केवल भाग्यशाली लोगों को ही प्राप्त होग - instathreads

केवल भाग्यशाली लोगों को ही प्राप्त होग

मेरे बच्चे जिन दिव्य नेत्रों को जिन दिव्य आत्माओं को आज यह संदेश मिल रहा है

वह बहुत ही ज्यादा सौभाग्यशाली है क्योंकि अब उनका समय बदलने वाला है अब वह सब कुछ

बदल जाएगा जो उन्हें परेशान कर रहा था अब कुछ ऐसा होगा जो उनकी कल्पना से भी

बिल्कुल अलग होगा कुछ ऐसा जिसकी उन्होंने कल्पना की ही ना हो कुछ ऐसा जो वह सोच भी

ना पाए आकाश में मेघों की गर्जन अब यह प्रमाणित करेगी कि उनकी जीभ को मुकद्दर

में लिख दिया है मेरे बच्चे मैं जानती हूं कि तुमने कितना संघर्ष किया है लेकिन अब

मैं तुम्हारे सभी संघर्षों को तुम्हारा हथियार बनाकर तुम्हें जीत दिलाने वाली हूं

इसलिए तुम इस संदेश को पूरा सुनना किसी भी परिस्थिति में इसे बीच में छोड़कर जाने की

भूल ना करना नहीं तो बहुत बड़ी मुश्किल में भी पड़ सकते हो मेरे बच्चे अब वह समय

करीब है जब तुम खुशियों का जश्न मनाओ और संपूर्ण संसार देखता रह जाएगा अब इस माह

के अंत में कुछ आश्चर्य चकित कर देने वाली घटनाएं क्रमिक रूप से घटने लगेंगी कुछ ऐसा

होगा कि तुम्हारे ऊपर धन की बरसात हो जाएगी तुम्हें दिन प्रतिदिन आर्थिक उन्नति

के आर्थिक प्रगति के विभिन्न अवसर मिलते जाएंगे तुम्हारे सभी कार्य सुव्यवस्थित

ढंग से बनने लगेंगे स्वतः ही वह संपन्न होने लगेंगे और चारों तरफ तुम्हारे ही

चर्चे होंगे मेरे बच्चे तुम्हारा प्रभुत्व लोगों के बीच इतना बढ़ जाएगा कि हर कोई तुम्हारे

बारे में ही बात करेगा तुम्हारे वह अपने जो कभी तुम्हारे उपहास उड़ाया करते थे

पीछे तुम्हारी निंदा किया करते थे अब आपस में यह बातें करेंगे कि कैसे तुम्हारा

जीवन बदल गया कैसे तुम्हारे जीवन में धन फूट फूट कर बरस रहा है पहले चाहे तुम्हारे

अपने हो चाहे पराए सब तुम्हारे विरोध में खड़े हो जाया करते थे लेकिन अब सब कुछ

तुम्हारे हित में होगा वह तुम्हारे भय के कारण और तुम्हारे प्रभुत्व संपन्नता के

कारण तुम से नीचे दबे हुए रहेंगे और कभी तुम्हारे खिलाफ जाने की भूल भी नहीं

करेंगे वह तुम्हारा विरोध करने का सोच भी ना सकेंगे तुम्हारा स्वास्थ्य पहले से

बहुत ज्यादा बेहतर हो जाएगा अब तुम्हारा शरीर एक आदर्श स्वरूप में आ जाएगा

तुम्हारे रिश्ते प्रेम से भर जाएंगे और तुम अपने परिवार जनों के साथ सुखद यात्रा

पर जाने की तैयारी करोगे मेरे बच्चे यदि तुम्हें अपनी माता

पर विश्वास है तो इसी क्षण अपने नेत्र बंद करके गहरी सांस लेते हुए अपना दाहिना हाथ

अपने हृदय पर रखो और मेरे द्वारा भेजी जा रही इस आशीर्वाद की ऊर्जा को संपूर्ण दिल

से ग्रहण करो और इस अद्भुत संदेश को लाइक करके सच्चे मन से लिखो जय हो माता

रानी मेरे बच्चे जो मैं तुम्हें अब दे रही हूं यह तुम्हारा भाग्य बदलने के लिए है जो

अब मैं तुम्हें भेज रही हूं वह तुम्हारे जीवन को खुशियों से भर देने के लिए है

जैसे लबालब जल से भरा हुआ पात्र छलकने लगता है वैसा ही तुम्हारा मन खुशी से भरकर

गदगद हो जाएगा धन की असीम बरसात होगी और प्रेम तुम्हें इतनी ज्यादा मात्रा में

मिलेगा कि तुम उसे संभाल ना पाओगे मेरे बच्चे बस यह याद रखना कि जो

तुम्हें मिल रहा है तुम उसके योग्य हो कभी भी अहंकार वश स्वयं की अयोग्यता सिद्ध ना

कर देना बहुत जल्द तुम्हारे जीवन में एक ऐसा व्यक्ति आएगा जो तुम्हारी रुकी हुई

जीवन की नौका को पार लगवा देगा मेरे बच्चे कोई ऐसा है जो तुम्हें लाभ पहुंचाने

तुम्हें पदोन्नति करवाने के लिए ही आ रहा है अपने आप तुम्हारे जीवन की सभी बाधाएं

समाप्त होने लग जाएंगी तुम्हारे सारे रुके हुए काम क्रमिक रूप से श्रृंखलाबद्ध

श्रेणी में एकएक करके बनने लगेंगे मेरे बच्चे तुम्हारी आर्थिक स्थिति

इतनी मजबूत होने वाली है कि तुम अपनी सारी इच्छाएं पूर्ण कर लोगे वह सभी इच्छाएं जो

तुम्हें लगता है कि इस अनंत ब्रह्मांड में कभी पूर्ण नहीं हो सकती वह सभी पूर्ण हो

जाएंगी तुम्हें दान करने के भी अवसर प्राप्त होंगे और ऐसा करने पर तुम्हारा

आशीर्वाद कई गुना बढ़ जाएगा मेरे बच्चे मैं साक्षी बनूंगी

तुम्हारे सभी इच्छाओं को पूर्ण करने का जो तुम मुझ पर विश्वास करते हो तो आखिर मैं

तुम्हारा साथ कैसे छोड़ सकती हूं मेरे बच्चे तुम्हें भी इस बात का एहसास बहुत ही

जल्द होने वाला है कि तुम सामान्य नहीं हो तुम असीन हो अनंत हो दूसरों से अलग हो

क्योंकि तुमने किसी और पर नहीं स्वयं पर मुझ पर ब्रह्मांड पर यकीन किया है और जब

यकीन कर ही लिया है तो चिंता किस बात की मेरे बच्चे बेफिक्र रहो किसी भी बात की

फिक्र करने की तुम्हें कोई आवश्यकता नहीं है क्योंकि मेरा हाथ सदैव तुम्हारे ऊपर है

मेरे बच्चे जिन्हें लगता है कि तुम संसार में कभी विजय नहीं हासिल करोगे जिन्हें

लगता है कि वह तुम्हें सता सकते हैं तुम्हारा उपहास उड़ा सकते हैं और तुम्हारी

खिल्ली उड़ाकर वह मौज में अपनी जिंदगी जिए यह उनकी बहुत बड़ी गलत फहमी है मेरे बच्चे

अब उनको सबक मिलने का समय आ गया है तुम एक योग्य गुरु की तलाश में

और तुम्हारी वह तलाश बहुत ही जल्द पूर्ण होने को है तुम अपने इस योग्य गुरु के पास

बहुत ही जल्द पहुंच रहे हो मेरे बच्चे मैं जानती हूं हर कदम पर तुम्हें गिराने का

प्रयास किया जा रहा है बार-बार तुम्हारी ऊर्जा को दूषित करना नकारात्मक शक्तियों

का षड्यंत्र है लेकिन तुम हर बार इससे बचते आए हो क्योंकि मैं तुम्हारा साथ देती

आई हूं और आगे भी तुम इससे बचते रहोगे वह तुम्हें नुकसान नहीं पहुंचा

पाएंगे मेरे बच्चे खुद को एकांत में रखकर और मौन को अपना शस्त्र बनाकर तुम्हें

युद्ध लड़ना है क्योंकि ऊंची आवाज अक्सर उनकी ही होती है जो गलत होते हैं और जो

सही होते हैं वह उनके अंदर मृदुल होता भरी हुई होती है मेरे बच्चे सच बोलने वाला सदा

मौन हो जाता है और जो व्यक्ति अपनी आलोचना सुनते हुए भी मौन रहकर ईश्वर को याद करता

है ईश्वर का स्मरण करता है उसकी तरफ से सारे उत्तर मैं वक्त के साथ स्वयं देती

हूं मेरे बच्चे तुम एक पवित्र पुण्य आत्मा हो तुम कई बार लोगों को जवाब नहीं दे पाते

