इन 7 राज्यों में फंस गये Modi | | Hemant Soren | Arvind Kejriwal | Rahul | - instathreads

इन 7 राज्यों में फंस गये Modi | | Hemant Soren | Arvind Kejriwal | Rahul |

नमस्कार  मेरे
ंचवट दिया है लेकिन क्या मोदी जी का जीत
का रास्ता जीत का
सफर वाकई इतना आसान है क्या वाकई अभी मोदी
के इस जीत के रास्ते में कई कांटे हैं

जिनको मोदी हटाने की कोशिश कर रहे हैं हटा
नहीं पा रहे क्या अभी भी मोदी जी का ये जो
चुनाव है 2024 का सुपर
फाइनल क्या अभी भी यह चुनाव छह सात

राज्यों में और जी हां छह सात बड़े
राज्यों में क्या अभी भी फंसा हुआ है
बीजेपी की कई सीटें इन सात बड़े राज्यों

में फंसी हुई है और क्या यही कारण है कि
मोदी जी आजकल जैसा कि भीतर के कुछ लोग लोग
कहते हैं कुछ कुछ बौखलाए हुए हैं अंदर ही
अंदर और मोदी जी की इसी बौखलाहट के चलते
देश के एक मुख्यमंत्री एक सिटिंग चीफ

मिनिस्टर
को एक विवादास्पद मामले में जेल भेज दिया
गया और एक मुख्यमंत्री जेल की लाइन में
खड़ा है और दो उप मुख्यमंत्री जिसमें से
एक पूर्व उप मुख्यमंत्री है उनको जेल

भेजने की कोशिशें और साजिशें की जा और इसी
बौखलाहट के चलते पूरे देश ने देखा कैमरे
के सामने चंडीगढ़ में मेयर के चुनाव में
कैसे नतीजे बदल दिए गए 20 को 12 कर दिया

गया सबने अपनी आंखों के सामने देखा और देश
ने यह भी देखा कि झारखंड में एक
मुख्यमंत्री का उम्मीदवार जी हां एक
मुख्यमंत्री का आदिवासी

उम्मीदवार बहुमत लेकर राज भवन के बाहर
चक्कर काटता रहा जी हां एक चीफ मिनिस्टर
का कैंडिडेट जिसके हाथ में बहुमत की
चिट्ठी है राज भवन के बाहर चक्कर काट रहा

है कल से 24 घंटे बीत चुके हैं उस
मुख्यमंत्री की शपथ की तैयारी नहीं हो रही
राज्यपाल समय मांग रहे हैं आप कह सकते हैं
गवर्नर टाइम पास कर रहे हैं क्या यह मोदी

की बौखलाहट नहीं है और दोस्तों जिस तरह से
चुनचुन कर विपक्ष का जी हां हर विपक्षी
नेता हर विपक्षी पार्टी का चुनचुन का जिस
तरह से हिसाब किया जा रहा है उससे क्या हम
यह कहेंगे कि मोदी सरकार एक डिक्टेटर मोड

में आ गई है एक तानाशाह के मोड में सरकार
आ गई है और क्या जो 400 पार का नारा दिया
है जी हां जेपी नड्डा राष्ट्रीय अध्यक्ष
ने 400 पार इस बार मोदी 400 पार 400 सीटें
ला रहे हैं सारे रिकॉर्ड तोड़ रहे हैं कि

यह नारा और जमीनी सच में बहुत अंतर है
जमीन आसमान का अंतर है और क्या बीजेपी की
जो इंटरनल रिपोर्ट्स है इंटरनल सर्वे
रिपोर्ट है वो यह जाहिर करती है कि

मुकाबला अभी भी फंसा हुआ है बीजेपी 250 के
आसपास है कहीं पर या इससे भी नीचे जा सकती
है या इससे ऊपर जाने के लिए मोदी जी को
ईडी की मदद से अभी भी कई मुख्यमंत्रियों

को जेल भेजना होगा क्या पूरे विपक्ष को
तहस नहस किए
बिना 24 का रास्ता आसान नहीं है मोदी के
लिए अब दोस्तों सच्चाई यह भी है कि जो

तस्वीर हम देखते हैं आप देखते हैं या जो
तस्वीर गोदी मीडिया दिखाती है टीवी चैनल्स
दिखाते हैं अखबार आपको दिखाते हैं कि
उत्तर प्रदेश में बीजेपी काफी आगे है

दरअसल उत्तर प्रदेश हो मध्य प्रदेश हो
राजस्थान हो छत्तीसगढ़ हो गुजरात हो ये जो
बेल्ट है ये बीजेपी की पारंपरिक बेल्ट है
चाहे अडवाणी का टाइम हो अटल का टाइम हो या
मोदी का टाइम हो बीजेपी को यहां बंपर वोट

मिलते रहे हैं और मिलते रहेंगे जब तक
कांग्रेस इस बेल्ट में अपने संगठन को
मजबूत नहीं कर लेती लेकिन इस बेल्ट के
बाहर स्थिति उतनी अच्छी आज भी नहीं है
बल्कि मैं कहूंगा कि 2014 और 2019 की

