क्यों अमित शाह गिरफ्तार हुए थे? | When Amit Shah Got arrested? - instathreads

क्यों अमित शाह गिरफ्तार हुए थे? | When Amit Shah Got arrested?

आज राजनीति में अगर कोई नाम हमारे
प्रधानमंत्री के बाद सबसे ज्यादा लिया
जाता है वो है हमारे ग्रह मंत्री अमित शाह
लेकिन जैसा की हम जानते हैं की ये नेता और

राजनीति किसी को नहीं छोड़ दी हर राजनेता
कहीं ना कहीं कभी ना कभी राजनीति में होने
का नुकसान भी झेलता है ऐसा ही हुआ था एक
बार अमित शाह के साथ जब उन्हें जेल जाना
पड़ा था की उन्हें जेल हुई थी क्या था
बुरा मामला आई जानते हैं लिए सबसे पहले

जानते हैं क्यों हुई थी अमित शाह को जेल
दरअसल अमित शाह को 25 जुलाई 2010 को सोहर
बुद्धि ने मामले में गिरफ्तार किया गया था
गिरफ्तारी इसलिए थी क्योंकि उन पर हत्या
जबरन वसूली और अन्य आरोपी के साथ

किडनैपिंग का भी इल्जाम लगाया गया था बता
दे किस से पहले साल 2005 में गुजरात में
हुए एनकाउंटर में तीन आतंकवादियों को मार
दिया गया था लेकिन कहा जाता है की
एनकाउंटर के पीछे अमित शाह का हाथ है और
इसे एनकाउंटर की जांच कर रही सीबीआई ने

इसे एक नकली एंड काउंटर बताया वहीं पर
पैसे लेकर एनकाउंटर करवाने का गंभीर आरोप
लगा था अब आपको ये तो पता ही होगा की मोदी
और अमित शाह का गुजरात में आज भी दानकवाज
है ये भी वही दौर था लेकिन उसे समय शाह को
गुजरात के मुख्यमंत्री पद के प्रमुख

दावेदारों में से एक माना जाता था हालांकि
गिरफ्तारी से उनके राजनीतिक कैरियर को चोर
पहुंची और इसी की वजह से गुजरात सरकार में
कई नेताओं ने खुद को दूर कर लिया उनके
साथी मंत्री उन्हें एक निरंकुश व्यक्ति

मानते द बता दे इस गिरफ्तारी के बाद जब
शान जमानत के लिए आवेदन किया तो सीबीआई ने
चिंता जाता है की वो अपने राजनैतिक शक्ति
का इस्तेमाल न्याय को रोकने के लिए करेंगी
हालांकि गुजरात हाई कोर्ट ने उनकी
गिरफ्तारी के तीन महीने बाद शुक्रवार 29

अक्टूबर 2010
आफताब आलम ने उन्हें गुजरात में प्रवेश
करने से रोकने के लिए उनके निवास पर एक
याचिका ली और इस तरह शाह को 2010 से 2012
तक जबरन राज्य से निर्वाचित कर दिया गया
था जिसके बाद वो और उनकी पत्नी दिल्ली के

गुजरात भवन के कमरे में चले गए बाद में
सुप्रीम कोर्ट ने सीबीआई की याचिका पर
उनकी जमानत पर रद्द कर दी सितंबर 2012 में
सुप्रीम कोर्ट ने उन्हें जमानत दे दी और
उन्हें गुजरात लौटने की परमिशन दी गई बता
दें की उनकी जमानत के बाद उन्होंने

नारायणपुरा निर्वाचन क्षेत्र से 2012 का
विधानसभा चुनाव लड़ा और वो चुनाव जीता अभी
यहां एक पॉइंट नोटिस करना की अमित शाह ने
तब के गृह मंत्री चिदंबरम को ध्यान में
रखा था क्योंकि कहीं ना कहीं उनकी

गिरफ्तार में उनका हाथ था अब साल 2014 देश
में लोकसभा चुनाव हुए द पूरे देश में मोदी
लहरिस कदर चल रही थी की बीजेपी की जीत तय
थी और बीजेपी जीती भी लेकिन वो पूर्ण
बहुमत से अपनी सरकार बनाएगी इस बार में
खुद बीजेपी ने भी शायद ही सोचा चुनाव के

पहले हर पार्टी कहते हैं की वो पूर्ण
बहुमत से सरकार बनाने जा रही है लेकिन
चुनाव बाद पूर्ण बहुमत मिलना अब तक
मुश्किल हुआ करता था लेकिन अमित शाह की
केंद्रीय राजनीति में कदम रखते ही बीजेपी

ने कई राज्यों में अपनी बहुमत की सरकार
बनाई इतना ही नहीं आज देश में 29 में से
11 राज्यों में बीजेपी के मुख्यमंत्री हैं
जबकि पंच राज्यों में बीजेपी सट्टा में
भागीदार है इसका श्री अगर अमित शाह को