तुम यह नहीं समझ पाते कि उनके साथ तुम्हें सामंजस कैसे बिठाना है तुम यह नहीं समझ

पाते कि उनसे तुम्हें क्या कहना है और इस वजह से कई बार तुम्हें हानि उठानी पड़ती

है मेरे बच्चे जब मनुष्य ऐसी जगह पर होता है कि उसके आसपास केवल गंदगी केवल कीचड़

ही होता है तो वह उसमें धंस का ही चला जाता है और जब मनुष्य कीचड़ में धस जाता

है तो वहां से निकलना लगभग असंभव होता है मनुष्य जब कीचर में फसा हुआ होता है तब

उसे लगता है कि उसका जीवन अंधकार में हो गया है अब उसके पास कोई मार्ग नहीं है

लेकिन यदि उसे कीचर से बाहर आना है तो उसे अपने हाथ कीचड़ में डालने ही होंगे वह

कीचड़ से बचकर कीचड़ से बाहर नहीं निकल सकता इसलिए उसे अपने हाथ मैले करने होंगे

और तब भी उस पर कीचड़ जमी रह जाएगी किंतु वह उससे बाहर आ जाएगा और आगे उसके ऊपर कोई

कीचड़ ना लगेगा और एक बार यदि उसने अपने आप को साफ कर लिया तो सदा के लिए साफ हो

जाता है ऐसा ही तुम्हारी चित्त बुद्धि मन आत्मा है जो इस मायावी जंजाल के कीचड़ में

फस चुकी है लेकिन यदि तुम्हें इससे बाहर आना है तो तुम्हें माया को ही अपना हथियार

बनाना होगा इस मायावी जन जाल से बाहर आने के लिए माया का ही सहारा लेना पड़ेगा माया

को अपना दुश्मन नहीं बल्कि दोस्त की तरह देखना होगा यह माया ही है जो तुम्हें आगे

ले जाएगी इस माया का सहारा लेकर तुम्हें इस माया को ही मिटाना है और ऐसा करने पर

तुम यह पाओगे कि तुम बाहर से और भीतर से पूरी तरह से पवित्र हो चुके हो तुम यह

पाओगे कि अब तुम रा जीवन पूरी तरह से बदल गया है अब तुम्हारे जीवन में यदि किसी चीज

की आवश्यकता है तो केवल और केवल प्रेम की है मेरे बच्चे अब तुम सही रास्ते पर हो

इसलिए तुम्हें चिंता करने की आवश्यकता नहीं है तुम्हें आवश्यकता है तो केवल और

केवल अपने आप को समझने की अपने आप से प्रेम करने की अपने आप को प्रेम जताने की

मेरे बच्चे अब तुम पर वह आशीर्वाद बरसने वाला है जिस

आशीर्वाद की चा तुमने सदा से ही की है इस आशीर्वाद के बरसने से तुम्हारा शरीर पूरी

तरह से पवित्र हो जाएगा तुम्हें विभिन्न रास्ते दिखेंगे अपने जीवन को आगे बढ़ाने

के लिए लेकिन तुम्हें थोड़ा सोच समझकर चुनाव करना होगा सही फैसला लेना होगा सब

कुछ अब तुम्हारे हाथ में है सब कुछ अब तुम्हारे नियंत्रण में है तुम जैसा चाहोगे

जीवन वैसा होता जाएगा कोई भी तुम्हारा प्रतिकार नहीं करेगा कोई भी तुम्हें दोष

नहीं गिनाए मेरे बच्चे तुम समझ रहे हो जो मैं

कह रही हूं कि कैसे तुम्हें अपनी जीत को स्वीकार करना है कैसे तुम्हें अपने प्रेम

को स्वीकार करना है और कैसे दुनिया की मान्यताओं को तहे दिल से ठुकरा देना है

यही जीत का लक्षण है मेरे बच्चे तुमने हमेशा अपने साथी से अत्यधिक प्रेम की

कामना रखी है अपने परिवार वालों को प्रेम देना चाहा और बदले में उनसे प्रेम की

अपेक्षा भी की है तुमने लेकिन मैं तुम्हें बता दूं कि तुम

उन्हें बहुत प्यार करते हो चाहे तुम्हारा साथी हो चाहे तुम्हारे परिवार वाले हो तुम

सबका सम्मान करते हो तुम सबको प्रेम करते हो यदि तुम क्रोध में भी आते हो तो

तुम्हारे क्रोध में भी प्रेम छुपा हुआ होता है तुम कभी भी क्रोध में आकर किसी का

हानि करने के विचार भी नहीं करते हो तुम क्रोध में आकर कभी किसी को हानि पहुंचा ही

नहीं सकते हो लेकिन यह क्रोध है जो कभी-कभी बढ़ जाता है और बाद में तुम्हारी

गलानी का कारण बन जाता है मेरे बच्चे मैं जानती हूं कि तुम उन

सबको इतना ज्यादा प्यार करते हो उनके लिए कुछ भी करने को तैयार हो एक बार यदि

तुम्हारे जीवन में ऐसा मौका पड़े तो तुम उन सबके लिए कुछ भी कर गुजरो ग लेकिन बदले

में तुम्हें कभी उतना प्यार मिला ही नहीं बदले में तुम्हें कभी उतना सम्मान उतनी

चाह मिली ही नहीं ना ही कोई तुम्हें उस भाव से समझ सका जो भाव तुम्हारे मन में

तुम्हारे परिवार या तुम्हारे साथी के लिए भरी हुई है और तुम जब उनसे उम्मीदें करते

हो तो वह तुम्हारी उम्मीदों पर कभी खरे नहीं उतर पाते क्योंकि उनके भीतर प्रेम तो

है लेकिन इसे दर्शा कैसे हैं उस प्रेम की कितनी तीव्रता है इसकी समझ उन्हें नहीं है

जिस वजह से तुम्हें लगता है कि वह तुमसे प्रेम नहीं करते वह तुम्हारी परवाह नहीं

करते लेकिन ऐसा बिल्कुल भी नहीं है वह तुमसे प्रेम करते हैं और तुम्हारी परवाह

भी करते हैं वह चाहते हैं कि तुम जीवन में सदा आगे बढ़ो तुम्हें कभी कोई हानि ना हो

तुम्हें कभी कोई नुकसान ना उठाना पड़े मेरे बच्चे मुझे ज्ञात है कि तुम जीवन में

किस तरह से आगे बढ़ना चाहते हो तुम्हारे जीवन में धन की क्या अनिवार्यता है और

तुम्हारे जीवन में सुकून की क्या अहमियत है मुझे पता है तुम चाहे कितना भी दिखावा

कर लो तुम चाहे कैसे भी बातें क्यों ना कर लो लेकिन तुम्हारे भीतर सादगी भरी हुई है

तुम्हारे भीतर करुणा प्रेम भरा हुआ है अथाह प्रेम का सागर तुम में ही विलीन हो

रहा है इसलिए मुझे ज्ञात है कि तुम जीवन में किस दिशा में आगे बढ़ना चाहते हो

लेकिन अपनी जीत को पूरी तरह से अपने जीवन में उतार लेने के लिए तुम्हें अपनी जीव की

पुष्टि करनी ही होती है ऐसा करने से तुम्हारे अवचेतन मन तक यह संकेत जाता है

कि तुम इस कार्य के लिए पूरी तरह से तैयार हो और मैं तुम्हारा साथ देने के लिए पूरी

तरह से तत्पर हो जाती हूं क्योंकि यह प्रकृति का नियम है जिसके अनुसार मनुष्य

जाति कार्य करती है जीव जंतु कार्य करते हैं पेड़ पौधे झरने तालाब सब कुछ कार्य

करते हैं तुम्हें समझना होगा इन नियमों की गहनता को और उसके बाद इसे अपने जीवन में

लागू करना होगा सर्वप्रथम तुम जो चाह रहे हो उसकी पुष्टि करो उसकी पुष्टि करने के

लिए तुम्हें भाग्यशाली संख्या लिखना है और तुम जो भी चाहते हो तुम्हें अपनी उस

चाहत को पूरी तरह से अपने मन से निकालकर यहां लिख देना है ऐसा करने से धीरे-धीरे

तुम यह देख पाओगे कि तुम्हारे जीवन में परिवर्तन हो चुका है तुम यह जान पाओगे कि

तुम्हारा जीवन पूरी तरह से बदल चुका है इसलिए मेरे बच्चे तुम्हें कभी भी ना तो

चिंता करनी है ना आलस्य करना है और ना ही किसी तरह की परेशानी को अपने मन मस्तिष्क

में उतारना है मैं तुम्हारे जीवन में एक ऐसे व्यक्ति को भेज रही हूं जो तुम्हारे

जीवन की समस्याओं को पूरी तरह से हल कर देगा एक ऐसा व्यक्ति जो तुम्हारे जीवन में

आ रही किसी भी तरह की कठिनाई को समाप्त कर देगा साथ ही साथ तुम्हारे भीतर ऐसा

आत्मविश्वास भर देगा ऐसी ऊर्जा भर देगा कि तुम यह जान ही नहीं पाओगे कि तुम्हारे

भीतर क्या कमी है मेरे बच्चे ऐसा करना तुम्हारे लिए आवश्यक है अत्यंत आवश्यक है

तुम्हें जानना है कि तुम अपने जीवन में किस दिशा में आगे बढ़ना चाहते हो तो यह

जानने के लिए तुम्हें सर्वप्रथम ध्यान को अपना आधार बनाना होगा सर्वप्रथम तुम्हें

शांति से बैठकर इसका विचार करना होगा तुम अब आगे बढ़ चले हो तुम अब सही राह को पकड़

चुके हो इसलिए तुम्हें इस राह को त्यागना नहीं है तुम्हें इस तरह की भूल नहीं करनी

है जिससे तुमसे यह मार्ग छूट जाए मेरे बच्चे तुम इस मार्ग पर अकेले नहीं रहोगे

तुम इस मार्ग पर [संगीत]