तुलना में 2024 में कई ऐसे राज्य हैं जो
गले की फस बनते जा रहे हैं गुजरात लॉबी के
लिए मोदी के लिए शाह के लिए और हर रणनीति
जहां फेल हो रही इसीलिए शायद उनको
मुख्यमंत्री को जेल भेजना पड़ रहा है एक

को जेल भेजने की तैयारी है और दो ऐसे नेता
हैं जिनको जेल भेजने की साजिश दिन रात हो
रही है अगले 15 दिनों में ऐसी नौबत क्यों
आ रही है उसकी वजह यह है कि चार बड़े

राज्य
हैं जहां गेम फसा हुआ है और तीन ऐसे राज्य
हैं जहां बीजेपी वाकई मुश्किलों का सामना
कर रही मैं चाहता हूं कि एक बार इस

ग्राफिक्स को अगर हम देखें तो मोदी जी की
जो एक्सरे रिपोर्ट है य जो एक्सरे रिपोर्ट
उनकी बौखलाहट का का बताती है वो आपको जरा
और साफ हो जाएगी वो
तस्वीर दोस्तों अगर आप ये ग्राफिक्स देखें
तो जो चार बड़े राज्य हैं और मैं बार-बार

उसे रिपीट कर रहा हूं महाराष्ट्र बिहार
बंगाल और कर्नाटक इन चार राज्यों में
पिछली बार मोदी जी तकरीबन सवा स सीट ले गए
थे महाराष्ट्र उत्तर प्रदेश के बाद सबसे
बड़ा राज्य इन टर्म्स ऑफ लोकसभा सीट 48

सीटें हैं यहां पर और आज भी महाराष्ट्र की
स्थिति अच्छी नहीं है बीजेपी के लिए
क्योंकि जिस तरह का गठबंधन बनाया है

उन्होंने एनसीपी को तोड़ के शिवसेना को
तोड़ के अजीत पंवार को लाके या फिर प्रफुल
पटेल छगन भुजबल जैसे आप कह सकते हैं
भ्रष्टाचारी हां भ्रष्टाचारी इन पर
भ्रष्टाचार के आरोप है ऐसे लोगों के साथ

जो कुनबा तैयार किया या एकनाथ शिंदे या वो
लोग शिवसेना के जिन पर ईडी की जांचे थी
सीबीआई की फाइलें खुली थी इनकम टैक्स के
छापे पड़ रहे थे ऐसे दागी लोगों को अपने

कुनबे में बीजे ले आई और सरकार भी बना ली
लेकिन हकीकत यह है कि आज भी शरद पवार
उद्धव ठाकरे को मोदी जी तोड़ नहीं पाए और
जिस तरह का समीकरण बन रहा है महा विकास

आड़ी का फाइट आज भी मोदी जी के लिए बहुत
टफ है महाराष्ट्र में तो ये महाराष्ट्र की
स्थिति है जहां पर मोदी परेशान है और फिर

एक अगला ऑपरेशन उन्होंने शुरू किया है
जहां शरद पवार के ग्रैंड सन को फिर से ईडी
के चक्रव्यू में फंसाया जा रहा है बहरहाल
बिहार अगर आते हैं बिहार में मोदी को

बार-बार जो इंटरनल रिपोर्ट्स आ र थी ऐसा
लग रहा था कि पिछली बार की तरह 39 सीट्स
अबकी आनी नहीं है ये सीट और कम हो सकती है
और शायद इसीलिए नितीश पर डोरे डाले गए और

नितीश के साथ समझौता किया गया नितीश को
मोदी जी ले भी आए लेकिन यहां पर नितीश की
इमेज जो है वह बूमरैंग कर गई पहली बार
नितीश कुमार पलटूराम नहीं है आज की तारीख
में नीतीश कुमार इस देश की सियासत के सबसे

बड़े कार्टून बन गए
जितने कार्टून उनके बने हैं पिछले 10
दिनों में किसी नेता के कभी नहीं बने
होंगे तो नीतीश कुमार पूरी तरह से
डिस्क्रेडिट होते जा रहे हैं और ऐसी

स्थिति में मोदी जी को लग रहा है कि दांव
गलत हो गया यह बूमरैंग कर गया बंगाल की
अगर आप स्थिति देखें भले ही ममता और
कांग्रेस के बीच में कहीं ना कहीं अभी भी

एक आप कह सकते हैं संघर्ष की स्थिति है
लेकिन हकीकत यह है कि ममता पहले से ज्यादा
मजबूत हुई हैं और बीजेपी अपनी जमीन बना
नहीं पा रही ज्यादातर विधायक जो तोड़ के
लाए थे या मंत्री जो थे तोड़ के लाए थे

टीएमसी से बीजेपी के पाले में 90 पर 90 पर
बीजेपी के विधायक उम्मीदवार वापस लौट गए
ममता के साथ आज की तारीख में कोई बड़ा
नेता बीजेपी के साथ चलना नहीं चाहता बंगाल

में तो बंगाल फसा है जहां पिछली बार 18
सीटें थी और कर्नाटक
में सारा खेल जो है सारी जो बिसाद बिछाई
है चाणक्य

ने उसको बिखेरने में यह आदमी बहुत आगे आ
गया है जी हां नाम नोट करिए डी के शिव
कुमार असली चाणक्य लोग कहते हैं कि दक्षिण

