कैसे Diamond Capital में अंजाम दी दुनिया की सबसे बड़ी चोरी ? | Biggest Diamond Heist | - instathreads

कैसे Diamond Capital में अंजाम दी दुनिया की सबसे बड़ी चोरी ? | Biggest Diamond Heist |

देखिए बेल्जियम का शहर एंटवर्प दुनिया की
डायमंड कैपिटल के रूप में जाना जाता है
दुनिया भर में मौजूद 90 से ज्यादा
डायमंड्स एक ना एक बार इस शहर से जरूर
गुजरते हैं जहां सदियों से हीरो का काम चल

रहा है यही वजह है कि शहर में हर जगह
सिक्योरिटी बहुत हाई है और डायमंड
मर्चेंट्स अपने सूट केसेस तक हथकड़ियों के
साथ बांधकर चलते हैं लेकिन इसी शहर की
सबसे सिक्योर्ड बिल्डिंग से पांच लोग 100$

मिलियन डॉलर के हीरे चुराकर ले जाते हैं
अब जांच होती है तो पता चलता है कि यह एक
रात की घटना नहीं थी बल्कि पिछले 3 साल से
इसकी प्लानिंग चल रही थी लेकिन कैसे इतनी
सिक्योरिटी के बीच चोर अपना काम करने में
कामयाब हुए क्या उन्हें कभी पकड़ा जा सका

और यह इतना बड़ा सिक्योरिटी फेलियर बना
आइए जानते हैं आज की इस वीडियो में देखिए
जोस बिल्डिंग के अंदर यह चोरी हुई थी उसे
वर्ल्ड डायमंड सेंटर कहा जाता है जहां पर
दुनिया भर के डायमंड मर्चेंट्स के

ऑफिसेसूट रूम था जहां पर लॉकर्स मौजूद थे
यह लॉकर्स सिर्फ उन्हीं को दिए जाते थे जो
बिल्डिंग के अंदर कोई ऑफिस ऑन करते थे और
यह वॉल्ट रूम अपने आप में काफी सिक्योर था
अगर वॉल्ट की सिक्योरिटी की ही बात करें

तो सबसे पहले उसके बाहर का दरवाजा 30 सें
मी चौड़े मेटल से बना था जिसका वजन 3 टन
था अगर इस दरवाजे को कोई इलेक्ट्रिक ड्रिल
से खोलने की कोशिश करता भी था तो उसे
इसमें सुराख करने में 12 घंटों से ज्यादा

का समय लगता इस दरवाजे को खोलने के लिए
सबसे पहले एक कोड एंटर किया जाता था कोड
एंटर होने के बाद दरवाजे के अंदर एक
ओपनिंग खुलती थी जिसके अंदर 30 सेंटीमीटर
लंबी एक चाबी डाली जाती थी अगर कोई दरवाजा

खोल भी ले तो अंदर कई तरह के सेंसर से
उनका सामना होता था वॉल्ट रूम के अंदर एक
लाइट सेंसर और एक हीट सेंसर और एक मोशन
सेंसर मौजूद था इसके साथ-साथ हर जगह पर
कैमरा लगे हुए थे और इस पूरी फैसिलिटी को
दुनिया के सबसे सिक्योर्ड प्लेसेस में से

एक माना जाता था यहां पर चोरी करने का
ख्याल सिर्फ किसी सिरफिरे के मन में ही आ
सकता था लेकिन ऐसा एक सरफिरा बेल्जियम से
कई मील दूर इटली में मौजूद था इस शख्स का
नाम था लियोनार्डो नोट बार्लो जो कि 19
साल की उम्र से ही क्राइम की दुनिया में

कदम रख चुका था पहले वो महंगी स्पोर्ट्स
कार् चुराया करता था लेकिन बाद में उसने
डायमंड्स चुराने शुरू कर दिए डायमंड चोरी
में फायदा यह था कि उन्हें आसानी से कैरी
किया जा सकता था और उन्हें ट्रेस करना भी

