तकदीर में जीत का उपहार लिखा गया है - instathreads

तकदीर में जीत का उपहार लिखा गया है

मेरे प्रिय बच्चे अब वह आ रहा है तुम्हारे

तकदीर में जीत की नई कहानी को पूरी तरह से

लिख देने के लिए अब उसका आना कोई भी टाल

नहीं सकता है यह बहुत ही मनोहर घटना होगी

बिल्कुल लुभा लेने वाली लेकिन तुम्हें कुछ

विशेष बातों का ख्याल रखना होगा तुम्हारी

मानसिकता पर जो बंधन के बोझ पड़े हुए हैं

तुम्हें उनसे स्वयं को मुक्त करना होगा और

ऐसा करना तुम्हारे लिए कितना आवश्यक है

तुम धीरे-धीरे यह समझ जाओगे क्योंकि जो

बाधाएं तुम्हें तोड़ने के लिए अब तक आई थी

अब वह अपना रूप परिवर्तित करेंगी अब उनका

अस्तित्व समाप्त होगा अब जीत की गाथा पूरी

तरह से तुम्हारे लिए होगी अब पल फिर से

आने वाला है मेरे प्रिय यही कारण है कि

तुम्हें इस संदेश को हर हाल में पूरा अंत

तक सुनना है चाहे परिस्थिति कोई भी हो इसे

बीच में छोड़कर जाने की भूल नहीं करनी है

क्योंकि अब तुम्हारे जीवन में जो होगा वह

ना केवल तुम्हारी सोच से अलग होगा बल्कि

कुछ ऐसा होगा जिससे तुम्हारा मन पूरी तरह

से रोमांचित हो उठेगा अब तुम उस दिव्य

धारा को देख पाओगे जो तुम्हारे लिए

तुम्हारी जीत को सुनिश्चित करने के लिए

तुम्हारे जीवन में प्रकाशित की गई है अब

चक्रव्यूह से आजाद होकर बंधनों को त्याग

कर नई प्रगति पर चलने का समय आ चुका है

मेरे प्रिय बच्चे तुम्हारी कहानी चौड़ी

अक्षरों से लिखी जाने वाली है इसे किसी भी

प्रकार से टाला नहीं जा सकता को कोई कितना

भी प्रयास क्यों ना कर ले उसे हारना ही

पड़ेगा क्योंकि तुम्हारी जीत अपूर्ण तय

सुनिश्चित हो चुकी है और इसे अपने जीवन

में उतारने के लिए इसे पाने के लिए

तुम्हें निरंतर इसकी पुष्टि करते रहनी

होगी जिस क्षण तुम इसकी पुष्टि करते हो

उसी क्षण एक अलग प्रकार की दिव्य धारा

तुम्हारे भीतर प्रवाहित होती है दिव्य

ऊर्जा तुमसे उत्सर्जित होने लगती है और

फिर तुम्हारे समस्त काम बनने लगते हैं

इसलिए संख्या ज्ञान लिखकर अपनी जीत

की पुष्टि कर दो मेरे बच्चे वह तुम्हारे

जीवन में प्रवेश करने वाला है जो तुम्हारी

जिंदगी के बहुत बड़े रहस्य से पर्दा हटाने

वाला है तुम्हारे जीवन में अब तक बहुत

सारे उतार चढ़ाव आ चुके हैं अपनी उम्र से

कहीं ज्यादा बड़े अनुभव देखे हैं तुमने

बहुत से ऐसे लोगों से मिल चुके हो तुम जो

मुंह पर तो कुछ और होते हैं लेकिन पीठ

पीछे कुछ और तुम्हारे जीवन में इस प्रकार

के लोग बहुत ज्यादा रहे

और दुर्भाग्य की यह रही है कि तुमने इन

प्रकार के लोगों पर बहुत ज्यादा भरोसा

किया है और उन लोगों ने तुम्हें बहुत धोखे

दिए हैं तुम स्वयं भी अंदर से कुछ और हो

मेरे बच्चे लेकिन बाहर से तुम्हें स्वयं

को कुछ और ही दिखाना पड़ता है लेकिन तुम

में और दूसरों में एक बहुत बड़ा अंतर यह

है कि तुम यह दूसरा चेहरा समाज में बने

रहने के लिए रखते हो जबकि अन्य लोग दूसरों

से लाभ उठाने के लिए दो चेहरे अपना हैं

मेरे बच्चे मैं जानता हूं कि तुम कई बार