भारत में ये असली चाणक्य है जहां मोदी जी
के चाणक्य इनसे बार-बार हार रहे हैं
तेलंगाना इस आदमी ने जितवा या कर्नाटक इस

आदमी ने जितवा या और अब ये आदमी लोकसभा की
तैयारी कर रहा है कर्नाटक और तेलंगाना में
और शायद इसीलिए इस आदमी की फाइल खोल दी है

गुजरात लॉबी ने डी के शिवकुमार कि लोकसभा
चुनाव से पहले इसको फिर से अंदर कर
फिर से जेल की राह दिखानी जो हेमंत सोरेन
को दिखाई गई थी तो यह कर्नाटक की स्थिति

है और देखते हैं कि डीके श कुमार अगर
सरवाइव करते हैं तो कर्नाटक में एक बड़ा
चैलेंज मोदी जी को देंगे तो दोस्तों यह

चार राज्य आपको देखने फोर बिग स्टेट्स
आफ्टर यूपी महाराष्ट्र है बिहार है बंगाल
है कर्नाटक है 158 सीटें हैं जिसमें पिछली

बार 2019 में मोदी जी 124 सीट जीत कर ले
गए थे प्रधानमं मंत्री दोबारा जो बने थे
इन चार राज्यों का बहुत बड़ा कंट्रीब्यूशन
था इस बार मैंने आपको स्थिति सामने रखी है

तीन और राज्य है यह राज्य महाराष्ट्र और
बंगाल जैसे बड़े तो नहीं है लेकिन कहीं ना
कहीं फैसले में इन राज्यों की भी भूमिका
रहती है और खासकर बीजेपी की जीत में यह

तीन राज्य हैं आसाम झारखंड और
तेलंगाना अब झारखंड में तो आप देख ही रहे
हैं कि किस तरह से हाथ जला लिए हैं भाजपा
ने जिस तरह से एक आदिवासी मुख्यमंत्री के
साथ सलूक किया गया है एक वादा स्पद लैंड

डील जिसमें ब्लैक एंड वाइट में बहुत कुछ
सबूत है नहीं वहां पर जिस तरह से सिटिंग
चीफ मिनिस्टर को भेजा और आदिवासी जहां
लामबंद हो गए आदिवासी जहां पर खड़ा हो गया

है हेमन सुरेन के पीछे मोदी जी के लिए एक
मुश्किल दौर होगा झारखंड में 14 सीटें
पिछली बार 12 ले गए थे आसाम आसाम ऐसा लग
रहा था कि जब से हेमंत विश्व शर्मा

कांग्रेस छोड़कर बीजेपी में आए आसाम कहीं
ना कहीं एक तरह से पूरे नॉर्थईस्ट को
हेमंत विश्व शर्मा रिवाइव कर रहे थे
बीजेपी के लिए लेकिन जब से राहुल गांधी की

यात्रा निकली और उसके बाद राहुल गांधी और
हेमंत विश्व शर्मा के बीच में नोकझोंक हुई
और जिस तरह से हेमंत विश्व शर्मा बौखला गए
एफआईआर की बात करने लगे उसके बाद से आसाम
की सिचुएशन इतनी बेहतर नहीं है बीजेपी के

लिए जो छ महीने पहले लग रही थी अस एक
क्वेश्चन मार्क में बीजेपी के लिए नौ
सीटें पिछली बार मिली और तेलंगाना
तेलंगाना जहां बीजेपी की काफी समय से
निगाहें थी नजर थी और जब से हैदराबाद

कॉरपोरेशन के चुनाव में बीजेपी ने अच्छे
रिजल्ट्स दिए थे मोदी और शाह को लग रहा था
कि तेलंगाना हाथ में आ रहा है लेकिन हो
उल्टा गया बीजेपी तीसरे नंबर पर आ गई और
कांग्रेस के हाथ में ये स्टेट चला गया 17

सीटें तेलंगाना में 7 लोकसभा सीट चार
सीटें जीती थी बीजेपी ने पिछली बार इस बार
का टारगेट आठ है एट सीट्स अब चार में चार
आती हैं पिछली बार की तरह या दो आती हैं

कहना मुश्किल है क्योंकि यहां पर डीके
शिवकुमार जी हां साउथ इंडिया के चाणक्य
कांग्रेस के चानक साउथ इंडिया के दक्षिण
भारत के वह कुंडली मार के बैठे हैं
तेलंगाना में और तेलंगाना में इस वक्त

कांग्रेस की सरकार तो ये जो तीन राज्य है
45 सीटें हैं 25 सीटें 25 सीटें पिछली बार
जीती थी इस पर भी एक बड़ा क्वेश्चन मार्क
है यानी जो इंटरनल रिपोर्ट है जो जमीनी

सच्चाई है व मोदी जी को कहीं ना कहीं
बेचैन कर रही है तो दोस्तों बड़ा सवाल
बड़ा सवाल यह कि क्या मोदी जी 2024 का
सुपर फाइनल आसानी से जीत रहे हैं या अभी
भी राह में कई कांटे हैं और इन कांटों को
हर कीमत पर मोदी को निकालना होगा और