हारोगेट दिलाने के लिए मेरे बच्चे तुम तक मेरा आशीर्वाद सदा ही पहुंचता रहेगा वो

सभी लोग जो तुम्हारा नुकसान करना चाहते हैं उन्हें इसकी कीमत उठानी पड़ेगी वह सभी

लोग थक कर हार जाएंगे वह जो तुम्हें नीचा दिखाना चाहते हैं वह अब मुह की खाएंगे

उन्हें जल्द ही यह एहसास होगा कि तुम्हारी ताकत कितनी सर्वोच्च है तुम्हारी ताकत

सर्वश्रेष्ठ है क्योंकि तुम पर मेरा हाथ है मेरे बच्चे इस माह के अंत तक तुम्हारा

जीवन ऐसा बदलेगा जैसा तुम विचार भी नहीं कर सकते तुम्हें ऐसी बहुमूल्य चीजें

प्राप्त होंगी जिसे मात्र प्राप्त कर लेने भर से जीवन बदलता जाता है जिसे मात्र पा

जाने से जीवन में आत्मविश्वास ऐसा बढ़ उठता है कि फिर उसे कभी हार का भय ही नहीं

रह जाता है तुम अब वह सब कुछ आकर्षित कर रहे हो तुम अब वह सब कुछ अपने जीवन में ला

रहे हो इसलिए मेरे बच्चे तुम भय का त्याग करो तुम डर का त्याग करो और प्रेम की अनंत

असीम ऊर्जा को अपने जीवन में उतर जाने दो तुम्हारे लहू में जो बह रहा है वह साहस

बनकर बह जाने दो और जब तुम्हारे खून में साहस बहेगा तो वह साहस कोई और नहीं होगा

मैं ही होंगी क्योंकि मैं और तुम एक हैं हम दोनों इस ब्राह्माण के पिंड ही है और

पिंड ही सर्वोच्च है इसका अर्थ यह हुआ कि हम दोनों ही शुरुआत है हम दोनों ही अंत है

हम एक है हम हम नहीं है हम मैं है और इसे

तुम्हें समझना होगा मेरे बच्चे जीत की असीम अनंत गाथा लिखने को तैयार हो जाओ अब

पूरी तरह से अपने मन बुद्धि चित्त को तैयार कर लो और जीत की राह पर पड़ चलो

मेरे बच्चे अब तुम्हारे सारे कष्ट सारी दुविधा एं दूर होंगी अब कोई तुम्हें हराने

वाला नहीं होगा अब कोई तुम्हें नीचे गिराने वाला नहीं होगा मैं सबको तुम्हारे

जीवन से दूर कर दूंगी और केवल उन लोगों को तुम्हारे करीब लाकर रखूंगी जो तुम्हारी

सहायता करें जो तुम्हारा समर्थन करें जो तुम्हारे प्रति केवल सहानुभूति का भाव ना

रखें बल्कि तुम्हें आगे बढ़ाने के लिए तुम्हारी प्रेरणा बने और जिनके भीतर

तुम्हारे प्रति प्रेम हो गहरा असीम सच्चा प्रेम मेरे बच्चे अब तुम्हें शांत होना है

तुम्हें सरल होना है पानी के बहाव की तरह निर्मल होना है स्वच्छ होना है और जीवन

में आ रही चुनौतियों को तहे दिल से स्वीकार करना है यह सीखना है कि जो

तुम्हारे साथ हो रहा है वह कैसे घटित हो रहा है यह देखना है

कि तुम तुम होते हुए भी कुछ और हो दृष्टा की भाति तुम्हें अपने जीवन की सभी

गतिविधियों का आकलन करना है और ऐसा करने पर ही तुम मुक्ति को प्राप्त करोगे यह

मुक्ति इसी जीवन में संभव है और तुम इस राह पर आगे बढ़ चले हो तुम्हारा जो जीवन

बह रहा है उसे थामने की आवश्यकता नहीं है केवल इस भाव के साथ स्वयं को बेहतर करने

की आवश्यक सता है फिर तुम पर प्रकाश उमड़े ऐसे सितारे तुम्हारे स्वागत में खड़े हो

जाएंगे कि तुम्हारा जीवन प्रसन्नता से और गरिमा से भर

जाएगा मेरे बच्चे एक बात सदा याद रखना कि परिस्थिति चाहे जैसी भी हो तुम्हें जीतना

है और इसमें तुम्हें अपने आप को कभी भी अकेला नहीं समझना है क्योंकि मेरी

शक्तियां तुम्हारा समर्थन सदैव करेंगी और मेरा आशीर्वाद तुम पर सदा ही बना रहेगा

सदा सुखी रहो मेरे आने वाले संदेशों की प्रतीक्षा करना क्योंकि मैं फिर आऊंगी

तुम्हें सही मार्ग दिखाने के लिए जीत के मार्ग तक पहुंचाने के लिए तुम्हारा कल्याण

हो जय हो माता रानी हर हर महादेव मेरे बच्चे यह बहुत ही विशेष संदेश

आज तुम तक पहुंचाया जा रहा है नियति का आशीर्वाद बनक यह संदेश तुम्हें प्राप्त हो

रहा है तुम्हें यह संदेश प्राप्त होना यह प्रमाणित कर रहा है कि तुम दिव्यता के अंश

हो तुम अब वह हासिल करने वाले हो जो तुम्हारे भाग्य को जगाने के बाद तुम्हारे

मन मस्तिष्क को भी आत्मविश्वास से भर देगा इसकी सूचना तुम्हें शीघ्र ही मिलने वाली

है और यह केवल नियति का वरदान नहीं है बल्कि यह तो तुम्हारे ही कर्मों का फल है

और अब तुम्हारी प्रतीक्षा हों का अंत हो रहा है इसलिए मेरे बच्चे किसी भी

परिस्थिति में इस संदेश को पूरा सुनना बीच में छोड़कर जाने की भूल ना करना वरना तुम

इस लाभ से वंचित रह जाओगे क्योंकि अब तुम्हारे मार्ग में जितनी भी कठिनाइयां आई

थी वह सब समाप्त हो रही है अब तक जो कुछ भी हो रहा था वह एक चक्र का हिस्सा था वह

अब अपनी पूरी चाल चल चुका है अब सफलता और उपलब्धियां वास्तविक रूप से तुम्हारे

मार्ग में आ चुकी है अब तुम्हारा नाम उस स्थान पर भी सम्मान से पुकारा जा रहा है

जहां पर अभी तक तुम्हारे कदम पड़े ही नहीं है इसलिए मेरे बच्चे इस भाग्य उदय के लिए

अपने आप को पूरी तरह से तैयार कर लो अपने मन मस्तिष्क को पूरी तरह से तैयार कर लो

क्योंकि जब मनुष्य के जीवन में चमत्कार घटने वाला होता है तब वह एक विशेष प्रकार

के परिवर्तन का अनुभव करता है यह परिवर्तन उसके ही हृदय से उत्पन्न होती है और उसके

मस्तिष्क में होती हुई उसके पूरे शरीर और परिस्थितियों में दिखाई देती है और

तुम्हारे जीवन में उसी प्रकार का परिवर्तन हो रहा है मेरे बच्चे स्वर्ग में बैठे तुम्हारे

अपने कुछ पूर्वज तुम्हारी दशा देखकर काफी चिंतित रहे हैं वह परेशान हो रहे हैं

क्योंकि तुम अपने ही पूर्वजों के अंश हो तुम अपने जीवन के द्वारा उन्हीं पूर्वजों

के स्वप्न को भी साकार कर रहे हो वह स्वप्न जिनका तुम्हें ज्ञान नहीं है वह

स्वप्न जो बहुत पहले नियति द्वारा रचित हो गए थे वह स्वप्न जिसे अब तक साकार हो जाना

चाहिए था वो स्वप्ना जो तुम रे अपनों ने देखे थे वह अब तुम्हारे शरीर के द्वारा

संपन्न कराए जाएंगे क्योंकि मेरे बच्चे हर कोई इस

स्वप्न को साकार करने में सक्षम नहीं होता हर कोई उस जिम्मेदारी को उठाने में सक्षम

नहीं होता जिससे इस संसार को बचाया जा सके जिससे एक कुल को बचाया जा सके जिससे

मानवता को बचाया जा सके जिससे धर्म की रक्षा की जा सके लेकिन तुम में वह

सामर्थ्य है तुम में वह क्षमता है कि तुम सृजनात्मक हो सकते हो कि तुम संसार को बचा

सकते हो कि तुम अपने कुल को बचा सकते हो कि तुम उन सभी के स्वप्न को पूर्ण कर सकते

हो जो इस संसार में मौजूद नहीं है किंतु कभी उनकी चेतना कभी उनकी बुद्धि इस संसार

में हुआ करती थी और वह एक स्वप्न देखा करते थे ऐसा स्वप्न जिसे पूर्ण किया जाना

अत्यंत आवश्यक है और यही कारण है कि अब तुम्हारे आसपास तुम्हें बहुत सी दिव्य

शक्तियों का आभास होने वाला है तुम्हारे पास में अब कुछ ऐसा होगा जो सामान्य नहीं

है जो देखने में तो तुम्हें सामान्य लगेगा किंतु तुम्हारे मन में घबराहट हो सकती है

थोड़े डर के भी भाव आ सकते हैं तुम्हें ऐसा लगेगा जैसे कोई तुम्हारे करीब है

जैसे कोई तुम्हें छू रहा है जब रात्रि में तुम अपने बिस्तर पर करवट बद लोगे जब तुम

रात्रि में सो रहे होगे तो अचानक से तुम्हारी नींद खुल सकती है तुम्हें ऐसा लग

सकता है कि कोई तुम्हारे पास ही बैठा हुआ है तुम्हें ऐसा लग सकता है जैसे कोई अभी

आकर तुमसे बात कर लेगा तुम्हें ऐसा लग सकता है जैसे कोई निरंतर तुम्हें देख रहा

है और तुम घबरा सकते हो घबराहट और बेचैनी तुम पर छा सकती है लेकिन मेरे बच्चे मैं

तुम्हें यही बताने आई हूं कि ऐसी परिस्थिति में तुम्हें घबराना नहीं है ऐसी

परिस्थिति में तुम्हें भयभीत नहीं होना है इस परिस्थिति में तुम्हें चिंतित नहीं

होना है क्योंकि वह जो दिव्य आत्मा तुम्हारे पास में है वह कोई साधारण दिव्य

आत्मा नहीं है वह कोई नकारात्मक दिव्य आत्मा नहीं है वह पूरी तरह से सकारात्मक

है और तुम्हारा समर्थन देने के लिए ही तुम्हारे पास वहां आया है मेरे बच्चे वह

तुम्हारा ही एक पूर्वज है जो बहुत साल पहले इस धरा पर तुम्हारे ही भेष में आया

था जो बहुत साल पहले एक सपने को पूर्ण करना चाहता था जो एक साधारण से जीवन को भी

उच्च श्रेणी का जीवन बनाना चाहता था जिसे देखकर लोगों के मन में प्रेरणा उत्पन्न हो

जिसे देखकर लोगों के मन में करुणा प्रेम और दया की भावना जागृत हो मेरे बच्चे

तुम्हें इसका ज्ञान नहीं किंतु जिस दिन तुम अपने इस पार्थिव शरीर को छोड़कर इस

भूलो को त्यागो ग उस दिन तुमसे प्रेरणा लेकर बहुत सारे जीवों में बहुत सारे

मनुष्यों में वह करुणा वह प्रेम और वह दया भाव जागृत होगी जो इस मानवता के लिए जो इस

संसार के लिए जो इस धरती के लिए अत्यंत आवश्यक है मेरे बच्चे तुम्हें इसका ज्ञान

नहीं है कि तुम्हारे उद्देश्य की पूर्ति तुम्हारे बिना भी हो जाएगी लेकिन तुम्हारा

होना एक ऊर्जा के संगठन को बढ़ावा देता है तुम्हारा होना एक प्रकाश पुंज की तरह है

जो अपने प्रकाश को चारों ओर दिव्य रूप में फैला देता है तुम उस प्रकाश स्तंभ की तरह

हो जो अंधेरे में भी एक झोपड़ी में रोशनी कर सकता है जो एक स्थान पर रोशनी का पूरा

भंडार फेंक सकता है मेरे बच्चे किसी विशेष योजना के लिए ही तुम्हारा जन्म हुआ है

किसी विशेष योजना के लिए ही तुम्हारा चुनाव हुआ है तुम क्यों अपने आप को साधारण

मानते हो क्यों व्यर्थ के बातों में फसते हो क्यों भौतिकता के इस माया जाल में

फंसकर अपने विचार को छोटा बना चुके हो क्यों तुम वह नहीं देख पा रहे हो जो यह

संसार तुम्हें दिखाना चाहता है जो यति तुम्हें दिखाना चाहती है क्यों कर्मकांड

के माया जाल में फंस गए हो क्या सही है क्या गलत है क्या होना चाहिए क्या नहीं

होना चाहिए क्या उचित है क्या अनुचित है क्या मैंने सही किया या मैंने गलत किया

मुझे ऐसा नहीं करना चाहिए था मुझे वो नहीं करना चाहिए था मुझे ऐसा कर देना चाहिए था

काश मैंने ऐसा कर दिया होता इस तरह के भाव और इस तरह के विचारों में तुम उलझ कर रह

गए हो मेरे बच्चे मैं तुम्हें बताना चाहती हूं कि यह व्यर्थ की बातें हैं इनका

तुम्हारे जीवन में कोई मूल्य नहीं है तुम जो हो वह इनसे कहीं ऊपर हो किंतु तुमने

अपने आप को एक सीमित दायरे में बांध लिया है तुमने अपने आप को ऐसे जकड़ लिया है

जैसे इससे आगे तुम्हारा कोई अस्तित्व नहीं है लेकिन मेरे बच्चे तुम तो सूर्य के अंश

हो तुम्हारे तो जीवन का उदय हो रहा है तुम्हारी प्रार्थनाएं मुझ तक पहुंच रही है

तुम्हारा भाग्य उदय हो रहा है तुम वह हो जो श्रेष्ठता की श्रेणी में आता है तुम वह

हो जिसे होना ही चाहिए तुम वह हो जो लोगों के लिए भी एक मार्ग प्रशस्त करोगे वह लोग

जो शैतान के चंगुल में ना फसक जो नकारात्मकता की सीढ़ियों को ना अपनाकर जो

केवल भौतिकता का जीवन ना सोचकर अध्यात्म की ओर बढ़ना चाहते हैं तुम उनके लिए ऊर्जा

के वह स्तंभ हो जिसका तुम्हें अभी ज्ञान ही नहीं है वह स्तंभ जिसके क्षेत्र मात्र

में आने से ही कोई पूरी तरह से सकारात्मक हो सकता है जिसके आसपास भटकने मात्र से ही

लोग पवित्र हो जाया करते हैं तुम पवित्र हो तुम पुण्य हो किंतु तुम्हें अभी इसका

ज्ञान नहीं है तुमने अपने आप को बहुत नीचे मान लिया है तुमने अपने आप को बहुत छोटा

मान लिया है तुम्हें लगता है कि तुम बहुत

नीचे हो क्योंकि तुम्हारे पास अभाव है तुमने ने अपने आप को अभावों से ही तौल

लिया है तुमने अपनी तुलना अभावों के माध्यम पर की है कभी झांक कर नहीं देखा कि

तुम्हारे विचार कितने प्रगतिशील है कभी झांक कर नहीं देखा कि तुम वह हो जो अपने

कुल में इतने आगे तक आए हो मेरे बच्चे विचार करो और मुझे बताओ कि ऐसा कौन है

तुम्हारे परिवार में ऐसा कौन है तुम्हारे समाज में ऐ ऐसा कौन है तुम्हारे आसपास जो

तुमसे ज्यादा प्रगतिशील विचार रखता हो ऐसा कौन है जो अध्यात्म की लाठी पकड़कर इतना

आगे आया हो मेरे बच्चे कुछ लोगों को देखकर तुम्हें भ्रम हो सकता है कि वह बहुत आगे आ