समाज में अपने आप को स्थापित नहीं कर पाते

बहुत से लोगों के बीच जाकर तुम्हें अच्छा

नहीं लगता बहुत से ऐसे तुम्हारे रिश्तेदार

हैं जिनके बीच बैठकर तुम्हें आरामदायक

महसूस नहीं होता जिनके बीच तुम सहज महसूस

नहीं कर पाते जिनसे तुम्हारे मन में कुंठा

भरती चली जाती है इसी प्रकार समाज में भी

बहुत से ऐसे लोग मौजूद हैं जिनके तुम

सहजता पूर्वक नहीं रह पाते हो और उस

तत्कालिक क्षण में तुम्हें अपने वास्तविक

चेहरे पर एक मुखौटा ओड़ना होता है यह

मुखौटा मुस्कान का होता है यह मुखौटा

तुम्हारे वास्तविक स्वरूप से भिन्न होता

है वह जो तुम होते हो तुम्हें उसके विपरीत

अपने आप को दिखाना पड़ता है कई बार उनकी

कही हुई बात तुम्हें छुपती है तुम्हें

दर्द पहुंचाती है तुम्हें दुख पहुंचाती है

लेकिन इसके बावजूद तुम हंसकर उनका सामना

करते हो तुम उनसे लड़ने नहीं जाते तुम

उनका विरोध नहीं करने जाते कई बार इसका

कारण यह होता है कि तुम उनसे डरते हो और

कई बार इसका कारण यह होता है कि तुम नहीं

चाहते कि तुम किसी तरह के विवाद में पड़ो

मेरे बच्चे तुम्हारे भीतर यह जो दो चेहरे

बसे हैं यह समाज में स्वयं को स्थापित

करने के लिए ही है लेकिन जो अन्य लोग इस

प्रकार के दो तीन दसों चेहरे धारण किए हैं

उसका कारण यह नहीं है कि वह केवल स समाज

में स्वयं को स्थापित करना चाहते हैं

बल्कि दूसरों से लाभ लेने के लिए कभी किसी

के पद का लाभ लेने के लिए तो किसी के धन

का लाभ लेने के लिए विभिन्न प्रकार के लाभ

के लिए लोग विभिन्न प्रकार के चेहरे अपनाए

हुए हैं तुम उनसे बेहतर हो उनसे अलग हो

क्योंकि तुम्हारा उद्देश्य लाभ कमाना नहीं

है बल्कि तुम्हारा उद्देश्य स्वयं को गलत

ना साबित करना है स्वयं को अहंकारी ना

दिखाना है तुम्हारे प्रारब्ध और उनके

प्रारब्ध में अंतर है लेकिन मेरे बच्चे इस

प्रकार की क्रियाएं करने से तुम कहीं ना

कहीं भीतर से स्वयं को कमजोर महसूस करते

हो तुम वह नहीं रह पाते जो तुम वास्तविक

हो जबकि वास्तव में तुम ऐसा जीवन जीना

चाहते हो जहां तुम अपने वास्तविक स्वरूप

को निखार सको जहां तुम अपने वास्तविक

स्वरूप को दिखा सको लेकिन आर्थिक संपन्नता

की कमी की वजह से सामाजिक संपन्नता की कमी

की वजह से तुम्हें यह मुखौटा धारण कर

पड़ता है और तुम एक प्रकार के बंधन में

बंधते चले जाते हो जबकि तुम्हारी

वास्तविकता इससे अलग है मैं जानता हूं तुम

एक ऐसा समाज चाहते हो जहां तुम खुलकर जी

सको जहां तुम्हें किसी को कुछ साबित ना

करना हो जहां तुम्हें किसी बात का भय ना

हो जहां तुम्हें झूठ का मुखौटा धारण करके

जीवन ना जीना हो मैं समझता हूं तुम्हारे

मन की दुविधा को कई बार अपने परिवार वालों

के बीच यहां तक कि अपने साथी से भी

तुम्हें मुखौटा ओढ़कर बात करना होता है

तुम्हारा साथी भी तुम्हारी कई बातों को

समझ नहीं पाता तुम जिस भाव में जो बात

कहना चाहते हो वह उसके विपरीत समझ लेता है

वह नहीं जान पाता कि तुम्हारे दिल में

क्या है इसलिए तुम्हें वह मुखौटा धरण करना