इसीलिए उनको मजबूर होकर चुनाव से 15 दिन
पहले ऐलान से 15 दिन पहले उन्हें ईडी की
मदद लेनी पड़ रही है साजिशें रचनी पड़ रही
है मुख्यमंत्रियों को जेल भेजना पड़ रहा
है ऐसी नौबत आ रही है ऐसी क्यों आ रही

नौबत कि गेम कहीं ना कहीं भीतर से जो
एक्सरे है वह रिपोर्ट कहती है कि मैच अभी
भी फंसा हुआ है और क्यों फंसा हुआ है मुझे
लगता है एक बड़ा सवाल है जो एक पिक्चर
क्लियर करेगा अगर इसका जवाब सामने आता है

और इस जवाब के लिए अ हाल फिलहाल
महाराष्ट्र का दौरा करके लौटे हैं उत्तर
प्रदेश का दौरा करके लौटे हैं मध्य प्रदेश
का दौरा करके लौटे हैं अशोक वानखड़े टाइगर
मुझे लगता है टाइगर के पास चलते हैं समझने

की कोशिश करते हैं इस तस्वीर को थोड़ा और
क्लियर करते हैं जिससे एक स्पष्ट चित्र
सामने
आए व्ट्स गोइंग टू हैपन इन 2024 होने क्या
जा रहा है 24 में उस तस्वीर को थोड़ा और
साफ करते हैं चलते हैं टाइगर के पास र

पहला सवाल ये कि हम देख रहे हैं कि
चंडीगढ़ में जिस तरह से इलेक्शन को रिक
किया सबके सामने कैमरे पर और फिर हम देख
रहे हैं कि एक ऐसे मामले पर जहां पर साक्ष
की कमी है एक सिटिंग चीफ मिनिस्टर को जेल
भेजा जा फिर कहीं सरकार नहीं बनने दे रहे

झारखंड नीतीश कुमार के साथ जो कुछ हुआ
कहीं ना कहीं ईडी का प्रेशर अब टारगेट पर
तेजस्वी बताए जा रहे हैं अरविंद केजरीवाल
बताए जा रहे हैं आदित्य ठाकरे और रोहित
पवार की भी फाइलें खुल गई

अगर मोदी जी अगर मोदी जी वाकई 400 पार जा
रहे हैं जैसे कि जेपी नड्डा का कहना है या
जिस तरह की बखान अमित शाह उनके चरण के कर
रहे हैं तो अगर 400 पार जा रहे हैं मंदिर
लहर है एक प्रचंड बहुमत की सरकार है और

मोदी जो है मोदी है तो मुमकिन है कि नारे
लग रहे हैं अगर 400 पार है तो फिर छटपटाहट
कैसी है टाइगर यह समझ से
परे दीपक भाई इसका एक लाइन में उत्तर दूं
तो यह है कि मोदी के गारंटी की ही गारंटी

नहीं मोदी
को ध्यान से सुनिए मोदी जी को अपने ही
गारंटी की गारंटी नहीं
है ये आपके बार 400 पार जेपी नड्डा वगैरह
क्या बोल रहे हैं ये तो बिचारे पीछे टाली
बजाने वाले कवाली की टोली के लोग हैं इनको

क्या मालूम 400 किसको कहते हैं हां अमित
शाह ऑप्टिमिस्टिक रहते हैं क्योंकि उनको
अपने वर्कर्स को ताकत के साथ उतारना है और

भयावह ताकत य ऐसा चुना है भूतो ना
भविष्यति यह चुनाव सिर्फ लोकतंत्र का नहीं
है यह नरेंद्र मोदी के जीने मरने का सवाल
क्योंकि नरेंद्र मोदी अपने जीवन के किसी
भी चुनाव में इतने निचले स्तर पर उनकी

ग्राफ और टोटल नहीं गई थी मैं विश्वास के
साथ कह रहा हूं मैं और मेरे ऑथेंटिक
सोर्सेस के साथ कह रहा हूं 230 से आकड़ा
पार नहीं होता दिखाई दे रहा
है हा 125 सीट तो सामने फसी हुई है

कहां देखिए कर्नाटक में 26 सीट पिछली बार
मिली थी बिल्कुल महाराष्ट्र में 41
सीट बिहार में 39 सीट और बंगाल में 18
सीट पिछले बार का जो स्कोर है मोदी जी का

नॉर्थईस्ट और
आसाम गणित बिगड़ता गया है देखिए किसी भी
चीज का आपको बैरोमीटर लेना है ना तो कोई
रॉकेट साइंस नहीं है यह आदमी की बोखला
बताती

है
किसी मारवाड़ी के पास हजारों करोड़ है
उसको यदि बोल दिया जाए कि तेरे पास कुछ
औकात नहीं तू भिकारी है तो हस के डाल देता
है क्योंकि उसको पता है कि उसकी औकात है व

मूर्ख आदमी है जानता नहीं मेरे बारे में
लेकिन कोई बताता व मर्सडीज से उतर के कि
मेरे 1000 करोड़ का आदमी हूं कोई बोलता है
अरे तू बता हमको तू भिकारी है तो लड़ने