चुके हैं कुछ लोगों को देखकर तुम्हें बहुत भ्रम हो सकता है कि वह अहंकार को त्याग

चुके हैं लेकिन यदि उन्होंने त्याग ही दिया तो वह प्रचार प्रसार क्यों कर रहे हैं तो

वह अपनी बातें लोगों तक क्यों पहुंचाना चाह रहे हैं मेरे बच्चे जो अध्यात्म को प्राप्त हो

जाता है उसे संसार के भौतिकवादी चीजों से भला क्या लाभ उसे क्या सोचना कि क्या सुख

है क्या दुख है उसके लिए तो सब कुछ समान है उसके लिए तो दाल रोटी भी किसी मशहूर

पकवान की तरह है उसके लिए ये तो सब कुछ एक समान हो जाता है उसे क्या प्रयोजन इस बात

से कि क्या उसे प्राप्त हो रहा है क्या नहीं हो रहा है उसे क्या प्रयोजन इस बात

से कि क्या संसार में अच्छा है और क्या बुरा है और जब सब माता का ही बनाया हुआ है

तो इसमें बुरा और अच्छा कहां है यह तो मनुष्य की विचार मनुष्य की सोच तय करती है

कि क्या अच्छा क्या बुरा सीमा से ज्यादा की गई कोई भी कार्य बुरी

हो सकती है जिस कार्य में मनुष्य अपनी सीमा को भूल जाता है जिस कार्य में मनुष्य

हद पार कर देता है वह कभी बेहतर नहीं होता फिर चाहे वह कितनी ही अच्छी आदत क्यों ना

हो आदतो से मुक्त होना होगा मान्यताओं से मुक्त होना होगा लोगों के विचारों से

मुक्त होना होगा क्योंकि यही है जो मनुष्य को फसाए हुए हैं यही है जो मनुष्य को आगे

नहीं बढ़ने दे रहे हैं तुम्हें क्या प्रयोजन इस बात से कि

कौन तुम्हारे बारे में क्या सोच रहा है तुम्हें क्या प्रयोजन इस बात से कि कौन

क्या चाहता है तुम तो केवल अपना विचार करो क्योंकि जब तुम इस धरा पर जन्म लिए थे तो

तुम अकेले ही आए थे ना कोई नाम ना कोई पद ना कोई प्रतिष्ठा था तुमने जो लिया इसी

संसार से लिया है और जो दोगे इसी संसार को दोगे जब तुम अपना शरीर त्यागो ग तो सब कुछ

यहीं पर धरा का धरा रह जाएगा और उसका कोई लाभ नहीं होगा इसलिए मेरे बच्चे तुम्हें

नाम पद प्रतिष्ठा इन सबसे ऊपर सोचना होगा लोगों की नजरों में अच्छा बनने से ऊपर

सोचना होगा यह सोचना होगा कि लोग तुम्हारे बारे में क्या सोचते हैं यह तुम्हारे लिए

श्रेयस्कर या महत्त्वपूर्ण नहीं है क्योंकि यदि यही महत्त्वपूर्ण होता तो

प्रारंभ में ही तुम्हें यह सब प्रदान कर दिया गया होता यह सब जो तुमने अर्जित किया

है यही तो अहंकार है यही तो वह है जो तुम्हें खुश नहीं होने दे रहा है इसलिए इन

सबका विचार त्याग दो और वास्तविक स्वतंत्रता वास्तविक मुक्ति पर ध्यान लगाओ

मेरे बच्चे तुम्हारे मार्ग में जो सफलता खड़ी है उस सफलता को तुम्हें उठाना है

सफलता को तुम्हें प्राप्त करना है अपने भीतर झा को और गौर से देखो होश पूर्वक

देखो कि जो तुम चाहते हो वह तुम्हें पहले से ही मिला हुआ है वह तुम्हारे सामने ही

है तुम भाग रहे हो एक धरा रेस में एक ऐसी दौर में जिसमें कोई जीत नहीं सकता यदि कोई

जीत सकता है तो केवल और केवल एक चीज में और वह है प्रेम में और प्रेम जब मनुष्य को

ईश्वर से होता है अपनी माता से होता है तभी वह जीतता है तभी उसे सब कुछ हासिल हो

पाता है मेरे बच्चे भौतिकवादी वस्तुओं को पाने के लिए पहले उनका विचार त्यागना होता

है तुम जिस प्रेम को पाना चाहते हो यदि सदा उसी प्रेम का विचार करते रहोगे यदि

सदा उसी के बारे में सोचते रहोगे तो एक ऐसे बंधन में एक ऐसे जंजीर में स्वयं को

जकड़ते चले जाओगे जो अदृश्य है जो दिखाई नहीं देती किंतु मेरे बच्चे उसकी बेड़िया सबसे

मजबूत होती है आदतों का त्याग करो फिर चाहे वह अच्छी हो या बुरी हो और अनुशासन

का पालन करो जब मैं अनुशासन की बात कर रही हूं तो यहां मैं इस अनुशासन की बात नहीं

कर रही कि तुम कब सोते हो कब जागते हो कब खाते हो कब क्या कार्य करते हो अनुशासन का

अर्थ तो यह है कि जो तुम्हारे लिए अनिवार्य है जो तुम्हारे लिए करना ही करना

है उस कार्य को तुम्हें हर हाल में सर्वप्रथम प्राथमिकता देकर कर देना है

उसके बारे में तुम्हें यह नहीं सोचना है कि तुम्हारी इच्छा हो रही है या नहीं उसके

बारे में तुम्हें यह नहीं सोचना है कि तुम्हारा मन लग रहा है या नहीं तुम्हारा

मन लगे या ना लगे तुम्हारी इच्छा हो या ना हो जो कार्य तुम्हारे लिए अनिवार्य है जिस

कार्य के बिना तुम्हारा जीवन रुका सा प्रतीत होता है तुम्हें वह हर हाल में कर

ही देना है उसके बारे में तनिक भी विचार नहीं करना है सफलता तो तुम्हारे सामने है

जीत तो तुम्हारे सामने ही है अब बस एक और कदम बढ़ाने की देरी है लेकिन मेरे बच्चे

तुम्हें समझना है तुम्हें जांचना है तुम्हें देखना है कि वह क्या है जो तुमसे

छूट रहा है वह क्या है जो तुम्हें रोक रहा है अपने भीतर झा को होश पूर्वक

देखो मेरे बच्चे तुम अब सफलता को ही प्राप्त कर रहे हो कोई और चीज नहीं है जो

तुम्हें हासिल हो रही है लेकिन ऐसे कौन से आवण है ऐसे कौन से मुखौटे हैं जो तुम्हें

रोक रहे हैं मेरे बच्चे संसार में मनुष्य ने बहुत

से मुखौटे धारण किए हैं वह किसी के सामने कुछ और तो किसी के सामने कुछ और बनते हैं

और उन्हें लगता है कि यह उचित है उन्हें लगता है कि ऐसा करना ही सही होता है

लेकिन मेरे बच्चे मैं तुमसे कहती हूं कि तुम किसी प्रकार का आवर ना ढको और दृष्ट

की भाति केवल अपने जीवन को देखते जाओ देखते जाओ कि तुम्हारा यह शरीर क्या कार्य

कर रहा है देखते जाओ और मुस्कुराते जाओ कि तुम्हारे जीवन में कौन सी परिस्थितियां आ

रही है देखते जाओ और देखो कि तुम्हारा यह मन तुम्हारी यह बुद्धि तुम्हारा यह शरीर

विभिन्न परिस्थितियों में कैसे व्यवहार कर रहा है जब तुम होश पूर्वक इसे देखने लगोगे

तो तुम्हें यह ज्ञान होगा कि तुम जो कर रहे हो उसमें क्या कमी है और जो तुम कर

रहे हो उसमें और क्या करना चाहिए मेरे बच्चे अपनी अच्छाइयां और

बुराइयां तुम्हें स्पष्ट रूप से दिखने लगेंगी इससे भी ऊपर तुम्हें ईश्वर का

साक्षात्कार होगा और जब मनुष्य के साथ ऐसा होता है तो उसके लिए जीवन सदा ही सुखमय हो

जाता है क्योंकि तब वह वास्तविक सुख को समझ लेता है तब वह समझ लेता है कि सिक्के

के दोनों पहलू क्या कह रहे हैं तब वह समझ लेता है कि जो वह पाना चाहता है वह उससे

दूर कभी हुआ ही नहीं था बस यह उसके मन का भ्रम था जो उसे रोक रहा था तब उसे यह समझ

आता है कि संपूर्ण संसार उसके भोग के लिए ही है परमात्मा का एक नाम महा भोगी भी है

क्या तुम्हें इसका ज्ञान है इसका अर्थ यह है कि इस संसार में सब कुछ भोगने योग्य है

किंतु यह तुम्हारी नियत है और तुम्हारी नियत है जो यह तय करेगी कि क्या तुम उसे

भोगने के योग्य भी हो मेरे बच्चे तुम सृजन करता हो मैं तुमसे निरंतर य बात बताई जा

रही हूं तुम्हें ध्यान पूर्वक सोचना है अपने भीतर झांकना है और समझना है कि आखिर

तुम सृजन करता किस रूप में हो तुम ही वह सब कुछ हो जिसकी तुम कल्पना करते हो तुम

ही वह एक हो जिसे तुम पाना चाहते हो तुम्हारे भीतर ही वही ब्रह्मा है जिस

ब्रह्मा की तुम आराधना करते हो तुम उससे अलग नहीं हो मेरे बच्चे जिसे तुम मांग रहे

हो तुम मुझसे अलग नहीं हो और तुम व थोड़े ही है हम दोनों तो एक हैं अद्वैत है हम ही

प्रकृति है हम ही पुरुष है अर्थात मैं और तुम दोनों एक है तुम भी प्रकृति मैं भी

प्रकृति किंतु मेरे बच्चे तुम्हें समझना है कि इसका अर्थ क्या है तुम्हें इसके

गहनता में उतरना है और इससे भी ज्यादा तुम्हें यह सोचना है कि तुम्हारा जीवन किस

दिशा में जा रहा है तुम्हें यह सोचना है कि तुम्हारे लिए क्या प्राथमिक है तुम्हें

यह सोचना है कि वह कौन है जो तुम्हारे लिए प्राथमिक है मेरे बच्चे तुम्हें ज्ञात

नहीं किंतु इस संसार में केवल एक सत्य है और वह तुम हो बाकी सभी तो तुम्हारे

प्रयोजनों को सिद्ध करने के लिए तुम्हारे ही द्वारा निर्मित तुम्हारे मन बुद्धि

विकार से उत्पन्न हुए हैं बाकी सब कुछ जो तुम देख रहे हो जो तुम नहीं देख रहे हो जो

तुम देखना चाहते हो जो तुम नहीं देखना चाहते हो जो है जो नहीं है जो था जो कभी

नहीं था वह सब कुछ तुम्हारे ही मन बुद्धि विकार चित्त चेतना से उत्पन्न हुए हैं

इसमें कुछ भी ऐसा नहीं जो तुम्हारे संसार के बाहर हो इस संसार में सब कुछ पहले से

ही था यह तुम्हारी परिस्थिति है जो तुम्हारे समक्ष घटित हो रही है इसकी गहनता

में उतरना जो मैं तुम्हें बता रही हूं यह सधी छिछली बातें नहीं है यह एक गुण रहस्य

है जिसका विचार करते-करते एक दिन तुम्हारा परमार्थ सिद्ध हो जाएगा जिसका विचार

करते-करते एक दिन तुम्हारे भीतर प्रेम का ज्वाला फूट पड़ेगा एक एक दिन प्रेम की

तरंगे तुम में बह निकलेंगी वह प्रेम जो तुम्हारे भीतर

विराजमान है वह प्रेम जो करुणा बनकर तुम्हारी आंखों से बह जाता है वह प्रेम

जिसे तुम पाना चाहते हो वह प्रेम जो वास्तविक है जो सच्चा है जो सत्य है जो

सच्चित परम आनंद है मेरे बच्चे मैं जो कह रही हूं उसके रहस्य को समझो क्योंकि जी

तुम्हारे ही सामने खड़ी है जीत तुमसे से दूर नहीं है कहीं तुम अपने आवेश में आकर

कभी तुम आवण को ओड़कर ऐसा ना कर बैठो कि तुम सत्य को पहचान ना पाओ सफलता को

स्वीकार ना कर सको वह जो तुम्हारे सामने है उसे अपने हाथों में उठा ना पाओ व जो

तुम्हें मिल ही रहा है उसका त्याग कर डालो मेरे बच्चे तुम अब जीत के बहुत करीब हो

इसलिए उसे स्वीकार कर ही डालो इसकी पुष्टि कर ही डालो सारी बातें भूल जाओ क्योंकि जब