मुश्किल था वह अपने काम में इतना
सक्सेसफुल हो गया कि जल्द ही उसने इटली
में कई ज्वेलरी शॉप्स भी खोल ली एक रात जब
उसकी खुद की दुकान में चोरी हुई और बहुत
सा महंगा सामान चोरी हो गया तब उसने इस
नुकसान की भरपाई के लिए एक बड़ा हाथ मारने

का फैसला किया यही इच्छा उसे एंटवर्प तक
ले आई सन 2000 में उसने इंडस्ट्री में
अपने कनेक्शंस को इस्तेमाल करते हुए
डायमंड सेंटर के अंदर एक ऑफिस रेंट पे ले
लिया और वह बिल्डिंग के पूरे सिस्टम को

समझने लगा बिल्डिंग के अंदर सिर्फ वही लोग
एंटर कर सकते थे जिनके पास एक
इलेक्ट्रॉनिक कार्ड होता था और यह
इलेक्ट्रॉनिक कार्ड सिर्फ बिल्डिंग के
अंदर काम करने वाले लोगों को ही दिया जाता

था जिस वजह से लियोनार्डो को को भी एक
कार्ड मिल गया इसके बाद वॉल्ट रूम के
मैकेनिज्म को समझने के लिए उसने एक सेफ
डिपॉजिट बॉक्स या लॉकर भी वहां पर रेंट कर
लिया और अब वह यहां पर जाकर बाकी

सिक्योरिटी अरेंजमेंट्स को ऑब्जर्व करने
लगा दिन के दौरान वह बड़ा मेटल डोर ऑलरेडी
ओपन ही रहता था और अंदर एक दूसरा दरवाजा
था जिसे डे डोर कहते थे और इसी डोर से सभी
लोग अपने लॉकर्स की तरफ जाते थे बड़े मेटल
डोर की वर्किंग को समझने के लिए उसने

सुबह-सुबह जल्दी आना शुरू कर दिया वह
कार्ड से कहता था कि उसे अर्जेंटली अपने
लॉकर में से कुछ सामान निकालना है और तब
गार्ड्स उसके सामने ही उस मेटल डोर को खोल
देते इसके अलावा बिल्डिंग में काफी वक्त
रहने के बाद उसने गार्ड से भी दोस्ती करना

शुरू कर दिया अब वह इस तरह से कभी-कभी
सर्वेस रूम में भी जाने लगा जहां पर गार्ड
सभी कैमरा को मॉनिटर कर रहे होते थे जहां
से उसे दो अहम जानकारियां मिली सबसे पहले
तो उसे पता चल गया कि भाई कैमरा कहां-कहां

पर प्लेस हैं और साथ ही उसे यह भी पता चला
कि बिल्डिंग के गार्ड्स सिर्फ दिन के समय
ही कैमरा को ऑब्जर्व करते हैं और रात के
वक्त यह रूम बिल्कुल खाली रहता है अगले
डेढ़ से 2 साल तक व यही इंफॉर्मेशन कलेक्ट

करता था और फिर 2002 की गर्मियों में उसने
अपनी टीम बनानी शुरू की इटली के जिस एरिया
से लियोनार्डो आता था वोह सोफिस्टिकेटेड
चोरों के लिए काफी मशहूर था जिस वजह से
यहां पर उसे अपने काम के सभी लोग मिल गए

उसने सबसे पहले इलियो डी नोरियो या जीनियस
के नाम से मशहूर एक हैकर को हायर किया था
फिर द मनस्टर के नाम से मशहूर एक इलेक्ट
मैकेनिक और एक्सपर्ट ताला तोड़ को हायर
किया इसके साथ-साथ उसकी गैंग में एक बूढ़ा

आदमी भी था जिसकी पहचान आज तक रिवील नहीं
हुई है लेकिन इसकी एक्सपर्टीज डुप्लीकेट
चाबियां बनानी थी आखिर में उनकी गैंग में
स्पीडी नाम से मशहूर पिट्रो टवान नाम का
एक शख्स था जो कि उनका ड्राइवर होने वाला