लगता
है क्योंकि उसको डर लगता है कि यह मेरी
बात कैसी आ गई इसको पता ये क और ज्यादा
नहीं बोल दे ये जो बोखला है नॉर्थ ईस्ट के
मुख्यमंत्री की वो इस हद तक बोल गया कि
राहुल गांधी गाड़ी में बैठा रहता है
डुप्लीकेट को बाहर उतारता

है हद हो गई मूर्खतापूर्ण बात करने की यह
क्यों करनी पड़ रही है एफ आईआर दर्ज कर
रहे आप एक एक जिस आदमी का कोई औकात ही
नहीं है आपके हिसाब से जो पप्पू है आपके
हिसाब से जिसको कुछ आता ही नहीं है उस

आदमी से क्या
डरना आपको बिहार में जिस नीतीश ने अपना
राष्ट्रीय अधिवेशन में राजनीतिक प्रस्ताव
आप पढ़िए एकद बार दीपक भाई रोंगटे खड़े हो
जाएंगे वह आदमी वह राजनीतिक प्रस्ताव जनता
दल यूनाइटेड का पढ़ने के बाद कभी मुंह
करके भी

देखेगा इतने कड़े शब्दों में भारतीय जनता
पार्टी की निंदा हुई है व राजनीतिक
प्रस्ताव वह आज नीतीश को
मुख्यमंत्री मात्र आधी सीट होने के के बाद
नीतीश के पास अपने आप का महिमा मंडन कर
रहे हैं जो नीती को

पा क्यों झुक गए यह बोखला है हम आपके चैनल
पर कितने दिनों से कह रहे थे कि दो
मुख्यमंत्री
जाएंगे हमने आपको यह भी कहा आप आने दीजिए
2024 का चुनाव आते आते आपको तेजस्वी भी
अंदर मिलेगा केजरीवाल भी अंदर मिलेंगे
अभिषेक बेनर्जी भी अंदर मिलेंगे आदित्य

ठाकरे भी अंदर मिलेंगे रोहित पवार भी अंदर
मिलेंगे स्टेलिन का भाई भी अंदर मिलेगा
बेटा मिलेगा सब अंदर जाए
यह बोखला है मैं मेरी लाइन बड़ी नहीं कर
सकता हूं तो दूसरे की लाइन छोटी कैसा कर

सकता हूं इसकी बोखला इसका मतलब टाइगर अगर
टाइगर अगर आपकी बीजेपी के इनसाइडर से बात
हो रही उनके स्टेटस से बात हो रही है तो
क्या जो फीडबैक आ रहा है जो सर्वे आ रहे
हैं अमित शाह के वह सर्वे बहुत अच्छे नहीं
है और यह 400 का नारा ये सिर्फ एक लोगों

को बहलाना फुसलाना या का डर को कहीं ना
कहीं थकने नहीं देना ये सिर्फ एक
प्रोजेक्शन है 400 हकीकत कुछ और है
बिल्कुल ये वरक है वर करा है जय एकलिंगी
हर हर

महादेव यह पुराने जमाने का युद्ध घोष हुआ
करता था कि आपके लोगों के बीच में जोश
बरने के अबकी बार 400 पार अरे कहां से भाई
200 सीट तो ऐसी है पूरे देश में जहां यह
पिछले तीन बार से डिपॉजिट जपत करते आ रहे

हैं
जी वो दो सीटों पर कहां से जीतोगे 81 सीट
तो ऐसी है कि जहां कभी लड़ नहीं सकते केरल
तमिलनाडु आंध्र प्रदेश आंध्र
प्रदेश तो यह आप जरा आकड़े हम कोई रॉकेट
साइंस नहीं और एक बात मैं और बता दूं एक

30 सेकंड लूंगा मुझे मालूम है जल्दी फटाफट
होता है कार्यक्रम आदमी डॉक्टर के पास कब
जाता है जब उसको दर्द होता
है एक बात तय कर लीजिएगा जिसका बहुत
बढ़िया चल रहा होगा वो एस्ट्रोलॉजर के पास
नहीं

जाएगा जब कोई एस्ट्रोलॉजर को बार-बार
बुलाता है पूछता है इसका मतलब घबराहट
है एक कोई तोशनी वाले हाथ देखते हैं चेहरा
रीडिंग फेस रीडिंग बड़ी मास्टरी कहती है
उनकी उनको बार-बार बुलाया जा रहा है अब

बताओ आकड़ा बढ़ा कि नहीं अब बताओ मैं वापस
आऊंगा कि
नहीं अब तोषनीवाल ने कभी एक बार अपना भी
खुद का हाथ देखना चाहिए
मतलब मामला ज्योतिष तक पहुंच गया है

ज्योतिष तक पहुंच गया साहब लेकिन टाइगर य
पर ये बोकला है आपका बटली क्या आपको लगता
है कि राजनीति के और प्रजातांत्रिक और
लोकतंत्रिक लोकतांत्रिक मूल्यों की जान
पहचान मोदी जी को नहीं होगी यकीनन है जी

को ना समझ नहीं जो चंडीगढ़ में
हुआ जी क्योंकि चंडीगढ़ की एक सीट भी इतनी
इंपोर्टेंट है वो चाहिए मेयर अपने हाथ में
किसी हालत में जो झारखंड में हुआ आप बताओ
बिहार में इधर से इस्तीफा दिया तुरंत पाच