तक तुम में भय होगा तुम यह समझ नहीं पाओगे इसलिए सर्वप्रथम सभी प्रकार का भय त्याग

दो भविष्य में क्या होगा इस बात का भय त्याग दो जिस वजह से तुम आज तक जीवन जीते

आए हो वह वजह आगे भी रहेगी जिस चीज के कारण तुम में इतना सामर्थ्य रहा है कि तुम

आज तक लड़ते आए हो वह आगे भी रहेगा किंतु मेरे बच्चे तुम्हें अपने मन

मस्तिष्क से यह विचार त्यागना होगा कि तुम्हारी राह में बाधा आएंगी तुम्हें अपने

मन मस्तिष्क से यह विचार त्यागना होगा कि अब सुख मिल रहा है तो दुख निश्चित तौर पर

आएगा इस संसार में तुम्हें कुछ भी दुख जैसा देखना ही नहीं है फिर चारों तरफ सुख

ही सुख होगा फिर चारों तरफ सुख के अलावा कुछ शेष रहा ही नहीं

जाएगा मेरे बच्चे तुम अब वह पाने वाले हो जो पाना हर मनुष्य का स्वप्न होता है और

यह वही स्वप्न है जिसे तुम्हें पूर्ण करना है इस सत्य के मार्ग पर आगे बढ़ते हुए

मनुष्य को रोकने की साहस इस संसार में किसी में नहीं है फिर चाहे वह कोई देवदूत

हो चाहे वह कोई देवता हो चाहे वह नकारात्मक ऊर्जा हो चाहे वह कोई शैतान ही

क्यों ना हो फिर मनुष्यों की क्या विसा जो सत्य के मार्ग में आगे आ रहे मनुष्य को

रोक दे किसी जीव की क्या विसा जो अध्यात्म के मार्ग को पकड़कर चलने वाले मनुष्य के

राह में बाधा बन सके मेरे बच्चे जो तुम्हारे राह में बाधा

बनेगा मैं उसके पाप काट दूंगी जो तुम्हारे राह में बाधा ब बनेगा मैं उसके जीवन को हर

लूंगी क्योंकि ऐसा होना चाहिए क्योंकि ऐसा होता ही है क्योंकि यही एक विकल्प है मेरे

बच्चे तुम जो सोच रहे हो कि वह तुम्हें हरा देंगे तुम्हारी यह सोच असत्य है तुम

जो सोच रहे हो कि वह तुम्हें जीतने नहीं देंगे ऐसा कभी संभव हो ही ना पाएगा वह

चाहे कितनी ही चाले क्यों ना चल ले चाहे कि ने ही षड्यंत्र क्यों ना रच ले चाहे

कितनी ही राजनीति यां क्यों ना खेल ले लेकिन तुम्हें हानि नहीं पहुंचा

सकते मेरे बच्चे वह हट जाएंगे वो विलुप्त हो जाएंगे तुम्हारी आंखों से ओझल हो

जाएंगे उनका अस्तित्व मिट जाएगा उनका वर्चस्व समाप्त हो जाएगा क्योंकि मैं

तुम्हारे साथ हूं क्योंकि मैं ही तुम हूं क्योंकि मैं सृजन करता हूं क्योंकि तुम

सृजन कर हो और जो सृजन करता होता है वह संघार भी होता है वही पालन करने वाला भी

होता है मेरे बच्चे जिस विचार को तुमने जन्म दिया जिस विचार को तुम पालते आए हो

उस विचार का संधार भी तुम करोगे मैं तुम में ऊर्जा बनकर विलीन हो जाऊंगी तुम में

साहस बनकर उसे समाप्त कर दूंगी मैं कोई और नहीं हूं तुम्हारे भीतर ही हूं मैं वही ही

हूं जिसकी तुम कामना करते आए हो मैं वही हूं जिसको तुम विचारों से नहीं निर्मित कर

सकते मैं वह हूं जो सदा से तुम में रही हूं मैं वही हूं जो सदा सदा तुम में

रहूंगी मैं ही अतीत मैं ही भविष्य लेकिन तुम मुझे हर जगह तलाश रहे हो किंतु मेरे

बच्चे एक ऐसा स्थान है जहां तुम मुझे देख नहीं पा रहे हो वही वह स्थान है ज मैं

तुम्हें मिलूंगी और वह है तुम्हारा वर्तमान मैं सर्वत्र हूं मैं तुम्हारे

वर्तमान में हूं किंतु तुम मुझे यहां वहां ढूंढ रहे हो मेरे बच्चे तुम्हें ज्यादा

दिमाग नहीं लगाना है तुम्हें ज्यादा चेष्टा नहीं करनी है तुम्हें ज्यादा

प्रयत्न नहीं करना है बस कोष पूर्वक एक बार मेरा विचार करो होष पूर्वक मुझे

ढूंढने का प्रयत्न करो मैं तुमसे दूर नहीं हूं हर जगह हर उत्कृष्टता में मैं मौजूद

हूं तुम्हारे साहस में हूं तुम्हारे आत्मविश्वास में हूं मेरे बच्चे एक बार

तुम भय को त्याग कर साहस को अपने भीतर समाहित करो मैं तुम में इतनी ऊर्जा भर

दूंगी कि तुम इस संसार को जीतने की क्षमता रख लोगे मैं तुम में इतना साहस भर दूंगी

कि तुम्हारा आत्मविश्वास ऐसा हो जाएगा कि मानो तुम्हारे सामने कोई दिख ही ना पाए

तुम जीभ के बहुत करीब हो मेरे बच्चे इस बात को ध्यान पूर्वक सुनो बस तुम में साहस

की कमी हो रही है तुम में मेरी कमी हो रही है इसलिए तुम्हें भय को त्यागना है इसलिए

तुम्हें हर हाल में किसी भी प्रकार के भय को पनपने नहीं देना है वो भय जो भविष्य

तुम्हें दिखा रहा है वह भय जो अतीत तुम्हें दे रहा तुम्हें हर तरह के डर को त्यागना है मैं