था जब लियोनार्डो अपने लॉकर के पास जाता
था तो वह एक बैग में कैमरा भी छिपा कर ले
जाता था जिससे कि सभी सेंसर्स के लोकेशन
रिकॉर्ड हो सके लेकिन सिर्फ इतनी जानकारी
काफी नहीं थी बिल्डिंग को अच्छे से समझने

के लिए उसने एक दिन बिल्डिंग मैनेजर के
ऑफिस में जाकर उससे बिल्डिंग के फ्लोर्स
प्लांस मांगे उसका बहाना यह था कि वह अपने
ऑफिस को एक्सपेंड करना चाहता है जिस वजह
से वह देखना चाह रहा था कि कौन सी जगह
बेस्ट होगी बिल्डिंग मैनेजर ने ना सिर्फ

उसे बिल्डिंग्स के फ्लोर प्लांस थमा दिए
बल्कि उसे बिल्डिंग का ब्लूप्रिंट भी दे
दिया इस ब्लूप्रिंट से उन्हें मालूम पड़ा
कि भाई वह मेन डोर पर कार्ड पंच करने के
अलावा भी एक दूसरे रास्ते से वॉल्ट रूम की
तरफ बढ़ सकते हैं वो देख पा रहे थे कि

बिल्डिंग की पार्किंग से एक रास्ता बल्ट
रूम की तरफ जाता था हालांकि उसके बीच में
कई दरवाजे तो थे जो उन्हें तोड़ने पड़ते
अब चोरी से सिर्फ 5 दिन पहले उन्होंने
जीनियस को बिल्डिंग के अंदर भेजा उसे अंदर

भेजने के लिए उसे एक वर्कर की आइडेंटिटी
दी गई थी जिसे लियोनार्डो के ऑफिस में कुछ
काम करने के लिए हायर किया गया था उसके
लिए एक फेक आईडी और फेक वर्क परमिट भी
बनाया गया जिससे उसे बिल्डिंग के अंदर
दाखिल होने का कार्ड मिल गया रात के समय

जब सर्वेस रूम खाली होता है तब वह काम
करने के बहाने से बिल्डिंग के अंदर घुसा
उसने धीरे-धीरे वॉल ड्रोन की तरफ बढ़ना
शुरू किया और वहां के सभी कैमरा को ढक
दिया इसके बाद उसने अपना खुद का हिडन

कैमरा दरवाजे के ऊपर इंस्टॉल कर दिया ताकि
जब अगली सुबह गार्ड्स वल्ट का कोड एंटर
करें तो वो रिकॉर्ड हो जाए इसी कैमरा में
अब उन्होंने गार्ड्स को चाबी एंटर करते
हुए भी देखा और सिर्फ इस फुटेज के बेसिस

पर उस बूढ़े की मेकर को एक डुप्लीकेट चाबी
बनाने के लिए कहा गया अब एक आखिरी काम बचा
था रूम के अंदर के लाइट और मोशन सेंसर्स
को डिसेबल करने का इस काम के लिए उन लोगों
ने सेम मैन्युफैक्चरर के सेंसर्स खरीदे थे
और वो उस पर एक्सपेरिमेंट्स कर रहे थे इन

एक्सपेरिमेंट्स में उन्हें समझ में आया कि
अगर इन सेंसर्स को कार्डबोर्ड बॉक्सेस से
ढक दिया जाए तो वह माल फंक्शन करने लग
जाते हैं लेकिन प्रॉब्लम यह थी कि अगर वह
उन्हें कार्डबोर्ड बॉक्सेस से ढकने के लिए

जाते तो यह रिस्क था कि उन्हें पहले ही
डिटेक्ट कर लिया जाता और अलार्म बच जाता
इस प्रॉब्लम से भी निपटने के लिए उन्होंने
एक इंटरेस्टिंग सॉल्यूशन निकाला अगली सुबह
लियोनार्डो अपने कपड़ों के अंदर अंदर एक

