गोदी मीडिया: "आएगा तो मोदी ही!" राहुल-तेजस्वी का ब्लैकआउट क्यों! - instathreads

गोदी मीडिया: “आएगा तो मोदी ही!” राहुल-तेजस्वी का ब्लैकआउट क्यों!

यह मत सोचिए कि सिर्फ भारतीय जनता पार्टी
का अंध समर्थक कह रहा है आएगा तो मोदी ही
जी नहीं पापा की तमाम परिया और गुल्लू
कालू रोज प्राइम टाइम में यही कहते हैं
आएगा तो मोदी आएगा तो मोदी प्रधानमंत्री

जो भी कहे वह मास्टर स्ट्रोक प्रधानमंत्री
स्कूबा डाइविंग करें वोह मास्टर स्ट्रोक
मगर जैसे जैसे चुनाव करीब आ रहा है
प्रधानमंत्री से किसी मुद्दे पर उनसे सवाल

नहीं किया जाएगा भारतीय जनता पार्टी की
किसी कमी पर उसे कटघरे में नहीं रखा जाएगा
और दूसरी तरफ विपक्ष को लगातार गाली दो वह
विपक्ष जो इनका नुकसान नहीं कर सकता है
उसे कटघरे में रखो उसे खलनायक बताओ और

उसका चरित्र हनन
करो दोस्तों आज मैं आपको सिलसिलेवार तरीके
से बताने वाला हूं कि जैसे जैसे चुनाव
करीब आ रहे हैं विपक्ष के खिलाफ किस तरह
से सुपारी लेकर गोदी मीडिया चल रहा है मगर
सबसे पहले मैं आपको एक वीडियो दिखाना
चाहता हूं तेजस्वी यादव

रोज जनता से रूबरू हो रहे हैं उन्होंने जन
विश्वास यात्रा निकाली हुई है मैं आपसे एक
सवाल पूछना चाहता हूं जिस तरह से उन्हें
प्रतिक्रिया मिल रही है क्या उसकी कोई भी
तस्वीर आप तक पहुंच रही है मैं आपको

किशनगंज की तस्वीर दिखाना चाहता हूं सिर्फ
एक मिनट का वीडियो है दोस्तों देखिएगा आप
अंदाजा लगाएंगे पाच घंटे देरी पहुंचने के
बावजूद जनता उन्हें किस तरह की प्र प्रि
दे देखते आप लोगों के बीच आए हैं आप लोग
जान रहे हैं कि आगे की लड़ाई के लिए आपकी
ताकत
चाहिए

और हम सब लोगों को मिलकर के एक रहने की
जरूरत है और एक रहेंगे तो हम लोग
अपने मुकाम तक पहुंचाएंगे
और हम लोगों का एक साफ मंत्र है एक एजेंडा
है जो लोग देश को तोड़ना चाहते हैं उनको
सबक सिखाना

है आप सब लोग जानते हैं कि हमारे चाचा फिर
से पलट
गए ये तो उनकी आदत बन चुकी है कोई
मुख्यमंत्री शपथ लेता है एक बार तो पा साल
सरकार चलाता है ये हर डेढ़ साल बाद पलटी
मारते हैं
मैं नहीं जानता कि ये भीड़ तेजस्वी यादव

के लिए इंडिया गठबंधन के लिए वोटों में
तब्दील होगी या नहीं होगी मैं आपको याद
दिलाना चाहूंगा कि पिछली बार जब बिहार में
विधानसभा चुनाव हुए थे तब बेशक महागठबंधन
सरकार नहीं बना पाई थी मगर

आरजेडी सबसे बड़े दल के तौर पर उभरी थी आज
तेजस्वी यादव की रैलियों में इसी तरह की
प्रतिक्रिया मिल रही है आपसे सवाल पूछना
चाहता हूं कितने गोदी मीडिया न्यूज चैनल्स
इस तस्वीर को दिखा रहे हैं राहुल और

अखिलेश मंच पर आए थे याद कीजिए तमाम गोदी
मीडिया न्यूज चैनल्स ने गठबंधन का मरसिया
पढ़ दिया था यानी गठबंधन नहीं होने वाला
है अखिलेश और राहुल जो है अब वह साथ-साथ
नहीं है गठबंधन होने के बावजूद इस तस्वीर
के मायनों को नहीं समझाया जा रहा है और अब