तुम्हारे पास हूं तुम्हारी आंखों में हूं तुम्हारे हृदय में हूं तुम्हारे शरीर के

प्रत्येक अंग में खून बनकर मैं ही दौड़ रही हूं मैं तुमसे अलग नहीं हूं मेरा

विचार करो मेरे बच्चे तुम जीत के बहुत करीब हो और एक बात याद रखो चाहे परिस्थिति

कोई भी हो मैं तुम्हें छोड़कर नहीं जाऊंगी मैं तुम्हे कमजोर नहीं पड़ने दूंगी

तुम्हें मेरा आशीर्वाद सदा तुम्हारा साथ देगा मेरी शक्तियां सदैव तुम्हारे साथ

रहेंगी मेरे आने वाले संदेशों की प्रतीक्षा करना मैं आऊंगी तुम्हारा हाथ

पकड़कर तुम्हें सच्चाई के मार्ग पर अध्यात्म के मार्ग पर आगे ले जाने के लिए

तुम्हें जीव दिलाने के लिए तुम्हारा कल्याण हो जय हो माता रानी हर हर

महादेव मेरे बच्चे अब आने वाले कुछ ही घंटों के भीतर तुम्हारे जीवन में एक नया

आशीर्वाद प्रवेश कर रहा है अब तुम्हारे स्वर्णम युग की शुरुआत होने जा रही है

ईश्वर की ओर से आपके लिए एक जादुई उपहार भेजा जा रहा है जो ना केवल तुम्हें

प्राप्त होगा बल्कि तुम्हारे पूरे परिवार पर भी छा जाएगा और सबके दिलों को खुशी से

प्रसन्नता से भर देगा यदि तुम्हें इस पहार की जरूरत है तो अभी इस संदेश को लाइक कर

दो और इस संदेश को पूरा सुनना इसे बीच में छोड़कर जाने की भूल ना करना क्योंकि यह

माह तुम्हारे लिए सव युग की शुरुआत कर रहा है इस समय में तुम्हारे लिए अद्भुत

योजनाएं बन रही है जो तुम्हारे लिए सर्वप्रथम तुम्हारे धन का मार्ग खोलेगी

मेरे बच्चे जो आशीर्वाद तुम्हें प्राप्त हो रहा है यह तुम्हारे कर्मों और तुम्हारे

प्रार्थनाएं के फल स्वरूप ही प्राप्त हो रहा है दिव्य लोक में बैठे तुम्हारे

पूर्वज तुमसे अत्यंत प्रसन्न है इसलिए वह तुम्हारे रास्ते में सकारात्मक ऊर्जा

चमत्कार और जीवन को पूरी तरह से बदल देने वाले आशीर्वाद की लहरें भेज रहे

हैं वह सदा यही चाहते हैं कि तुम अपने वंश में अपने कुल में सबसे सर्व श्रेष्ठ

मनुष्य बनो क्योंकि तुम में वह क्षमता है वह प्रतिभा है मेरे बच्चे यह आशीर्वाद

तुम्हें प्राप्त करना ही होगा क्योंकि इसे प्राप्त करने के बाद ही तुम ना केवल अपने

कुल का गौरव बनोगे ना केवल अपने वंश का नाम रोशन करोगे बल्कि तुम इसके साथ-साथ ही

समाज में अन्य समुदायों का भी लाभ पहुंचाओ ग क्योंकि तुम्हारे भीतर इतनी करुणा इतनी

दयालु है कि तुम किसी को भी दुख में नहीं देख पाओगे मैं तुम्हारी आत्मा और तुम्हारे

जीवन को ऐसे आशीर्वाद से भर देना चाहती हूं कि तुम्हारे जीवन में सर्वप्रथम कभी

भी धन की कमी ना हो तुम्हारे विचार उच्च श्रेणी के हैं उच्च कोटि के हैं लेकिन धन

की कमी की वजह से तुम अपने विचारों को उचित ढंग से लागू नहीं कर पाते तुम जो

करना चाहते हो उसमें धन की कमी तुम्हारे लिए कई बार बाधा बन जाती है मैं इसे दूर

करना चाहती हूं मेरे बच्चे यह एक परीक्षा भी होगी

क्योंकि जब मनुष्य के पास धन की अधिकता आती है तब उसके व्यवहार में भी परिवर्तन

आता है तुम्हें ऐसी परिस्थिति में अपने संयम और नियंत्रण को खोना नहीं है जीत के

लिए तैयार रहो यह जीत तुम्हें ना केवल आर्थिक रूप से मिले मिी बल्कि यह जीत

आध्यात्मिक सामाजिक और प्रेम जीवन में भी मिलेगी मेरे बच्चे तुम एक जादुई मौसम में

प्रवेश कर रहे हो और इसमें जाने से तुम्हें कोई रोक नहीं सकता किंतु यहां भी

तुम्हें चुनाव करना होगा क्योंकि जब मनुष्य भव्यता की ओर जाता है तो उसे बहुत

चकाच दिखती है और एक ही तरह के कई प्रतिबिंब नजर आते हैं मेरे बच्चे तुम्हें

भी अपनी जीत के कई प्रतिबिंब दिखेंगे तुम्हारा दर्द समाप्त हो जाएगा तुम्हारे

आंसू जाएंगे और तुम्हारे लिए जीवन बदलने वाले द्वार स्वतः ही खुल जाएंगे लेकिन

तुम्हें चयन करना होगा मेरे बच्चे मैं जानती हूं कि तुम

कितने मजबूत और ताकतवर हो लेकिन जब मैं कहती हूं कि तुम मजबूत हो सशक्त हो ताकतवर

हो तो तुम्हें इस पर पूर्ण विश्वास करना होगा क्योंकि यह वर्ष तुम्हारे लिए

महत्त्वपूर्ण परिवर्तन सफलताएं और चमत्कार लेकर आ रहा है मेरे बच्चे मेरा लक्ष्य

तुम्हें आध्यात्मिक और आर्थिक रूप से पूरी तरह से सशक्त बनाना है तुम्हारे जैसी कुछ

पुण्य आत्माओं को यह लाभ मिलना ही चाहिए एक ऐसे जीवन की कल्पना करो जहां तुम्हारा

स्वास्थ्य पूरी तरह से ठीक एक खजाने के रूप में हो और संकल्प करो कि चाहे

परिस्थिति कैसी भी हो जाए तुम कभी स्वयं को दुख नहीं पहुंचाओ ग कभी स्वयं के बारे

में दुखी शब्दों का नकारात्मक शब्दों का प्रयोग नहीं करोगे मेरे बच्चे तुम अद्वितीय हो तुम