हेयर स्प्रे की बोतल छिपा कर ले गया बल्ट
रूम के अंदर एंटर करने के बाद वह सेंसर के
पास गया और उसने अंगड़ाई लेने का नाटक
किया इस एक्शन के दौरान उसने सेंसर के ऊपर
हेयर स्प्रे छिड़क दिया जिससे कि सेंसर की

कैपेबिलिटीज टेंपरेरिली कम हो गई थी
सर्विलांस रूम में बैठे हुए गार्ड ने जब
लियोनार्डो को वहां खड़ा पाया तो वह तुरंत
उसके पास पहुंच गया लेकिन वहां कोई
गड़बड़ी ना मिलने पर उसने लियोनार्डो पर

कोई शक नहीं किया इसके बाद 15 फरवरी 2003
की रात को यह सभी लोग एंटवर्प में लिना के
अपार्टमेंट से डायमंड सेंटर की तरफ कार
में रवाना हुए बिल्डिंग के गैराज डोर को
ओपन करने के लिए जीनियस ने उनके

इलेक्ट्रॉनिक सिस्टम्स को भी हैक कर लिया
था जिस वजह से उन्हें आसानी से अंदर
एंट्री मिल गई अब पार्किंग से होते हुए वह
वॉल्ट रूम की तरफ बढ़ने लगे और बीच में
जितने भी दरवाजे थे उन्हें एक-एक करके वोह

डुप्लीकेट चाबियां से खोलने लगे इन
दरवाजों के अंदर मौजूद लॉगस को भी
उन्होंने पहले से ही स्टडी किया हुआ था और
इस वजह से वह आसानी से डुप्लीकेट चाबियां
बनाने में कामयाब हो पाए थे वॉल्ट रूम के

बाहर पहुं पहुंचकर उन्होंने जब कोड एंटर
किया तो दरवाजे की ओपनिंग तो खुल गई लेकिन
यहीं पर पहली समस्या खड़ी हुई जो चाबी
उन्होंने उस दरवाजे के लिए बनाई थी उसने
काम नहीं किया अचानक से सब पैनिक करने लगे

उन्हें उनकी 3 साल की प्लानिंग मिट्टी में
मिलती हुई दिखाई दे रही थी लेकिन यहीं पर
लियोनार्डो और उसकी गार्ड से की गई दोस्ती
काम आई वह जानता था कि इस चाबी को गार्ड्स
अपने साथ नहीं ले जाते बल्कि वह बिल्डिंग
में ही मौजूद रहती है यह चाबी एक दूसरे

सेफ में रखी गई थी जिसे तोड़ना इन शातिर
चोरों के बाएं हाथ का खेल था इस तरह
उन्होंने उस सेफ को तोड़कर ओरिजिनल चाबी
बाहर निकाली और उसे वॉल्ट रूम के दरवाजे
को खोल दिया उन्होंने वॉल्ट रूम में एंटर
करने से पहले सभी लाइट्स ऑफ कर दी ताकि वह

लाइट सेंसर द्वारा डिटेक्ट ना की जा सके
फिर अंधेरे में ही उन्होंने कार्डबोर्ड
बॉक्सेस को एक डंडे पर लटकाकर सेंसर्स को
कवर करना शुरू कर दिया और एक टेप की मदद
से उन्हें सेंसर्स के साथ दीवार पर ही
चिपका दिया क्योंकि लियोनार्डो ने उन्हें

हेयर स्प्रे से पहले ही कवर कर रखा था
इसलिए इन सेंसर्स ने उसकी इस इंप्रूवमेंट
को डिटेक्ट नहीं किया और इस तरह वह
सक्सेसफुली अब वॉल्ट के अंदर दाखिल हो
चुके थे अब उनके सामने लॉकर से भरी

अलमारियां थी और हर लॉकर के अंदर करोड़ों
के डायमंड्स और ज्वेलरी मौजूद थी यहां पर
कुल 190 लॉकर्स मौजूद थे जिनके ताले
तोड़कर वह उनके अंदर का सामान अपने बैग्स
में भरने लगे कैश ज्वेलरी और डायमंड्स को