पड़ता है मैं समझता हूं मेरे बच्चे की

तुम्हारे भीतर प्रेम है लेकिन तुम उसे

जाहिर नहीं कर पाते और इस प्रेम को दिखाने

के लिए भी तुम्हें उस दूसरे चेहरे को ड़ना

पड़ता है जबकि वह तुम्हारी वास्तविकता

नहीं है लेकिन मेरे बच्चे अब मैं तुम्हारे

जीवन में एक ऐसे व्यक्ति का प्रवेश कराने

वाला हूं जो तुम्हें स्वतंत्र होकर जीने

में मदद करेगा जो तुम्हें यह सिखाएगा कि

कैसे तुम बिना डरे हुए खुलकर अपना जीवन जी

सकते हो कि कैसे तुम बिना डरे हुए खुलकर

लोगों के समक्ष अपनी बात रख सकते हो वह

तुम्हें आर्थिक संपन्नता दिलाने में मदद

कराएगा क्योंकि जब तुम्हा जीवन में आर्थिक

संपन्नता आएगी तुम्हारे जीवन में धन की

बढ़ोतरी होगी जब तुम्हारे पास शक्ति आएगी

जब तुम्हारे पास आर्थिक रूप से समृद्धि

आएगी तब तुम खुलकर अपना जीवन जी पाओगे तब

तुम बिना डरे अपना जीवन जी पाओगे क्योंकि

तुम्हारे भीतर तब आत्मविश्वास बढ़ता जाएगा

तुम्हारे अंदर से वह आवाज आएगी कि तुम

निडर होकर जीवन जी सको जो तुम करना चाहते

हो उसे कर सको तुम्हारी स्वतंत्रता के लिए

तुम्हारी आर्थिक संपन्नता सीधे जिम्मेदार

है इसलिए तुम्हें हर हाल में आर्थिक रूप

से संपन्न होना ही होगा इसलिए तुम्हें हर

हाल में आर्थिक समृद्धि प्राप्त करनी होगी

और तब तुम अपने प्रेम को जाहिर भी कर

पाओगे और तब तुम वो जो चाहते हो वह कर

पाओगे क्योंकि जब तुम जो चाहते हो वह कर

पाओगे तभी तुम अपने प्रेम को दिखा पाओगे

तुम जानते हो ना प्रेम जाहिर करने के लिए

भी धन की आवश्यकता पड़ी जाती है कई बार

तुम अपने साथी के लिए जो करना चाहते हो

उसमें धन का अभाव एक बहुत बड़ा कारण बन

जाता है तुम्हारे ना करने के पीछे क्योंकि

जब तुम्हारे पास धन होगा तो तुम बहुत से

भौतिक संसाधन जो उच्च कोटि के भौतिक

संसाधन है उनका प्रयोग करके अपने प्रेम को

दर्शा पाओगे मेरे बच्चे प्रेम में भी धन

की आवश्यकता होती है और सच्चे प्रेम में

भी धन की आवश्यकता पड़ी जाती है बिना धन

के भी प्रेम दर्शाया जा सकता

लेकिन यदि धन मौजूद हो तो प्रेम को बहुत

बेहतर तरीके से प्रदर्शित किया जा सकता है

और प्रेम भी कहीं ना कहीं प्रदर्शन मांग

ही लेता है मेरे बच्चे मैं जानता हूं

तुम्हारे भीतर प्रेम करुणा बसी हुई है

लेकिन तुम्हारे साथी को इसका पूरा आभास

नहीं है और इसका पूरा आभास उसे तभी होगा

जब तुम अपने प्रेम को समुचित रूप से दर्शा

पाओगे इसलिए मैं तो तुम्हारे जीवन में एक

ऐसे व्यक्ति का प्रवेश कराऊंगा जो तुम्हें

पूरी तरह से सक्षम बनाएगा जो तुम्हें

आर्थिक सामाजिक धार्मिक आध्यात्मिक और

भौतिक रूप से सक्षम बनाएगा जो तुम्हें यह

बताएगा कि कोई भी भौतिक संसाधन कितनी ही

आसानी से प्राप्त किया जा सकता है मैं

जानता हूं कि तुम्हारे मन में अभी यह

प्रश्न आता है कि आखिर तुम कैसे अपने जीवन

को सवारो ग आखिर तुम कैसे उन भौतिक

संसाधनों को प्राप्त करोगे जिस की चाह

तुमने बचपन से की थी लेकिन जब वह व्यक्ति

तुम्हारे जीवन में आ जाएगा तब तुम्हारे

लिए सारे मार्ग बनते चले जाएंगे क्योंकि