भी राहुल और अखिलेश पर निशाना साधा जा रहा
है मैं आपसे सवाल पूछना चाहता हूं क्यों
आपके सामने एक-एक करके मैं मिसाल पेश कर
रहा हूं दोस्तों किस तरह से गठबंधन होने
के बावजूद निशाने पर सिर्फ अखिलेश और

राहुल गांधी हैं सबसे पहले पापा कीय परी
उत्तर प्रदेश की 80 सीटों की लड़ाई यूपी
से खुलेगा 400 पार का द्वार टक्कर यूपी की
बाजी दिल्ली की यानी कि अभी से पापा की
परी ने बता दिया है कि चार सु पार भाजपा
पहुंच रही है

मैं आपसे एक सवाल पूछना चाहता हूं आपको यह
नहीं दिखाई दे रहा प्रधानमंत्री जो भी
कहते हैं जो भी करते हैं उसे गुरु मंत्र
की तरह गोदी मीडिया लगातार जो है वो भज
रहा है यह सिर्फ एक मिसाल नहीं है इस पापा

की परी की आगे देखिए साहब यह देखिए मोदी
के खिलाफ सब मिले हुए हैं जी अगर विपक्षी
गठबंधन एक होता है पहले तो जब एक नहीं
होता है तो उन्हें गालियां दो लगातार

गालियां दो और जब एक हो जाता है तो इस तरह
से ताने मारो फिर देखिए माननीय गुल्लू जी
क्या कह रहे हैं विपक्ष की यारी कौन किस
पर भारी यानी कि विपक्ष आपस में सिर्फ टबल
कर रहे हैं आपस में लड़ाई कर रहे हैं फिर

देखिए साहब तीसरी बार सत्ता पर पीएम मोदी
की भविष्यवाणी 20224 आम चुनाव के लिए
यात्रा वाली खास
तैयारी मैंने कहा ना पापा की परियां उसी
राग को बार-बार अलाप रही हैं 400 पार 400

पार 400 पार और आपको समझना पड़ेगा इसके
पीछे की वजह
जनता को लगातार ब्रेन वश किया जा रहा है
एक प्रचार के जरिए चार सु पार चार सु पार
चार सु पार और दूसरी तरफ विपक्ष को बटा
हुआ घटा हुआ लुटा पिटा हुआ दिखाया जा रहा

है मिसाल आपके सामने मोदी ने किया ऐलान
मैं फिर आ रहा हूं एक और पापा की परी पापा
जी का महिमा मंडन करते हुए फिर देखिए यूपी
में मोदी योगी का मिशन 80 ब 80 फिर देखिए
अमे के बाद वायना से राहुल की

छुट्टी यानी कि अब ये कहा जा रहा है कि
राहुल गांधी अमेठी से तो बहुत दूर की बात
है वायना से भी चुनाव नहीं लड़ पाएंगे
मेहनत देखिए कितना कर रही है य लोग फिर
देखिए कुरुक्षेत्र मोदी है तो मुमकिन है

भ्रष्ट का बचना नामुमकिन
है क्या इनसे कभी सवाल किया गया कि ईडी ने
इनकम टैक्स ने सीबीआई ने कभी किसी भारतीय
जनता पार्टी के नेता के घर पर दफ स्तर पर
रेड मारी बताइए बताइए क्या इनसे सवाल पूछा

गया कि नरेंद्र तोमर के बेटे एक स्टिंग
ऑपरेशन में दिखाई देते हैं करोड़ों की बात
कर रहे होते हैं वह वीडियो सही है या गलत
है उसकी अब तक जांच तक नहीं हुई है मगर
विपक्ष को लगातार भ्रष्ट बताना फिर देखिए

साहब मोदी की आस्था वाली डुबकी राहुल को
बहुत
चुभती आप जानते हैं प्रधानमंत्री नरेंद्र
मोदी ने जब द्वारका में इस तरह से डुबकी
लगाई थी
जब वो लाल कालीन पर बैठे थे समुद्र तल पर
भी उसी दिन राहुल और अखिलेश ने जोरदार

राजनीतिक दस्तक दी थी यह दोनों पॉलिटिकल
पार्टीज लगातार जद्दोजहद कर रही है कोशिश
कर रही है उनका मुकाबला जो है वह कठिन से
भी ज्यादा है उनके लिए जीत इस वक्त
नामुमकिन दिखाई देती है मगर विपक्ष कोशिश
कर रहा है लड़ रहा है हम उत्तर प्रदेश में

देख रहे हैं उसी तरह से जैसा कि मैंने
आपको बताया बिहार में तेजस्वी को लगातार
प्रतिक्रिया मिल रही है मगर क्या प्राइम
टाइम गोदी मीडिया में इन तस्वीरों को जगह
मिलती है दूसरी तरफ भाजपा की नाकामियों जो