दिया जाए तो शायद गलत नहीं होगा अमित शाह
पार्टी अध्यक्ष और उन्हें बीजेपी का
चाणक्य कहा जाता है लोकसभा चुनाव के बाद
से अगर दिल्ली और बिहार जो छोड़ दिया जाए
तो पार्टी ने हर जगह अच्छा प्रदर्शन किया
और अपनी सरकार बनाई जम्मू कश्मीर जैसे
राज्य में भी बीजेपी सट्टा में भागीदार है
बीजेपी अगर इस समय अपने गोल्डन पीरियड में

है तो उसकी पीछे मंत्री
2019 में आईएएस मामले में सीबीआई और एड की
कार्यवाही चिदंबरम के खिलाफ हुई और
राजनीति में समय का पहिया कब कहां कैसे
घुमा ये देश देखते रह गया और देश के राज
नीति में भूचाल आया कांग्रेस के काद्यावर
नेता पीतम गिरफ्तार हुए और दिल्ली हाई

कोर्ट ने उन्हें एंटी सेक्रेटरी बेल देने
से इनकार कर दिया जिसके बाद उसे सुप्रीम
कोर्ट की तरफ चले जाते हैं साफ है जिस साल
चिदंबरम की गिरफ्तारी हुई उसके 10 साल
पहले गृहमंत्री अमित शाह के साथ भी कुछ

ऐसा ही हुआ था उसे समय सभी जांच एजेंसी या
सेज पीछे पड़ी थी समय का चक्कर घुमा और
राजनीतिक समीकरण भी बदल गए वर्तमान और
पूर्व गृह मंत्रियों के बीच एक अनोखी
सहयोग दिखाई दे रहा था चिदंबरम जो गृह
मंत्री द तब अमित चंद काउंटर मामले में

तड़ीपार हुए द अब हुए गृह मंत्री बने तो
चिदंबरम की गिरफ्तारी की शुभ होगा शुरू हो
गई अगर आप एक चीड़ शर्म वाली कहानी के
फ्लैशबैक में जाए तो आपको पता चलेगा की
कांग्रेस समेत अन्य विपक्ष के नेता केंद्र

सरकार पर जांच एजेंसी के दुरुपयोग का आरोप
लगा रहे हैं इसी कहानी में करीब एक दशक
पहले जब विपक्ष में भाजपा थी तब उसने
कांग्रेस सरकार पर यही आरोप लगाए द उसे
समय गृहमंत्री के पद पर बिचड़ब्रम्ही द
केंद्र में डॉक्टर मनमोहन सिंह की सरकार

के समय साल 2008 में मुंबई में जब
आतंकवादी हमला हुआ था तब तत्कालीन गृह
मंत्री शिवराज पाटिल की कम करने के तरीके
पर सवाल उठा गए द इसके चलते पीते चिदंबरम
को नवंबर 2008 में गृह मंत्री बनाया गया

बाद में साल 2009 में डॉक्टर मनमोहन सिंह
सरकार में चिदंबरम फिर गृह मंत्री बनाए गए
उनका कार्यकाल 30 नवंबर 2008 से 31 जुलाई
2012 तक का था और इसी दौरान साल 2010 में
अमित शाह को फर्जी एनकाउंटर के नाम पर
पकड़ा गया था लंबी कानूनी लड़ाई के बाद 30

से डिस्चार्ज कर दिया लोकसभा चुनाव 2019
में मोदी सरकार में उन्हें केंद्रीय गृह
मंत्री बनाया गया और अमित शाह की
गृहमंत्री पद को संभालते ही पीछींद्रम की

धर पकड़ की तैयारी शुरू हो गई और उनके
खिलाफ लुक आउट का नोटिस भी जारी किया गया
यानी की अब बात है राजनीति और राजनीतिक
किसी को नहीं छोड़ सकता लिए अब आपको अमित
शाह के बारे में थोड़ा ब्रीफ में बता दें
बीजेपी के नेशनल प्रेसिडेंट अमित शाह का

जन्म 22 अक्टूबर
1964 को मुंबई के बिजनेसमैन फैमिली में
हुआ था उनका पूरा नाम अमित अनिल चंद्र शाह
है और उनके पिता का वाइफ का बिजनेस था
शर्की स्कूल पढ़ाई मेहसाना से हुई और उसके
बाद वो ग्रेजुएशन करने के लिए अहमदाबाद ए
गए क्या उन्होंने बायोकेमेस्ट्री से

ग्रेजुएशन किया ग्रेजुएशन के बाद उन्होंने
कुछ समय तक अपना फैमिली बिजनेस में संभाला
इसके साथ ही उन्होंने कोऑपरेटिव बैंक में
स्टॉक ब्रोकर के तौर पर कम किया 1983 में