तुम में साहस है बस थोड़े आत्मविश्वास की

आवश्यकता है तुम्हें वह तुम्हारे भीतर

आत्मविश्वास को प्रवाह कर देगा इतना

आत्मविश्वास कि तुम हर चीज में जीतते चले

जाओगे तुम पराजय हार का कभी मुख नहीं

देखोगे वह व्यक्ति तुम्हें पूरी तरह से

सक्षम बनाएगा वह जल्द ही तुम्हारे जीवन

में आने वाला है आने वाले अगले दिन

तुम्हारे लिए बहुत महत्त्वपूर्ण होने वाले

हैं इन दिन के बाद तुम्हारी किस्मत

पूरी तरह से बदलने वाली है तुम्हारा जीवन

एक नया मोड़ लेने वाला है बहुत से ऐसे लोग

जो छूट गए थे वह तुमसे आकर मिलेंगे और

बहुत से ऐसे लोग जो तुम्हारे जीवन में

नकारात्मकता भरते चले जा रहे हैं जो

तुम्हारे जीवन को नरक बनाने से पीछे नहीं

हटते हैं उन्हें मैं तुम्हारे जीव वन से

दूर कर रहा हूं इतनी दूर कि तुम्हारा उनसे

कभी कोई सामना हो ही ना पाए मेरे बच्चे वह

जब सुनेंगे तो केवल यही सुनेंगे कि

तुम्हारी प्रगति हो रही है उनके भीतर से

ज्वालामुखी फूट पड़ेगा यह जलन का ईर्ष्या

का द्वेष का ज्वालामुखी होगा जो उनके भीतर

से फूटे क्योंकि तुम्हारी प्रगति इस कदर

होने लगेगी और ऐसा नहीं है कि कोई भी यह

चाहता है कि उनके भीतर जलन उत्पन्न हो ना

ही तुम ना ही मैं ना ही यह समस्त सृष्टि

वासी लेकिन उनका वास्तविक स्वभाव ही जलन

ईर्ष्या द्वेष का है इसलिए तुम्हारे

शत्रुओं के भीतर यह भावना अवश्य उत्पन्न

होगी मैं उनका भी बचाव करना चाहता हूं

लेकिन मेरी प्रथम प्राथमिकता तुम हो मेरे

बच्चे इसलिए मैं सर्वप्रथम तुम्हें विजय

दिलाऊंगा मैं उनके कर्मों को भी सही करना

चाहता हूं मैं चाहता हूं कि उनका भविष्य

संवर जाए लेकिन यह उनके कर्म ही तय करेंगे

उनका भविष्य सब भरेगा या बिखरे का फिलहाल

वह गर्त में जा रहे हैं और तुम उठते जाओगे

क्योंकि तुम्हारे कर्म समुचित है तुम्हारे

कर्म सटीक हैं मेरे बच्चे अब सारी चिंता

त्याग दो तुम्हारे भीतर से सारे दुख दर्द

कष्ट दूर होने वाले हैं तुम विजय को

प्राप्त करने वाले हो सच्चे प्रेम को

प्राप्त करने वाले हो कोई भी तुम्हें

हराने नहीं पाएगा मेरा आशीर्वाद तुम्हारे

साथ रहेगा तुम आने वाले दिन में उस

व्यक्ति से मिल पाओगे वह कोई सामान्य

व्यक्ति नहीं है वह एक प्रकार का दूत ही

होगा तुम जब उससे मिलोगे तो शुरुआत में

तुम्हें थोड़ा अजीब सा लगेगा लेकिन

धीरे-धीरे तुम उसके साथ सहज महसूस करने

लगोगे और जैसे ही तुम उसके साथ धीरे-धीरे

सहज महसूस करोगे तुम अपने जीवन में प्रगति

करते जाओगे और तुम समझ जाओगे कि उसका

उद्देश्य क्या है मेरे बच्चे मेरा

आशीर्वाद हमेशा तुम्हारे साथ है सारी चिं

त्याग दो तुम्हारा कल्याण होगा तुम्हारे

शत्रुओं का विनाश होगा कोई भी तुम्हें

पराजित नहीं कर सकता मेरी कृपा तुम्हारा

संरक्षण करती रहेंगी धन की असीम वर्षा

होगी तुम्हारे जीवन में सच्चे प्रेम से

वाकिफ होने वाले हो तुम मेरा आशीर्वाद

स्वीकार करो करो अपनी आंखें बंद करो मुझे

महसूस करो आभार प्रकट करो मेरे बच्चे जो

तुम्हें मिला है वो दिव्यता से मिला है