रहती है ना दोस्तों उसकी कोई चर्चा नहीं
करता है मसलन उत्तर प्रदेश में यूपी पुलिस
भर्ती को लेकर छात्र एक बार फिर सड़क पर
है पुलिस उनके साथ ज्यादती कर रही है उनका
कॉलर पकड़ पकड़ कर उनके मोबाइल फोनस तक
उनसे छीन रही है ऐसा दावा पत्रकार कर रहे

हैं राजेश साहू जो कि पत्रकार हैं वोह
क्या कह रहे हैं मैं पढ़ के सुनाना चाहता
हूं प्रयागराज में आरओ एआरओ परीक्षा के
अभ्यार्थी आज फिर से प्रदर्शन पर हैं बाकी
दिनों की मुकाबले पुलिस आज उग्र है

दौड़ाकर पकड़ रही है युवाओं का मोबाइल
अपने कब्जे में ले रही है छात्र हैं कि
पीछे हटने को तैयार नहीं है पुलिस ने एक
हाथ पकड़ा है छात्र दूसरे हाथ से तख्ती
लहरा रहे हैं जिसमें लिखा है एक ही नारा

एक ही नाम रिएग्जाम रिएग्जाम मैं चाहूंगा
आप यह वीडियो देखिए क्योंकि यह वीडियो
आपको कोई नहीं
दिखाएगा
विपक्ष लगातार सवाल उठा रहा है

दोस्तों यहां पर इन छात्रों की ट्रेनिंग
नहीं हो रही है अभ्यार्थियों की ट्रेनिंग
नहीं हो रही है पुलिस जिस तरह से इनके
पीछे भाग रही है पुलिस भाग रही है इन पर
लाठियां चला रही है और जैसा कि पत्रकार
बता रहे हैं उनके मोबाइल फोनस तक छीन रही

है वह भाजपा जो कि मानने को तैयार नहीं थी
कि नकल हुई है उन्हें आखिरकार एग्जाम को
पोस्टपोन करना पड़ा बड़ा सवाल ये कि क्या
किसी गोदी मीडिया ने इस पर सवाल उठाए हैं
क्या कह रहे हैं अखिलेश यादव मैं आपको पढ़

के सुनाना चाहता हूं ये जो दौड़ भाग हो
रही है इसी वीडियो पर उनका सवाल है यह
इलाहाबाद में आरओ ए आरओ के री एग्जाम की
मांग के दौरान की दौड़ है किसी भर्ती की
दौड़ नहीं क्योंकि भाजपा राज में तो
भर्तियां जुमला बन गई
हैं अखिलेश यादव का बयान मगर मैं दावे के

साथ कह सकता हूं कोई न्यूज़ चैनल यह
वीडियो आप तक नहीं पहुंचाएगा उनका यह बयान
आप तक नहीं
पहुंचाएगा यह हकीकत है इस गोदी मीडिया की
मोदी राज में क्याक नहीं हो रहा है इसकी
चर्चा कोई गोदी मीडिया नहीं करेगा
इंटरनेशनल एजेंसी जब यह बताती हैं कि भारत

का जो लोकतंत्र है वह लगातार नीचे गिर रहा
है तो उसे साजिश के तौर पर पेश किया जाता
है मगर मैं आपको बतलाऊ दोस्तों क्या हो
रहा है पूर्व जस्टिस मदन लोकुर ने एक भाषण
में कई चिंताजनक बातें कही है
उनका यह कहना है कि अब सुप्रीम कोर्ट में

आम इंसान का विश्वास खत्म हो रहा है कई
मामले जो हैं कई अहम राजनीतिक मामले कुछ
खास जजेस को ही सौंपे जाते हैं नतीजा यह
होता है कि उन्हें राहत नहीं मिलती वह
मिसाल दे रहे हैं उमर खालिद की व मिसाल दे

रहे हैं कई लोगों की वो बता रहे हैं कि जब
मामला इन खास जजेस की तरफ जाता है तो
अलबत्ता तो उन्हें राहत नहीं
मिलती और अब क्या हो रहा है अब उनके खुद
के वकील उन केसेस को सुप्रीम कोर्ट से
वापस ले रहे हैं और दोबारा ट्रायल कोर्ट