मिनट के अंदर शपथ विधि होता
है देर रात एक कागज लेकर अजीत पवार जाते
हैं गवर्नर साहब उस कागज को ही मेजॉरिटी
मान लेते हैं रात को ढ़ बजे प्राइम
मिनिस्टर ऑफिस बात होती है प्रधानमंत्री
विशेष अधिकार का उपयोग करते हुए

राष्ट्रपति शासन हटाते हैं बिना कैबिनेट
को लिए एक विशेष अधिकार होता है उनके पास
और सुबह सुबह जैसे ही सूरज उकता है
महाराष्ट्र को सरकार मिलती है देवेंद्र
फडणवीस मुख्यमंत्री उप मुख्यमंत्री अजीत

पवार 80 घंटे सरकार
चली जब सरकार बनाने में इतनी जल्दी होती
है नीतीश कुमार का तो रिकॉर्ड है यूं दिया
चट मगनी पट इधर इस्तीफा उधर शपथ आज
सुरेंद्र ने इस्तीफा दिया आज झारखंड में
जिनके पास मेजॉरिटी है वह पूरे कागज के

साथ दलबल के साथ गवर्नर के पास जाते हैं
अभी तक शपथ का समय नहीं दिया अभी तक
गवर्नर कह रहे राज्यपाल कर रहे हम सोचेंगे
इसमें क्या सोचना
है क्या सोचना है कि लोग कैसे तोड़े

जाएंगे कहां पैसा लगेगा 50 खोके एकदम ओके
कहां होगा 25 करोड़ में जाएगा 100 करोड़
में
जाएगा क्या आपको लगता है य टाइगर ये जो
टाइम दिया जा रहा है कुछ घंटे का टाइम या
उन घंटों को बढ़ाना कायदे से तो सच्चाई यह

है जो संविधान कहता है कि अगर एक चीफ
मिनिस्टर ने इस्तीफा दे दिया जो भी कारण
हो जेल जाना हो या जो को तुरंत उनके पास
अगर मेजॉरिटी है गवर्नर बुलाते दक देखते
संख्या बल देखते और शपथ हो जानी चाहिए थी

है ना तो क्या आपको लगता है यह टाइम जो
दिया जा रहा है ये जो टाइम दिया जा रहा है
ये विधायक तोड़ने की कवायद हो रही है कि
लाओ कुछ विधायक तोड़ो पैसा

खोलो करो एक तो अभी आपको भाषा का भी उपयोग
सम समय के चलते बदलते रहना
चाहिए मैं जानता हूं कि मैं आपको टोक रहा
हूं शायद आपको बुरा भी लगेगा या दर्शकों

को भी लगेगा कि अशोक नकड़े खुद को बहुत
ज्यादा समझ रहा है क्या य जो आप कहते हो
संविधान कहता
है सर य संविधान नहीं मोदी यह शब्द उपयोग
कीजिए क्या संविधान नहीं मोद म कहते मोदी
जी मोदी जी संविधान है सर संविधान बाबा

साहेब आंबेडकर का आउटडेटेड हो गया मोदी जी
के खास लोग ही कहते
हैं तब आउटडेटेड संविधान की जगह अब मोदी
जी संविधान हो गए
तो अब संविधान
नहीं मनमानी चलेगी मैं आपको बता रहा हूं

दीपक भाई अभी तक हम कहते थे कि तानाशाही
प्रवृत्ति तानाशाही प्रवृत्ति नहीं खासकर
जो झारखंड में हो रहा है और जो चंडीगढ़
में हुआ मैं यकीनन कहता हूं कि तानाशाह

जन्म ले चुका है जन्म ले य पर एक सवाल
2024 के चुनाव में नतीजे यदि ऐसे ही आते
हैं तो अपने जवानी पर
पहुंचेगा और जवानी का उन्माद में वो
तानाशाह क्या
करेगा यह मैं और आप भी नहीं सोच

सकते क्योंकि मैंने और आपने कभी नहीं सोचा
था जो चंडीगढ़ में हुआ मैंने और आपने कभी
नहीं सोचा था जो महाराष्ट्र में हुआ मैंने
और आपने कभी नहीं सोचा था जो झारखंड में

हो रहा मैंने और आपने कभी नहीं सोचा था
ऐसा करेंगे जी जी बिल्कुल बिल्कुल बिल्कुल
इट वाज वेरी सरप्राइज वेरी सरप्राइज कि
कोई मतलब मानसिक अगर मनोदशा ठीक नहीं है
तभी ऐसा कुछ हो सकता है जो नितीश कुमार ने
कि

देश का इस देश का हिंदू शंकराचार्य को
गाली देगा य मैंने कभी नहीं
सोचा क्योंकि शंकराचार्य ने सिर्फ सवाल
उठाए मंदिर पूरा क्यों नहीं
हुआ

जी सवाल प आ रहा हू अगर आप एक तरफ यह कह
रहे एक पिक्चर आपने दी उस तस्वीर में आपने
कहा कि कर्नाटक भी थोड़ा फसा है
महाराष्ट्र में भी स्थिति बहुत ठीक नहीं
है तेलंगाना जो है बीजेपी घात लगाई थी