प्रसाद रूप में मिला है इसलिए अपनी चिंता

त्याग कर जीवन में आगे बढ़ने की चेष्टा

करो प्रगति को पाने की चेष्टा करो अगले

दिन तुम्हारे लिए बहुत महत्त्वपूर्ण होने

वाले हैं अगले दिन में तुम नए-नए

अनुभवों को देखोगे आने वाले दिन

तुम्हें अजीब जरूर लगेंगे लेकिन यह

तुम्हारे लिए सकारात्मक होंगे मेरे बच्चे

तुम्हें सच्चे साथी से मिलाने वाला समय

आने वाला है यह समय तुम्हें जीत दिलाकर

रहेगा समय पर भी भरोसा रखो मुझ पर भरोसा

रखो मेरे ही गढ़ों में से कोई एक तुम्हारे

पास आएगा तुम्हारी सहायता के लिए और उसके

आने के बाद तुम्हारे जीवन में परिवर्तन

शुरू हो जाएगा मैं जानता हूं कि तुमने

बहुत दुख सहे हैं इसलिए अब तुम्हारे दुखों

के अंत का समय आ गया है अब समय आ चुका है

जब तुम्हारे जीवन से सारे कष्ट सारे दुख

दूर कर दिए जाएं अब समय आ गया है तुम्हें

आर्थिक समृद्धि प्रदान करने का और

तुम्हारे जीवन के वास्तविक प्रेम को

तुम्हारे जीवन में भेजने का अब समय आ गया

है तुम्हारे सम्मान को बढ़ाने का यही वह

उचित समय है जब तुम्हें अपना आत्म ज्ञान

होगा जब तुम्हें आत्मबोध होगा जब तुम यह

जान पाओगे कि तुम्हारे जीवन का वास्तविक

अर्थ क्या है तुम इस धरा पर क्यों मौजूद

हो मेरे बच्चे तुम्हारा समय आ चुका है

सारी चिंता त्याग दो जो छूट गया उसे भूल

जाओ और आने वाले कल का बाहे फैलाकर स्वागत

करो तुम्हारा व्यक्तित्व तुम्हारे भावों

पर निर्भर करता है है इस बात को भूलना मत

तुम जैसे भाव में रहोगे उसी प्रकार

तुम्हारे व्यक्तित्व का निर्माण होता चला

जाएगा अब तुम उम्मीद करो आशा करो और

कल्पना करो उस व्यक्ति के आने की क्योंकि

उसके आते ही तुम सारे चिंता को छोड़ने

वाले हो तुम नए जीवन में प्रवेश करने वाले

हो अपने नए संस्करण को प्राप्त करने वाले

हो मेरा आशीर्वाद स्वीकार करो तुम्हारा

कल्याण हो तुम्हारी प्रगति का समय है अपनी

प्रगति को स्वीकार करो मेरे आने वाले

संदेशों की प्रतीक्षा करना मैं आऊंगा

तुम्हें मार्ग दिखाने मेरे संकेतों को

स्वीकार करना मेरे गढ़ों में से उस दूध को

पहचानने की कोशिश करना जो तुम्हारी सहायता

के लिए भेजा गया है मेरा आशीर्वाद हमेशा

तुम्हारे साथ है तुम्हें सदैव संरक्षण

मिलता रहेगा तुम सदैव निगरानी में हो

तुम्हारा कल्याण हो रहा है स्वीकार करते

जाओ लेकिन इसके साथ ही यह कभी मत भूलना कि

तुम जो बांटो ग अपने लिए भी बदले में वह

प्राप्त करोगे चाहे प्रेम चाहते हो चाहे

धन चाहते हो चाहे ईर्षा चाहते हो चाहे

किसी भी तरह का अपनापन तुम्हें वहीं

बांटना होगा सुख समृद्धि तुम्हारी किस्मत

में लिखी जा चुकी है लेकिन इसे स्वीकार

करना तुम्हारे अपने चयन की बात है इसलिए

मेरे प्रिय अपने लिए जो भी पाना चाहते हो

वह बांटना प्रारंभ करो तुम जितना बांटो ग

वह चीज तुम कई गुना ज्यादा होकर प्राप्त

करोगे यही तुम्हारी नियति है यही तुम्हारा

भाग्य है इसे स्वीकार करो मेरे प्रिय

तुम्हारा कल्याण सुनिश्चित हो चुका है

Leave a Comment