मिलाकर करीब 100 मिलियन डॉलर्स का सामान
ही वह अपने बैग्स में भर पाए लेकिन जिसके
बाद उनका समय खत्म भी हो रहा था और बैग्स
भी फुल हो गए थे सोचिए उन्होंने 190 में

से अभी सिर्फ 100 ही बॉक्सेस खोले थे
लेकिन फिर भी उन्होंने अपने लालच को काबू
में रखा अपनी कार तक लौटने से पहले
उन्होंने सर्विलांस रूम में जाकर पिछले कई
दिनों की सभी फुटेज की टेप्स भी चुरा ली
ताकि पुलिस जब इन्वेस्टिगेट करे तो उन्हें

वह फुटेज ही ना मिले जिसमें जीनियस रात को
बिल्डिंग में आया था या जब लियोनार्डो ने
सेंसर्स पर हेयर स्प्रे इस्तेमाल किया था
चोरी के बाद सभी लोग वापस लियोनार्डो के
अपार्टमेंट में पहुंचे जहां सभी लोगों ने

आपस में बराबर बराबर लूट को बांट लिया अब
फैसला लिया गया कि भाई जल्द से जल्द पल से
बाहर निकला जाए उन्होंने जाने से पहले
अपार्टमेंट की भी अच्छे से सफाई की और
सारा ट्रैश कुछ बैग्स में भर दिया अब बाकी

लोग तो इटली के लिए निकल गए लेकिन
लियोनार्डो और ड्राइवर स्पीडी को अब इस
ट्रैश को ठिकाने लगाना था यह डिसाइड हुआ
कि दोनों अपनी कार में ही बॉर्डर क्रॉस
करेंगे और रास्ते में इस ट्रैश को डंप कर

देंगे व लोग भी वहां से चले गए लेकिन
रास्ते में स्पीडी इस ट्रैश को लेकर नर्वस
होने लगा वह जानता था कि अब पुलिस इस चोरी
को इन्वेस्टिगेट कर रही होगी और किसी को
भी अगर उनकी कार में यह ट्र मिलता है तो
मुमकिन है कि उन्हें अरेस्ट कर लिया जाए

स्पीडी को नर्वस देखकर लियोनार्डो ने एक
जंगल के अंदर ट्रैश को डंप करने का फैसला
किया दोनों ने एक ब्रिज पर कार को रोका और
लियोनार्डो बाहर आकर जंगल के अंदर चला गया
ताकि ट्रैश को डंप करने के लिए कोई सही

जगह ढूंढ पाए लियोनार्डो जब वापस लौटा तो
उसने देखा कि स्पीडी ऑलरेडी आधे से ज्यादा
ट्रैश बाहर फेंक चुका है और इस समय कोई
झगड़ा ना करते हुए उसने भी बाकी ट्रैश को
वहां पर फैलाना शुरू कर दिया इसके बाद यह

दोनों भी वापस इटली लौट गए इटली में वह
खुद को इस इसलिए भी सेफ महसूस कर पा रहे
थे क्योंकि इटली और बेल्जियम के बीच में
कोई एक्स्ट्रान ट्रीटी नहीं थी इसलिए
पुलिस को उनकी चोरी का पता भी चल जाता तो

उन्हें लगा था कि उनकी सरकार उन्हें
बेल्जियम पुलिस के हवाले नहीं करेगी दूसरी
तरफ डायमंड सेंटर के अंदर जब पुलिस पहुंची
तो उनके हाथ कोई ऐसा सबूत नहीं लगा जिससे
कि वह चोरों को पहचान सके लेकिन फिर

उन्हें एक कॉल आया यह कॉल एक बूढ़े आदमी
ने किया था जो हर सुबह जंगल की तरफ सैर
करने जाया करता था जंगल में जब उसने यह
ट्रैश देखा तो उसने नोटिस किया कि उस में