कांग्रेस के पास चला गया आसाम में जिस तरह
से यात्रा निकली तो वहां के चीफ मिनिस्टर
जो है बीजेपी के वो घबरा गए इस यात्रा से
आपका यह कहना है कि सवा स सीटें ये चार
पांच राज्यों में फंसी हुई है अगर सवा स

सीटें फसी हुई है मोदी जी की और मोदी जी
जो हिटलर शाही कर रहे
हैं मुख्यमंत्री को जैसे गाजर मूली की तरह
फेंक दिया जेल में कोई ऐसा मामला नहीं आज
भी मैं इंटरव्यू सुन रहा था कपल को दिया

है हेमंत सुरेन ने उसने कहा कि भैया ये
जमीन जिसको मुझे दिखा रहे हैं वो ना खरीदी
जा सकती है ना बेची जा सकती है बेची जा
सकता मैं कैसे मालिक हो गया कहां है आपके
पास रजिस्ट्री तो दिखाइए पैसे का ट्रेल तो

दिखाइए किसी की गवाही पर आप चीफ मिनिस्टर
को जेल भेज देंगे और हमने चंडीगढ़ में
सामने देखा कि जो प्रोसाइट अफसर है वो
अपने दस्तखत कर रहा है हमने ये भी देखा कि
जो स्पेशल सेल की पुलिस है दिल्ली में वो

वो जो पांच लड़के कूद के गए थे
पार्लियामेंट में उनको बिजली के करया बली
के शौक लगा दिए कि आप जो है विपक्ष की
पार्टियों का नाम लीजिए जबक पास जो है वो
बीजेपी के सांसद ने बनाया था यह सब कुछ जो

हो रहा है आपको लगता है कि यह सब कुछ करके
मोदी जीत जाएंगे या इसका एडवर्स इफेक्ट
पड़ेगा एडवर्स इफेक्ट पड़ रहा है देखिए
बारबार जो लोग कांग्रेस के भी जो वरिष्ठ
लोग थे वो बारबार कहते थे कि झारखंड में

हेमंत को समझ नहीं आ रहा है वो पार्टी
नहीं संभाल पा रहे उसके लोग टूट जाएंगे
आज हेमंत की पार्टी एकजुट हो गई है
निशिकांत दुबे जिन्होंने ठेका लेकर रखा है

हेमंत के पार्टी
का अंदर की खबरें बताने
का उनका ट्वीट आने के बाद हेमंत के भाई ने
प्रेस कॉन्फ्रेंस करके कहा कि पार्टी इ

इंक्ट सब हेमंत के साथ
खड़े आज
पूरा इंडिया गठबंधन झारखंड में ऐसा एकजुट
कभी नहीं हुआ जो आज
हुआ हेमंत सरेंद्र के अरेस्ट करने के बाद

तेजस से लेकर अखिलेश से लेकर राहुल तक एक
ही भाषा बोल रहे एक बात याद रखिए मैं
बारबार आपको कहता
हूं जब आप कहते कि ये ऐसा क्यों करते इनके

पास और रास्ता क्या है मुझे बताइए चलिए
बताइए मुझे रास्ता क्या
है आपने अभी तक सिर्फ लफ बाजी की
है आपने अभी तक झूठ परोसा
है फसल काटने

निकले जब बोया कुछ नहीं तो फसल का की
काटोगे
तो फिर किसी और के खेत की फसल काट के अपनी
बताओगे यही तो चल रहा
है और

इसीलिए चुनाव में विपक्ष नहीं
चाहिए चुनाव में यह सब जेल में चाहिए
सिर्फ चार कैंपेनर हम रहेंगे और हम बात
करेंगे और फिर आगे का सिनेरियो मैं बता
रहा हूं आज के य इन संदर्भों को लेके

बीजेपी 200 सीट पर भी आएगी तो सबसे बड़ी
पार्टी होने के नाते राष्ट्रपति उन्हें
प्रधानमंत्री की सरकार बनाने के लिए न्यता
देगी और वो न्योता स्वीकार शपथ

लेंगे उसके बाद यह होगा कि हाउस का आपको
फ्लोर पर टेस्ट करना होगा और अपना विश्वास
का मत प्रदान करना होगा फिर एक थेरी आएगी
कि जब जनता ने इतना विश्वास दिखाया है
अटूट सबसे बड़ी पार्टी बनाया है अब इस

पार्लियामेंट का टाइम क्यों वेस्ट करें
विश्वास और सर देश के सामने बहुत काम पड़े
हैं 1947 का टारगेट है देश को सबसे बड़ी
इकोनॉमी बनाना है देश के हर घर में बिजली

देना है हर किसान का इनकम डबल करना है हर
योग को उद्यामी बनाना है यह सारे टारगेट
करने हैं तो आपको क्या लगता है यह टारगेट
देश पूरा करें चाइना को ठीक करें
पाकिस्तान को ठीक करें या पार्लियामेंट
में टाइम वेस्ट करें मूर्ख कहीं के लोग अब

कोई पार्लियामेंट पार्लियामेंट नहीं अभी
सीधा सरकार चलेगी अभी दो डेढ़ साल बाद
देखेंगे क्या करना है प्रायोरिटी क्या
होनी चाहिए देश के सामने देश की