एबीवीपी से जुड़ने के बाद अमित शाह की
राजनीति में एंट्री हुई 3 सालों तक
एबीवीपी में कम करने के बाद 4 साल 1986
में बीजेपी में शामिल हुए इसके अगले साल
वो यूथ विंग बीजेपी युवा मोर्चा के
एक्टिविस्ट बन गए अपने कम के कारण शाह को
बीजेपी में कई बड़े पदों की जिम्मेदारी दी

गई उन्हें वार्ड सेक्रेटरी तालुका
सेक्रेटरी स्टेट सिक्योरिटी वाइस
प्रेसिडेंट और जनरल सेक्रेटरी की
जिम्मेदारी सौंप गई जिसके बाद 1991 के
लोकसभा चुनाव के दौरान लालकृष्ण आडवाणी के
लिए गांधीनगर में कैंपेन भी चलाया जैसा की
साल 1995 से पहले तक कांग्रेस ही गुजरात

में बड़ी पार्टी थी लेकिन मोदी और शाह की
जोड़ी ने मिलकर 1995 में पहली बार गुजरात
में बीजेपी सरकार बनाई उसे समय केशु भाई
पटेल मुख्यमंत्री बने इसके बाद से मोदी और
शान गुजरात में कांग्रेस को खत्म करने के

लिए रणनीति बनाई इसके लिए दोनों ने हर
गांव में सबसे प्रभावशाली नेता ढूंढा और
उसे बीजेपी में शामिल किया इस तरह दोनों
ने मिलकर गुजरात में हजारों लोगों का
नेटवर्क तो तैयार किया इसके बाद से

कांग्रेस अब तक गुजरात में वापसी नहीं कर
पाया और पिछले 22 सालों से बीजेपी की ही
सरकार है इसके बाद 1957 में अमित शाह ने
पहली बार सखी सु विधानसभा उपचुनाव लड़ा और
जीता भी फिर अमित शाह राजनीति में आगे

बढ़ते रहे और आज देश की सबसे बड़ी पार्टी
के नेशनल प्रेसिडेंट भी रहे हैं लेकिन
इनका राजनीतिक कैरियर इतना आसान नहीं रहा
2002 की गुजरात दंगों के बारे में आज कौन
नहीं जानता साल 2002 में गोधरा कांड के

बाद हुए दंगों में अमित शाह का नाम भी
जुड़ा और इसके लिए उन्हें जेल भी जाना
पड़ा दंगों में नाम शामिल होने की वजह से
कांग्रेस ने भी शाह को जमकर घेरा उसे अपने
कुछ दिन जेल में ही बिताना पड़े इसके बाद

सौरभुद्दीन एनकाउंटर के वक्त अमित शाह
गुजरात सरकार में होम मिनिस्टर द इसे
एनकाउंटर को कांग्रेस में फर्जी बताया
सौरव उद्दीन एनकाउंटर में नाम आने के बाद
चाकू 90 दिनों तक जेल में रहना पड़ा इसके
बाद जमानत पर बाहर आए लेकिन उनके दो साल

गुजरात आने पर रोक लगा दी गई 2015 में
सीबीआई स्पेशल कोर्ट ने सांप और लगे सभी
आरोपी को हटा दिया और क्लीन चित दे दी बता
दे साल 2016 में शाह जेल में द तब मीडिया
में खबरें आएगी शोहराबुद्दीन मामले में
उन्होंने कांग्रेस को खत्म करने की कसम

खाई थी रिपोर्ट्स में कहा गया था की जेल
में शाह भागवत गीता के श्लोक सुनते द और
यही उन्हें कांग्रेस के हाथ में की कसम ली
इसके बाद से अमित शाह और मोदी ने कांग्रेस
मुक्त भारत के लिए कम किया और उसी का

नतीजा है की कांग्रेस आज सिर्फ तीन
राज्यों में सिमट कर रह गई अगर मोदी जी और
शाह की दोस्ती की बात करें तो यूं तो अमित
शाह और नरेंद्र मोदी के बीच करीब 14 साल
का अंतर है लेकिन दोनों में भाइयों की तरह

रिश्ता प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अमित
शाह के जन्मदिन पर उनको भाई कहकर संबोधित
किया हमने ट्वीट करके लिखा की अमित भाई को
जन्मदिन की बधाई जो अपनी आइडियल लीडरशिप
बीजेपी को दे रहे हैं मैं उनके लंबे और
स्वस्थ जीवन की कामना करता हूं तो दोस्तों

ये थी हमारी आज की वीडियो आपको क्या लगता
है किस नेता को जेल होनी चाहिए हमें अपनी
राय कमेंट्स में देना आज की वीडियो पसंद
आई तो वीडियो को लाइक शेयर कर देना

Leave a Comment