए अल्फा
पार्टिकल विस्मित केमिकल के परमाणुओं से
टकराए तो वह विभाजित हो गए और गोल्ड में
बदल गए इस प्रयोग में 1000 प्रमाणों के

गोल्ड बनाए गए लेकिन इसमें कमी आई इस
गोल्ड की मात्रा कम थी कि आमदनी अठन्नी और
खर्चा रुपैया वाली बात हो गई यार इस वक्त
इज गोल्ड को बनाने में ₹5000 का खर्चा आया
जिसकी कीमत से कहीं ज्यादा था पारस पत्थर
की खोज में सदियों से कई लोग तो लगे रहे

हैं इसके बारे में किसी ने झूठे दावे किए
तो किसी ने ब्रह्म का जाल फैलाया जैसे कि
इतिहास में लिखा गया है कि निकोलस पीरामल
पारस पत्थर की वजह से हुए थे पर इस बात
में रत्ती भर भी सच्चाई नहीं पाएगी

क्योंकि उनके अमीर होने की वजह उनकी बीवी
थी क्योंकि उन्होंने एक विधवा से शादी की
थी और उस विधवा से पहले से दो शादियों के
जरिए काफी धन दोलत थी शादी के बाद उस
विधवा का सारा धन निकोलस फैमिली आ गया
वहीं दिल्ली में भी पारस पत्थर के नाम पर

कई लोगों को बेवकूफ बनाया जिसमें पहला नाम
रुडोल्फ सेकंड था जिसमें शैली पर भरोसा कर
अपना सारा धन लूटा तो दिया पर उसे कुछ
हासिल नहीं हुआ अब तक आपने देखा साइंस के
जरिए भी पारस पत्थर को पाने में किसी को
भी सफलता नहीं मिली हाउस चक्कर में

विज्ञान ने कुछ चीज़ों की खोज जरूर कर ली
मसलन पारा और लेट से सोना बनाने की तकनीक
का इजाद हो गया पर पारस पत्थर के बारे में
हर तरह के दावे चाहे वह इतिहास के पन्ने
हो साइंस के प्रयोग किया दंतकथाएं फैमिली
ही ऐसे में कहना गलत नहीं होगा कि जब पारस

पत्थर के अस्तित्व पर शंका है तो उससे
लोहा सोना बन जाता है कि नहीं इसके बारे
में पुख्ता तरीके से कुछ भी नहीं कहा जा
सकता हां कही सुनी बातों पर विश्वास करना
है तो हिमालय में कई हर दिन है कि पारस
पत्थर को छू लेने भर से लोहा या फिर कोई

भी धातु सुनने में बदल जाती है तो दोस्तों
आपको क्या लगता है वाकई में पारस पत्थर
नाम की कोई चीज एकजुट करती है लोहे को
सोने में बदल देता है अपने विचार कमेंट
बॉक्स में जरूर लिखिए साथ इस वीडियो को

Leave a Comment