कुछ डॉक्यूमेंट थे जिनमें वर्ल्ड डायमंड
सेंटर बिल्डिंग का नाम लिखा हुआ था उसने
यहां पर होने वाली चोरी की खबर भी न्यूज़
पर सुनी थी इसलिए उसने तुरंत पुलिस को जो
है इंफॉर्मेशन

में पुलिस को जो सिक्योरिटी टेप्स मिली वो
तो अब बिल्कुल ही खराब हो चुकी थी और
उन्हें रिकवर नहीं किया जा सकता था लेकिन
उन्हें इस ट्रैश में जीनियस का वो फेक

वर्क परमिट जरूर मिल गया जिसके सहारे वो
बिल्डिंग के अंदर घुसा था इसके बाद
उन्होंने देखा कि जिस रात चोरी हुई तब
लियोनार्डो के सेफ बॉक्स को नहीं तोड़ा
गया था इस तरह धीरे-धीरे पुलिस ने केस
बिल्ड अप करना शुरू किया और उनके सामने कई

ऐसे सबूत आए जिससे वह श्योर थी कि इसके
पीछे लियोनार्डो का ही हाथ है लेकिन वह
जानते थे कि बिना पुख्ता सबूत के वह इटली
की सरकार से उसे हैंड ओवर करने के लिए
नहीं कह सकते लेकिन तभी कहानी में एक नया

ट्विस्ट आया कुछ महीनों बाद लियोनार्डो
खुद ही एंटवर्प वापस आ गया ताकि उस पर
किसी को शक ना हो लेकिन जैसे ही वह
बिल्डिंग के अंदर घुसा गार्ड्स ने पुलिस
को इंफॉर्मेशन
लियोनार्डो ने अपना जुर्म भी कबूल कर लिया

लेकिन उसने अपने साथियों के नाम नहीं बताए
उसके अपार्टमेंट को जब सर्च किया गया तो
वहां पर उन्हें सिम कार्ड्स मिले जिससे कि
वह जीनियस पीडी और मनस्टर को ट्रेस करने
में कामयाब हो पाए और इटली की सरकार

उन्हें हैंड ओवर करने के लिए भी मान गई
लेकिन इस डुप्लीकेट की मेकर की आइडेंटिटी
कभी बाहर नहीं आई लेकिन लियोनार्डो और
उसके साथियों की किस्मत भी खराब नहीं थी
क्योंकि बेल्जियम में चोरी फिर चाहे कितनी

की भी हो गई हो उसे बहुत बड़ा ऑफेंस नहीं
माना जाता है 2005 में सभी को सजा सुनाई
गई तो लियोनार्डो के साथियों को 5 साल की
सजा हुई और लियोनार्डो को 10 साल की
लियोनार्डो को 2009 में ही परोल पर छोड़
दिया गया था जिसके बाद वह वापस इटली लौट

गया इनमें से किसी को भी अपना चुराया हुआ
पैसा वापस नहीं लौटाना पड़ा और सभी जेल से
बाहर आने के बाद पुलिस की नजर से दूर हो
गए 100 मिलियन डॉलर की इस चोरी में सभी के
हिस्से में करीब 20 मिलियन डॉलर्स आए थे

और आज भी यह लोग कहीं इस पैसे से ऐश कर
रहे हैं और यही थी हिस्ट्री की सबसे बड़ी
डायमंड हाइस्ट की स्टोरी क्या आप जानते
हैं कि एंटवर्प के जिस शहर में यह चोरी
हुई वहां से सूरत का डायमंड मार्केट भी

शुरू हुआ था अगर आप सूरत और एंटवर्प के
डायमंड मर्चेंट्स के कनेक्शन पर अलग से एक
वीडियो चाहते हैं तो हमें कमेंट्स में
लिखकर जरूर बताइएगा खैर उम्मीद करते हैं
आपको आज के इस वीडियो में काफी कुछ नया
मिला होग

Leave a Comment