तरक्की विश्वास का मत क अगर 230 के आसपास
भी आते मेजोरिटी मार्क से सद की बनेगी
200 और बाकी काम ईडी कर देगी ईडी इनकम
टैक्स कर करने की जरूरत नहीं विधान लोकसभा
लगेगी ही नहीं

सर आप क्या करोगे आप इसके खिलाफ सुप्रीम
कोर्ट
जाओगे कोर्ट कहेगा कि अभी अपने पास बहुत
सारे काम पड़े केसेस पड़े आप प्रायोरिटी
की नहीं

है आपकी लिस्टिंग की जाएगी आपको समय दिया
जाएगा
अभी चल रहा है 2026 के जनवरी में आपका
पहला हियरिंग
होगा र लास्ट लास्ट लास्ट क्वेश्चन एक
बहुत आपने ऐसी बात करी कि अगर मोदी गड़बड़
करते हैं मोदी गड़बड़ करते हैं देखिए

राष्ट्रपति तो उन्हीं की है मोदी अगर कुछ
गड़बड़ करते हैं तो आपका यह कहना है कि
अगर सुप्रीम कोर्ट हम जाते हैं उसको
रेक्टिफाई करने के लिए कि मोदी ने ये चीज
गलत करी ये चीज असंवैधानिक है तो आदमी को

सुप्रीम कोर्ट ही जाना पड़ेगा आपका ये
कहना है कि सुप्रीम कोर्ट भी इस वक्त कहीं
ना कहीं थोड़ा सा डाइल्यूटेड है क्या हर
तरफ डर

है सर्वोच्च न्यायालय ये जानते हुए भी कि
एक गैर कानूनी सरकार महाराष्ट्र में चल
रही है वो सरकार चलने दे रही
है और क्या चाहिए आपको
जी क्या चंडीगढ़ और पंजाब हाई कोर्ट ने

तुरंत डिसीजन नहीं लेना चाहिए
था क्या हाई कोर्ट को पता नहीं है कि पिटा
सन अधिकारी की पीठ दर्द कर रही थी तो हाई
कोर्ट ने ट्रीटमेंट दिया उसका 4 फरवरी की
जगह फिर 30 तारीख को पीठ ठीक हो

गई जब य ये हुआ ये पहली बार जब मुझे बताइए
जब 16 का आंकड़ा 19 से बड़ा होता
है तो क्या 200 का आंकड़ा 272 से बड़ा
नहीं
होगा जी अरिटिक है आज आपने बड़ी बात कही
और बड़ी बात जो सबसे स्ट्राइकिंग चीज आपने

कही अगर कुछ गड़बड़ होता है समथिंग गोज
रंग तो आदमी जब सुप्रीम कोर्ट की तरफ जाता
है तो आज की स्थिति में सुप्रीम कोर्ट भी
जितना अग्रेसिव चंद्रचूड़ थे चंद्रचूर आज
की तारीख में उतना अग्रेसिव उतने निष्पक्ष

कह लीजिए या संविधान के प्रति जो उनका
कमिटमेंट था वो महाराष्ट्र और बहुत से ऐसे
केसेस है जहां पर जैसे अडानी का भी मामला
है और भी कई मामले हैं वहां पर थोड़ा सा

दो कदम पीछे बैकफुट पर दिखता है मामला और
ये सारा जो होना दीपक भाई कमिटमेंट
होना और वो यथार्थ पर उतरना यह दो बाती
चीज है ईमानदारी होना में और वो ईमानदार
ईमानदारी की बातें करना और ईमानदार होना

बात अलग है जी बड़ी बातम के सामने बोलना
कैमरे के पीछे बोलना अलग बात
है जी बहल बहरहाल आज आपने आज आपने टाइगर
जो बातें कही उसमें कहीं ना कहीं आप यह कह
रहे हैं किय जो 400 पार है ये सिर्फ एक
नारा है हकीकत यह है कि बीजेपी की 125

सीटें जो पिछली बार जीती थी चार पांच
राज्यों में फसी हुई है नॉर्थईस्ट में भी
बीजेपी घबराई हुई है तेलंगाना में भी
कर्नाटक में भी बहुत अच्छा हाल नहीं है और
महाराष्ट्र में स्थिति बहुत सुधर नहीं रही

और बिहार में नितिश के आने के बाद नितीश
जिस तरह से खलनायक बने हैं नायक से वो भी
कहीं ना कहीं एक मेजर डिसएडवांटेज है आपका
ये कहना है कि बीजेपी की गिनती जो है 235

240 से बढ़ती दिख नहीं रही और यही बौखलाहट
है मोदी की जहां ईडी का अब बेजा इस्तेमाल
हो रहा है और बहुत बेशर्मी के साथ
इस्तेमाल हो रहा है और कई लोगों को जेल
भेजा जा सकता है बहरहाल जो स्ट्राइकिंग

चीज है जो मुझे थोड़ा सा हल्के से हिलाती
है व यह कि क्या सुप्रीम कोर्ट ऐसी
सिचुएशन में देश के साथ खड़ा होगा जनता के
साथ खड़ा होगा य बहुत बड़ी अग्नि परीक्षा
होगी अगर ऐसा कुछ होता है

Leave a Comment