पूरी तरह से ऊर्जावान विचारों से भरे हुए हो तुम्हें ऐसी कल्पना निरंतर करती रहनी

चाहिए तुम एक सफल व्यक्ति हो और सफलता तुम्हारा जन्म सिद्ध अधिकार है ऐसा मानकर

ही तुम्हें कोई भी क्रिया करनी चाहिए मेरे बच्चे जब तुम ऐसा मानने लगते

हो तो तुम्हारा अवचेतन मन इसे सक्रिय कर देता है और अवचेतन मन ही वह द्वार है जहां

से तुम्हारे चित्त की समस्त विचारों को इस ब्रह्मांड में भेजा जाता

है मेरे बच्चे तुम भली भाति जानते हो यह ब्रह्मांड एक दर्पण की भाति कार्य करता है

तुम यदि इसमें अपना हंसता हुआ चेहरा दिखाओगे तो यह भी बदले में तुम्हें हंसता

हुआ लगेगा तुम यह भी जानते हो तुम दुखी और निराशावादी जीवन की कल्पना करोगे वैसा ही

जीवन जियोगे तो यह ब्रह्मांड बदले में तुम्हें वही प्रदान कर देगा मेरे बच्चे

तुम्हें मैं इतनी सफलता देने वाली हूं कि लोग तुम्हारी प्र प्रशंसा करते नहीं थके

और तुम मन से ईश्वर का आभार करते नहीं थको ग तुम्हें ऐसी ऐसी चीजें प्राप्त होंगी

इसके बारे में ना तुमने सोचा होगा ना तुम्हारे वंश कुल में किसी ने ऐसा सोचा

होगा यह समय कुछ अद्वितीय चमत्कारों के लिए तुम्हें तैयार कर रहा है यह अद्वितीय

चमत्कार कभी धन के रूप में कभी जीत के रूप में तो कभी प्रेम के रूप में तुम्हारे

सामने प्रकट होते रहेंगे जहां से धन आने की कोई उम्मीद ना थी वहां से भी अब धन के

अवसर बनेंगे तुम उन सफलताओं और चमत्कारों से मुस्कुराने के लिए पूरी तरह से विवश

होगे यह व्यवस्था तुम्हारे लिए बेहतर साबित होगी अपने जीवन में प्रचुरता के लिए

आभार व्यक्त करते हुए उत्सव मनाने की तैयारी करो क्योंकि अब खुशियों की एक पूरी

लड़ी लगने वा ऐसा अवसर आने वाला है कि तुम्हारा जीवन

पूरी तरह से आशीर्वाद से भरा रहेगा किंतु यहां भी तुम्हें कुछ बातों का

विशेष ध्यान देना सर्वप्रथम किसी भी परिस्थिति में तुम्हें अपने भीतर अहंकार

पनपने नहीं देना है ऐसे अवसर आएंगे जब तुम्हारी परीक्षाएं ली जाएंगी कभी किसी

बालक के रूप में कभी किसी स्त्री के रूप में तो कभी किसी बुजुर्ग व्यक्ति के रूप

में तुम्हारी परीक्षा ली जाएगी कभी-कभी तुम्हारे अहंकार की परीक्षा

तुम्हारे नाम से भी ली जाएगी तुम्हें इसकी गहराई में जाना होगा तुम अपने जीवन में

शांति आनंद चमत्कार और आभार इसको स्थान दो किसी भी परिस्थिति में तुम्हें अहंकार को

अपने जीवन में पनपने नहीं देना है तुम अच्छाई की श्रृंखला में एक महत्त्वपूर्ण

हाथ हो एक ऐसा हाथ जो यदि छूट जाए तो अच्छाई की पूरी श्रृंखला ही टूट

जाएगी लेकिन मेरे बच्चे मैं जानती हूं कि तुम में जो क्षमता है तुम जो कर सकते हो

वह दूसरा कोई उचित ढंग से नहीं कर सकता इसलिए मैंने तुम्हारा चुनाव किया है क्या

तुम मेरा सहयोग करोगे क्या तुम जीवन में आगे बढ़ो क्या तुम स्वयं आगे बढ़कर दूसरों

को सही मार्ग दिखाओगे क्या तुम तैयार हो मेरे बच्चे उस सच्चाई की ओर बढ़ने के लिए

जिस सच्चाई को जानना जिसके उपहार को स्वीकार करना तुम्हारा अधिकार है तुम उचित

ढंग से चुने हुए एक सफल मनुष्य हो और सफलता तुम्हें मिलकर रहेगी जीत के लिए सदा

तैयार रहना क्योंकि वह कभी भी आ सकती है जब तुम्हारे जीवन में एका एक परिवर्तन हो

जाए मेरे मेरे बच्चे तुमने जिसकी उम्मीद की थी वह तुम्हें मिलने वाला है वो वाहन

जिसका तुमने कभी विचार किया था वह तुम्हें बहुत जल्द मिलने वाला है मेरे बच्चे तुम

जिन चीजों की तुम उम्मीद नहीं कर रहे थे वह भी तुम्हें हासिल होगी लेकिन जिसका

तुमने विचार किया था सर्वप्रथम वह वाहन तुम्हें अवश्य मिलेगा उसके बाद तुम्हारे

प्रेम में तुम्हे उन्न के मार्ग दिखने लगेंगे तुम्हारे प्रेम में तुमने जो भूल

की तुम्हारे साथी से जो भूल हुई वह सब समाप्त हो

जाएंगे मेरे बच्चे एक दूसरे की छोटी-छोटी गलतियों को नजर अंदाज कर दो क्योंकि जीवन

गलतियों से नहीं चलता जीवन क्षमा प्रार्थना आभार आकांक्षा अपेक्षा इन सब से

चलता है इसलिए तुलना करना बंद कर दो और जो जैसा

उसे उसी रूप में स्वीकार करना प्रारंभ कर दो मेरे बच्चे तुम आगे बढ़ चले हो नए

मार्ग खुल चले हैं अब हारने का समय नहीं अब थकने का समय नहीं अब घबराने का समय

नहीं अब समय है तो केवल और केवल जीव को अपने जीवन में आमंत्रित करने का अब समय है

तो केवल और केवल प्रेम को अपने जीवन में भर देने का मेरे बच्चे तुम्हारे भीतर की

करुणा तुम्हें आगे ले जा रही है तुम्हारे भीतर की दया भावना तुम्हें आगे ले जा रही

है इसे अपने मन में रोम रोम में बस जाने दो और पूरी तरह से जीव को आमंत्रण देते

रहो वह समय बहुत नजदीक है आने वाले दिन तुम्हारे लिए बहुत कुछ लेकर आ रहे हैं वह

दिन ना केवल तुम्हें जीत दिलाएगी बल्कि तुम्हारे मन को प्रसन्नता से हर्ष से और

आत्मविश्वास से पूरी तरह से भर देंगी लेकिन फिर भी यदि तुम कहीं घबराना

तो फिर वहां पर चिंतित नहीं होना यह घबराहट उस देर के लिए ही होगी क्योंकि मैं

और मेरी शक्तियां सदैव तुम्हारे साथ है मेरा आशीर्वाद तुम्हारे साथ ही है मैं तुम

पर लगातार नजर बनाए रखी हूं इसलिए यह मत सोचना कि यदि कोई मुसीबत आई है तो तुम्हे

उससे हारना है वह तो केवल तुम्हारी परीक्षा मात्र है उससे घबराना नहीं मेरा

आशीर्वाद सदैव तुम्हारे साथ है जय हो माता रानी हर हर

महादेव मेरे बच्चे यह दिव्य संदेश केवल तुम्हारे लिए आया हुआ है अब तुम अपनी

समस्त चिंताओं को छोड़ दो उनका त्याग कर दो और केवल अच्छी चीजों पर ही ध्यान लगाओ

क्योंकि चिंता करने से कुछ कुछ भी हासिल नहीं होता सिवाय दुख और तकलीफ के मेरे

बच्चे मैं देख रही हूं कि तुम आवश्यकता से ज्यादा विचार कर रहे हो समस्याएं उतनी भी

बड़ी नहीं है जितना तुम्हारी सोच ने उसे बना दिया है तुम्हारी समस्याओं ने अपना

रूप विस्तारित किया है और इसका कारण कुल इतना है कि तुमने इसे आवश्यकता से अधिक

सोचा है और अब तुम तनाव मुख हो जाओ गहरी सांस लो मेरा ध्यान करो इस संदेश को पूरा

सुनना क्योंकि मैं तुम्हें बहुत ही बड़ा रहस्य बताने वाली हूं इसे जानना तुम्हारे

लिए आवश्यक है इसलिए संदेश को पूरा सुनना बीच में छोड़ने की भूल ना करना मेरे बच्चे

आकाश से तुम्हारे लिए आशीर्वाद आ रहा है एक बहुत ही दिव्य देवदूत तुम्हारे जीवन

में प्रवेश करने वाला है और बहुत जल्द तुम उस आशीर्वाद से अपने जीवन में चमत्कार

होते देख पाओगे जो आशीर्वाद वह तुम्हें प्रदान करेगा शीघ्र तुम्हारे साथ एक कतार

में ऐसी घटनाएं घट जो तुम्हारे जीवन को अप्रत्याशित खुशियों से भर देंगी और धन का

मार्ग तुम्हारे लिए खुल जाएगा मेरे बच्चे मैं परिस्थितियों को

तुम्हारे पक्ष में स्थानांतरित कर रही हूं जिसके कारण बंद दरवाजे खुलेंगे नए रिश्ते

बनेंगे तुम अब अपने निर्धारित लक्ष्य को प्राप्त करोगे और जल्द ही तुम एक बड़ा

ब्रह लक्ष्य बना पाओगे मेरे बच्चे हो सकता है अभी तुम्हारी

मानसिक स्थिति तुम्हें सामान्य ना लग रही हो क्योंकि नकारात्मक आत्माएं सभी पुण्य

आत्माओं को अपना निशाना बनाए हुए हैं और इस वजह से सभी पुण्य आत्माएं दुखी महसूस

कर रहे हैं लेकिन मेरे बच्चे तुम बिल्कुल भी हताश मत होना क्योंकि यह समय बीतने

वाला है एक चक्र का अंत हो रहा है कभी-कभी थोड़ी देर के लिए शत्रु हावी हो सकता है

लेकिन कोई कितना ही प्रयत्न क्यों ना कर ले सत्य को पराजित नहीं कर

सकता यदि तुम अपनी माता पर विश्वास करते हो तो हर हाल में इस संदेश को अंत तक

सुनना क्योंकि इसमें तुम्हारे लिए कुछ विशेष बात छुपी हुई है तुम तब तक

प्रतीक्षा करो जब तक तुम इस संघर्ष के पीछे का आशीर्वाद ना देख लो और बहुत जल्द

तुम उसे महसूस करने वाले हो मेरे बच्चे तुम बहुत संवेदनशील हो तुम एक पुण्य आत्मा

हो तुम्हारा हृदय बहुत कोमल है तुम्हारे भीतर करुणा है दयालुता है तुम जिस प्रकार

दूसरों के लिए भला करते हो दूसरों के लिए भलाई करने की चाह रखते हो वही अपेक्षा

उनसे भी रखते हो लेकिन ऐसा जरूरी नहीं कि संसार में हर कोई भलाई के बदले भलाई ही

करे मेरे बच्चे याद रखो तुम्हारा चरित्र हमेशा तुम्हारी परिस्थितियों से ज्यादा

मजबूत होना चाहिए तुम्हें अपने ऊपर संचय नहीं करना है संघर्ष मनुष्य को कमजोर

बनाने के लिए नहीं आता से मजबूत बनाने के लिए आता है जीवन में जो भी होता है वह

अच्छा ही होता है इस विश्वास के साथ भले ही तुम्हारा जीवन संघर्ष रत हो तुम इसे

जीते जाओ क्योंकि मैं तुम्हारा साथ कभी नहीं छोडूंगी परिस्थिति चाहे कैसी भी हो

लेकिन तुम्हें खुद पर विश्वास रखना है खुद को कमजोर नहीं मानना है मेरे बच्चे जिस

बात ने तुम्हें रातों को सोने नहीं दिया उसी समस्या का समाधान बहुत ही जल्द

तुम्हारे पास होगा तुम सफलता के बहुत करीब हो इसलिए अब हार मान लोगे तो शैतान की जीत

हो जाएगी नकारात्मकता की जीत हो जाएगी किसी भी परिस्थिति में अपने विश्वास को

टूटने मत दो क्योंकि तुम्हारी ओर से अब लड़ने के लिए दिव्य शक्तियां आ रही है अभी

तक तुम कमजोर पक्ष में थे लेकिन अब अब ऐसा नहीं होगा एक चमत्कारिक घटना तुम्हारे घर

में प्रवेश करने जा रही है जो तुम्हारे जीवन में जीत की खुशी लेकर आएगी इस

चमत्कार को अनुभव करने के लिए तुम अभी संख्या इसे लिखो साथ ही यह भी लिखो कि

हां मैं चमत्कार को अनुभव करना चाहता हूं मेरे बच्चे शैतान चाहता है कि तुम चिंता

करो लेकिन मैं चाहती है कि तुम उस पर विश्वास रखो और गंभीर स्थिति

में भी अपनी प्रार्थना जारी रखो अपने आप को टूटने मत दो तुम्हारी प्रार्थनाएं काम

कर रही है यह तुम्हें बहुत जल्द अनुभव होगा ब्रह्मांड की ऊर्जा तुमसे कह रही है

यह फिर से उत्साहित होने का समय है मेरे बच्चे मैं तुम्हारे जीवन को अप्रत्याशित

आशीर्वाद से आश्चर्यजनक रूप से भन वाली हूं जो तुम्हारा है जो तुम्हारे लिए

निर्मित किया गया है वह तुम्हें मिलकर ही रहेगा चाहे वह तुम्हारा महल हो चाहे वह

तुम्हारा वाहन हो चाहे धन हो चाहे ऐसी परिस्थितियां हो तुमसे कुछ भी छूट नहीं

सकता तुम्हें उसकी ऊर्जा महसूस होने वाली है तुम्हें उसकी ताकत का आभास होने वाला

है तुमने जिसके लिए प्रार्थना की है जिस मिलन का तुम बेसब्र से इंतजार करते आए हो

भला वह कोई तुमसे कैसे दूर कर सकता है यही तो अंतिम लड़ाई है अपनी पसंदीदा चीज को

प्राप्त करने का वो प्राप्त करने का जो प्राप्त करना ना केवल तुम्हारा अधिकार है

बल्कि जिसके तुम योग्य भी हो यदि तुम अपनी पसंदीदा चीज को आकर्षित करना चाहते हो तो

संख्या अवश्य लिखो साथ यह भी लिखो

कि हां मैं जीत चाहता हूं यह लिखते ही तुम अपने जीत की पुष्टि कर

दोगे मेरे बच्चे आध्यात्मिक उन्नति वित्तीय वृद्धि अद्भुत आश्चर्य घटनाए यह

सब तुम्हारे जीवन में घटित हो कर के रहेंगी मैं तुम्हारे लिए प्रार्थना करती

हूं कि तुम अब तनाव मुक्त हो जाओ ऐसी प्रार्थना तुम्हें अपने लिए स्वयं ही करनी

है अपनी वित्तीय स्थि में सुधार के लिए प्रार्थना करो कि अपने संबंधों में तुम

फिर से मधुरता को व्याप्त कर सको और जीवन का भरपूर आनंद ले सको तुम इस जीवन में

बातों में फसने नहीं आए हो अहम की लड़ाई लड़ने नहीं आए हो किसी के अहंकार के तले

होकर किसी के गुलाम बनने नहीं आए हो उदासीनता से विवत रूप से ग्रसित होने नहीं

आए हो तुम इस संसार को खुलकर जीने आए हो तुम इस संसार में परिवार में खुशियां

बांटने आए हो तुम इस संसार में प्रेम फैलाने आए हो तुम्हारे अतीत में जो कुछ

हुआ उस पर कभी अपना ध्यान मत केंद्रित करो क्योंकि मेरे बच्चे यदि तुम अतीत पर अपना

ध्यान केंद्रित करोगे तो भविष्य में मिलने वाले लाभों से वंचित रह जाओगे और मैं नहीं

चाहती कि तुम अपने जीवन में किसी भी लाभ से वंचित रहो तुम्हें विश्वास करना होगा

मैं सब कुछ बेहतर कर दूंगी मेरे बच्चे यह माह तुम्हारे लिए

बहुत बड़े-बड़े आशीर्वाद लेकर आ रहा है अनंत आशीर्वाद बड़ी मुस्कुराहट वित्तीय

सफलताएं और बहुत ही अच्छे अवसर तुम्हारे जीवन में आने वाले हैं इन्हें खो मत

देना मेरे बच्चे अहंकार अतीत की यादों स्मृतियों में फंसकर इन्हें भुला मत देना

जो तुम्हें मिलने वाला है केवल उस पर ध्यान लगाओ जिसके तुम योग्य हो केवल उसका

ध्यान लगाओ अपने भीतर झा को गहराई में उतरो तुम स्वयं ही चमत्कार हो इस चमत्कार

से अलग नहीं हो तुम संसार ही अपने आप में एक चमत्कारिक घटना है और इस चमत्कारिक

घटना का एक अभिन्न अं हो तुम इसे महसूस करो उस एक के समान हो जाओ उस एक से एक हो

जाओ वह एक जो सब कुछ है जो सबका सार है तुम उससे से मिल जाओ इस संसार में जिसने

बहुत कुछ जान लिया वह कुछ भी नहीं जान पाया और जिसने उसे एक को जान लिया वह सब

कुछ जान गया क्योंकि वह एक ही सार है बाकी सब कुछ इस संसार में अंसार है यदि तुम

विजय को महसूस करना चाहते हो संतुष्टि को महसूस करना चाहते हो संपन्नता को महसूस

करना चाहते हो समृद्धि को महसूस करना चाहते हो प्रेम को महसूस करना चाहते हो और

अपने अनुभवों में यह सब हासिल करना चाहते हो तो तुम्हें उस एक के साथ एक होना होगा

वह एक कोई और नहीं है वह एक तुम ही हो उसे जानने का प्रयत्न करो अपने आप को जानने का