में ले जाया जा रहा है आजाद भारत के
इतिहास में ऐसा कभी नहीं
हुआ यह तो हमारे लोकतंत्र पर सवाल है ना
मगर गोदी मीडिया आपको नहीं बताएगा गोदी
मीडिया क्या करेगा मैं आपको बताता हूं
गोदी मीडिया यह करेगा कि जब भी लोकतंत्र
पर सवाल उठेंगे प्रेस की आजादी पर सवाल

उठेगा तब वो एक टूल किट के अंतर्गत उन्हीं
लोगों को टारगेट करेगा जोय मुद्दे उठाएंगे
उन्हें जॉर्ज सोरस का दलाल बताएंगे उन्हें
यह बताया जाएगा कि भैया तुम्हें चाइना ने
स्पांसर किया हुआ है यह बात अलग है कि

इनके कार्यक्रमों में बाकायदा आप चाइनीज
कंपनियों के विज्ञापन देखते हैं उनके
प्रोडक्ट्स के विज्ञापन देखते हैं इन्हें
शर्म तक नहीं आती है
दोस्तों मैं चाहूंगा आप जस्टिस मदन लोकुर
को सुनिए उन्होंने क्या कहा है सुप्रीम
कोर्ट में जिस तरह से न्याय दिया जा रहा

है उनकी बात सुनिए
दोस्तों ए सिचुएशन वेर सम अ जर्नलिस्ट
वांट्स बेल द केस ज लिस्टेड द सेम डे मे
बी इन द
इवनिंग सम बडी हैज बीन ग्रांटेड
बेल
द प्रोसेक सेज नो द ग्रांट ऑफ बेल बाय द
हाई कोर्ट इज रंग सो अ स्पेशल बेंच सिट्स

ऑन अ सैटरडे एंड स्टेज दैट ऑर्डर वच इज
वेरी वेरी अनयूजुअल बट स्टे दैट ऑर्डर सो
दैट दिस पर्सन कैन नॉट कम आउट ऑफ जेल आई
एम रेफरिंग टू द केसेस ऑफ अर्णव गोस्वामी
एंड साई बाबा क्या गोदी मीडिया ने इसकी
चर्चा कहीं की एक फॉर्मर सुप्रीम कोर्ट का
जज यह बात कह रहा है कि सुप्रीम कोर्ट में

क्या हालात
है जस्टिस मदन लोकुर ने बेशक नाम ना लिया
हो मगर यहां इशारा किया जा रहा है जस्टिस
बेला त्रिवेदी की तरफ जैसा कि मैंने आपको
अपने कार्यक्रम में पहले बताया था दोस्तों
कि एक बहुत ही अजीबो गरीब चीज होती है
सुप्रीम कोर्ट की 2017 के दिशा निर्देश

हैं उनकी धज्जियां उड़ाकर सारे अहम केसेस
सारे अहम राजनीतिक केसेस जस्टिस बेला
त्रिवेदी के पास ही जाते हैं उमर खालिद का
मामला हो चंद्रबाबू नायडू का मामला हो
तमिलनाड के मंत्री का मामला हो यह सारे
मामले इन्हीं के पास जाते
हैं कपिल सिब्बल जो कि उमर खालिद के वकील

थे उन्होंने यह तक कह दिया कि मैं अपना
केस जस्टिस बेल्हा त्रिवेदी की अदालत से
वापस ले रहा हूं यह बतला रहा है कि किस
तरह से सुप्रीम कोर्ट में विश्वास खत्म
होता जा रहा है यह अप्रत्याशित है मगर जो
बात जस्टिस मदन लोकुर ने कही कोई आपको

नहीं सुनाएगा मैं समझना चाहता हूं
क्यों क्यों एक फॉर्मर सुप्रीम कोर्ट
जस्टिस इतनी बड़ी बात कह रहा है गोदी
मीडिया क्या कर रहा है आप जानते हैं
दोस्तों गोदी द मीडिया सिर्फ और सिर्फ

प्रधानमंत्री का महिमा मंडन कर रहा है और
उसकी मिसाल मैंने अभी-अभी आपको
दिखाई यह हकीकत होती जा रही है इस मीडिया
की और इस देश की जो निहायत ही शर्मनाक है
अब सार शर्मा को दीजिए इजाजत नमस्कार
स्वतंत्र और आजाद पत्रकारिता का समर्थन
कीजिए सच में मेरा साथी बनिए बहुत आसान है

दोस्तों इस जॉइन बटन को दबाइए और आपके
सामने आएंगे ये तीन विकल्प इनमें से एक
चुनिए और सच के इस सफ में मेरा साथी बनिए

Leave a Comment