प्रयत्न करो मेरे बच्चे कई मुख लगाकर इस

संसार में बहुत से मनुष्य घूमते हैं वह अपने पति पत्नी के सामने कुछ और होते हैं

अपने जीवन साथी के सामने कुछ और होते हैं मित्र के सामने कुछ और होते हैं माता-पिता

के सामने कुछ और होते हैं भाई बहनों के सामने कुछ और होते हैं संबंधों में कुछ और

होते हैं तुम्हें गहराई में उतरना है तुम्हें अपने भीतर झांकना है

तुम जो हो उस वास्तविकता को पहचानो मैं कौन हूं यह प्रश्न करो यह प्रश्न तुम्हें

तुम्हारे उत्तर तक ले जाएगा तुम्हें गहराई में झांकना होगा अपने सपनों में झांकना

होगा जीत की मधुर मुस्कान बिखरने वाली है उसे भीतर से महसूस करो मेरे बच्चे दर्द को

भुला दो कष्ट को भुला दो विचार करो संपन्नता का विचार करो अपने साथ थ के

चेहरे पर मुस्कान का विचार करो अपने आश्रितों के चेहरे पर मुस्कान का विचार

करो कि कैसे तुम जगत कल्याण में लगे हुए हो कैसे तुम स्वयं का जीवन बेहतर बना रहे

हो मेरे बच्चे मेरा आशीर्वाद सदैव तुम्हारे साथ रहेगा लेकिन क्या तुम अपने

साथ हो इस बात का विचार करो क्या तुम संपन्नता की ओर बढ़ रहे हो तुम इसका विचार

करो क्या तुम तुम खुशियों को समझ पा रहे हो तुम इसका विचार करो मेरे बच्चे अभी तक

जो कुछ भी हुआ उसे ईश्वर की मर्जी मानकर भूल जाओ लेकिन तुम्हारे भविष्य में जो कुछ

भी होगा उसे होश पूर्वक देखते रहो उसे होश पूर्वक महसूस करो दृष्टा बनो साक्षी बनो

किंतु होश पूर्वक बेहोशी में कोई भी कृत्य ना करो मेरे बच्चे जो भी कर्म तुम बेहोशी

में करते हो उन कर्मों का तुम्हें लाभ नहीं होता इसलिए सही गलत का अंदाजा भूलकर

जो कुछ भी कार्य करो उसे होश पूर्वक करो यह मानकर करो कि वह सारे कार्य तुम ईश्वर

के चरणों में समर्पित कर रहे हो वह ईश्वर नहीं जिसे तुम महसूस करते हो ईश्वर वह

नहीं जो तुम्हें बताया गया ईश्वर वह नहीं जो शास्त्रों में लिखा है ईश्वर वह नहीं

जो किताबों में लिखा है वास्तव में तुम इनकी परिभाषा ही गलत जानते हो क्योंकि

तुम्हें ऐसा बताया गया तुम्हारे भीतर जो मूर्त रूप विद्यमान है तुम उसे ही ईश्वर

मान बैठे हो किंतु मैं कौन हू तुम इसे महसूस नहीं कर पाते एक बार अपने भीतर की

मानसिकता को समझ कर देखो एक बार अपने भीतर के खालीपन को महसूस करो एक बार वो सारे

ज्ञान भूल जाओ जो तुम्हें बताया गया है एक बार उन समस्त ज्ञान का त्याग कर दो जो

किसी ने तुमसे कहा है और खुद से अनुमान लगाओ खुद में झा को खुद में देखो कि मैं

कौन हूं तुम कौन हो और फिर तुम गहराई से मुझे जान पाओगे अपने आप को जान पाओगे और

फिर मैं और तुम एक हो जाएंगे क्योंकि मैं तुमसे अलग नहीं हूं मेरे बच्चे मेरा

आशीर्वाद सदैव तुम्हारे साथ है तुम्हारा कल्याण हो जय हो माता रानी हर हर

महादेव मेरे बच्चे अब समय आ गया है जब तुम्हारा जीवन पूरी तरह से बदलने जा रही

है क्योंकि वह अब तुम्हारे जीवन में प्रवेश कर चुका है यही कारण है कि आज

तुम्हें यह संदेश मिला है जो कि इस बात का प्रमाण है कि अब वह तुम्हारे जीवन में

प्रवेश कर चुका है और बहुत जल्द तुम्हारे जीवन में कुछ ऐसी असाधारण घटनाएं घटित

होने लगेंगी जिससे तुम्हें यह अंदाजा भी लग जाएगा कि मैं तुम्हें क्या बता रही हूं

मेरे बच्चे वह कोई साधारण मनुष्य नहीं है और उसका तुम्हारे साथ आ जाना भी कोई

साधारण घटना नहीं है एक बहुत ही असाधारण घटना है लेकिन यही तो नीति है तुम्हारी

नीति कोई बदल नहीं सकता मेरे बच्चे किसी भी कारण वस आज तुम

इस संदेश तक पहुंच पाए हो तो इसे सुने बिना बीच में ना छोड़ना क्योंकि अब मैं

तुम्हें जो बताने जा रही हूं वह जानना तुम्हारे लिए अत्यंत आवश्यक है और उसे

जानकर तुम हैरान भी रह जाओगे क्योंकि यह तुम्हारे भाग्य तुम्हारे कर्म और प्रेम से

संबंधित है मेरे बच्चे वह जो तुम्हारा दिव्य प्रेम बनकर आया है वह इस पृथ्वी पर

बसने वाले असाधारण प्रतिभा का धनी व्यक्ति है एक बहुत ही कठिन संघर्ष पार करके वह

तुम्हें प्राप्त करने की राह पर चला है तुम उसे जानते हो वह तुमसे परिचित है

तुम्हारे मन में जिसका विचार इस छड़ उठा है हां यह संदेश उसी से संबंधित है मेरे

बच्चे वह व्यक्ति ऐसा नहीं कि तुम्हें आज से जान रहा है तुम दोनों का

पूर्व जन्म से नाता है एक बहुत लंबी यात्रा प्रारंभ हुई थी जो अधूरी छूट गई थी

उसी यात्रा को पूर्ण करने वह लौट आया है और यह तुम्हें बताने आ रहा है कि तुम

सामान्य नहीं हो तुम भी असाधारण हो मेरे बच्चे तुम इस समय अपने जीवन के

जिस पर खड़े हो वहां तक पहुंचने के लिए तुमने त्याग कठोर परिश्रम अनगिनत

चुनौतियां भयानक पीड़ा अनेकों प्रहार और ना जाने कितनी यातना का सामना किया है और

तब जाकर तुम्हारे मन में यह परिपक्वता उजागर हो पाई है मेरे बच्चे तुम्हारा जीवन

घोर संघर्षों से भरा रहा है लेकिन वह तुम्हारा ही प्रतिबिंब स्वरूप है उसने

तुमसे कहीं ज्यादा चुनौती और संघर्षों को पार करके यह परिपक्वता और जीवन स्तर हासिल

किया है अब वह तुम्हारे जीवन में पूर्ण रूप से प्रवेश करने को तत्पर है शीघ्र ही

तुम अपनी ऊर्जा को उसके साथ एक होते हुए देख पाओगे मेरे बच्चे वह तुम्हारे मार्ग की

सभी बाधाओं को तोड़कर प्रेम का एक बेहद ही नवीन अध्याय लिखेगा एक ऐसा अध्याय जहां

पहुंचना तुम्हारी कल्पनाओं का परिणाम है और और फिर तुम्हारे जीवन को वह हमेशा के

लिए खुशियों से भर देगी यह वही है जिसकी तलाश तुम वर्षों से कर रहे थे यह व्यक्ति

वही है जिसका ख्वाब तुम हमेशा से देखते आए हो मेरे बच्चे क्या तुम पहचान चुके हो

क्या तुम प्रेम ऊर्जा को प्राप्त करने को तैयार हो क्या तुम प्रेम के एक नवीन

अध्याय को लिखे जाने के लिए तैयार हो यदि तुम तैयार हो तो तुम्हें इस की पुष्टि

करनी होगी यह पुष्टि आवश्यक है मेरे बच्चे

यह नियति यह ब्राह्माण कुछ नियमों के आधार पर चलती है और नियमों में आकर्षण का नियम

वाक्य का नियम बहुत महत्त्वपूर्ण है मेरे बच्चे तुम जिन शब्दों को जिन

वाक्यों को बार-बार दोहराते हो बार-बार सोचते हो जिसे अपने मन में तुम घटित करते

हो वो विभिन्न रूपों को धारण कर करके इस संसार में घटित होने ही लगता है तुम जैसी

कल्पनाएं करते हो ब्रह्मांड वैसे ही कल्पनाओं को मूर्त रूप देने का कार्य करता

है मेरे बच्चे तुम्हें इसकी पुष्टि करनी होगी तुम्हें अपने जीवन में प्रेम को

प्राप्त करने की प्रगति को प्राप्त करने की पुष्टि करनी होगी यह पुष्टि करने के

लिए तुम्हें अभी इस संख्या को लिखना होगा साथ ही तुम्हें य लिखना होगा कि हां

मैं पुष्टि कर रहा हूं मैं आगे बढ़ने के लिए अपनी सहमति प्रदान करता हूं मैं नवीन

अध्याय लिखने के लिए अपनी सहमति प्रदान करता हूं मैं प्रेम की परिपक्वता को हासिल

कर जीवन में प्रेम का भंडार भर देने की पुष्टि करता हूं और ऐसा बार-बार कहते और

लिखते रहने से तो हरे जीवन में ना केवल प्रेम आएगा बल्कि प्रगति बढ़ती चली

जाएगी मेरे बच्चे तुम्हारा जीवन कोई साधारण जीवन नहीं है अनेक यातना अनेक

परिश्रम अनेक कल्पनाओं और अनेक संघर्षों का मेल रहा है तुम यह जीवन जिसे अभी तुम

जी रहे हो किंतु यह जीवन बिना किसी उद्देश्य के व्यतीत होता जा रहा है और हर

एक दिन तुम्हारे जीवन से घटता चला जा रहा है मेरे बच्चे तुम्हें अब देरी नहीं करनी

है तुम्हें अब अपने उद्देश्य तक पहुंचना है तुम्हें अपने उद्देश्य को समझना है और

अपने उद्देश्य को समझकर उस मार्ग पर निष्काम भाव से आगे बढ़ते रहना है अकर्म

की भावना तुम्हें अपने मन में लानी है उसका प्रेम तो तुम्हें हासिल हो जाएगा

लेकिन क्या उस प्रेम को प्राप्त कर आगे बढ़ने की क्षमता तुम अपने मन में बसा के

रखते हो मेरे बच्चे तुम्हें प्रेम की भावना से अभिभूत होक के इस जीवन में सभी

को प्रेम की नजरों से देखना होगा या तो तुम सबको प्रेम की नजरों से देखो या

सहानुभूति पूर्वक करुणा की नजरों से देखो किंतु तुम्हें किसी भी परिस्थिति में किसी

भी मनुष्य किसी भी पशु किसी भी जीव अजीव को नफरत या रुष के भाव से नहीं देखना है

क्योंकि मेरे बच्चे जब तुम ऐसा करोगे तो तुम्हारे जीवन में वैसी ही परिस्थितियां

और भी ज्यादा उत्पन्न होने लगेंगी इसका कारण यह है कि तुम्हारे जीवन में आकर्षण

की शक्ति बहुत ज्यादा बढ़ चुकी है और वह समय बहुत नजदीक आ चुका है जब तुम वह सब

कुछ हासिल कर पाओ जिसे तुम अपनी कल्पनाओं से बुनते हो इसलिए मेरे बच्चे इन छड़ों

में तुम्हें किसी भी हाल में नकारात्मक क्रियाकलापों नकारात्मक व्यक्तियों

नकारात्मक वस्तुओं और नकारात्मक परिस्थितियों का विचार नहीं करना है तुम

केवल उन चीजों का विचार करो उन मनुष्यों का विचार करो जिन्हें तुम अपने जीवन में

चाहते हो जिसे तुम हर हाल में अपने जीवन में लाना चाहते हो केवल उसका सकारात्मक

भाव से विचार करना ही तुम्हारा उद्देश्य होना चाहिए यह तुम्हारा मानसिक उद्देश्य

है इसे प्राप्त करना तुम्हारे लिए अत्यंत आवश्यक है मेरे बच्चे तुम प्रगति की राह

पर काफी आगे आ चुके हो अध्यात्म की उंगलियां पकड़कर तुम अब बहुत लंबा सफर तय

कर चुके हो मंजिल के बहुत करीब हो तुम अब तुम्हें बिल्कुल भी भटकना नहीं है यहां से

तुम्हें बिल्कुल भी हार नहीं माननी है यही वह क्षण है जब जीत तुम्हारे बहुत करीब आ

चुकी है और अब तुम्हें जीतने से कोई रोक नहीं पाएगा मेरे बच्चे तुम्हें अपने मन से भय

को त्यागना है तुम्हें अपने मन से निराशा के भाव को त्यागना है एक बात सदा याद रखना

चाहे परिस्थितियां कैसी भी हो मेरा आशीर्वाद हमेशा तुम्हारे साथ है मेरे

बच्चे मेरा आशीर्वाद सदैव तुम्हारे साथ है मेरा आशीर्वाद प्राप्त करने के लिए

लिख कर मुझे अपनी स्वीकृति प्रदान करा देना और अपनी माता का अगला संदेश प्राप्त

करने के लिए अपनी माता के इस संदेश को लाइक करके चैनल को सब्सक्राइब अवश्य कर

लेना ताकि आने वाला आपकी माता का संदेश आपको प्राप्त हो सके जय हो माता रानी हर

हर महादेव

Leave a Comment