राहुल गांधी पर अब FIR? इतना डर गई बीजेपी सरकार? | - instathreads

राहुल गांधी पर अब FIR? इतना डर गई बीजेपी सरकार? |

क्या इस देश में प्रदर्शन का इतिहास नहीं
रहा विरोध प्रदर्शन नहीं हुए आंदोलन नहीं
हुए क्या विपक्ष को अपनी बात रखने का
अधिकार नहीं है क्या इससे पहले कभी भी
विपक्ष का पुलिस के साथ टकराव नहीं हुआ

क्या बैरिकेडिंग नहीं तोड़ी गई क्या हम
भूल चुके हैं कि 20121 का जब निर्भया
आंदोलन हुआ था तो उस वक्त विपक्ष किस तरह
से दिल्ली पुलिस के साथ दोदो हाथ हो रही
थी क्या भारतीय जनता पार्टी के नेता भूल

गए कि निर्भया आंदोलन के ऊपर किस तरह से
उसके नेता जो है जमीन पर उतरे थे और आज
राहुल गांधी की न्याय यात्रा चल रही है तो
असम के मुख्यमंत्री हेमंत विश्व शर्मा ने
एफआईआर दर्ज कर दी है क्या इतना डर गई है

भाजपा राहुल गांधी की न्याय यात्रा से और
सबसे शॉकिंग दोस्तों हेमंत विश्व शर्मा जो
सबूत पेश कर रहे हैं वो सबूत भी
हास्यास्पद है कैसे है मैं आपको बताऊंगा
दोस्तों मगर सबसे पहले मैं आपको

बलानेग्लॉसुस
पर्सनेल बाय कांग्रेस मेंबर्स अ एफआईआर
हैज बीन रजिस्टर्ड अगेंस्ट राहुल गांधी
केसी वेण गोपाल कन्हैया कुमार एंड अदर

इंडिवि अंडर सेक्शन 120 बी 143 147 188
283 353 332 333 427 आईपीसी आर स्ड सेक्शन
3 ऑफ पीडीपीपी
एक्ट धाराएं देखिए साहब किस तरह से
सम्मानित और इनामत किया जा रहा है
कांग्रेस के नेताओं

को और हेमंत विश् शर्मा जो सबूत पेश कर
रहे हैं दोस्तों वो सबूत भी अपने आप में
कई सवाल खड़े कर रहा है उन्होंने एक
वीडियो पेश किया है यह कहते हुए कि देखिए
यह वीडियो इस बात का प्रमाण है कि राहुल

गांधी ने लोगों को भड़काया जिसके चलते
कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने बैरिकेडिंग
तोड़ी सबसे बड़ी बात यह वीडियोस जो है
चाहे वह राहुल गांधी का हो चाहे व
जितेंद्र सिंह का हो यह दोनों वीडियोस

बैरिकेडिंग टूटने के बाद के वीडियोस हैं
सबसे पहले मैं आपको बतलाना चाहता हूं कि
हेमंत ब कह क्या रहे हैं आपके स्क्रीन पर
प्रमाण सामने आ रहे हैं कि किस प्रकार से

राहुल गांधी और जितेंद्र सिंह ने भीड़ को
असम पुलिस के जवानों को मारने के लिए
भड़काया हमारे जवान जनता के सेवक हैं किसी
शाही परिवार के नहीं निश्चिंत रहिए कानून
के हाथ बहुत लंबे होते हैं आप तक जरूर

पहुंचेंगे सुनिए वह किस वीडियो का हवाला
दे रहे हैं इसमें आप राहुल गांधी और
जितेंद्र सिंह को सुनेंगे बैरिकेडिंग हटाए
जाने के बाद सुनते हैं अब
देखिए पर बैरिकेड था था नहीं था उड़ा के

फेंक दिया हमने आप सबों ने बैरिकेड भी
तोड़ दिया सब काम कर दिया है जीत हमारी
हुई है जीत सबसे बड़ी बात इस वीडियो
में हमले से पहले का जिक्र नहीं है राहुल

गांधी के ऐसे किसी बयान का जिक्र नहीं है
जो कि बैरिकेडिंग टूटने से पहले की हो और
सबसे बड़ी बात क्या इस देश का लंबा चौड़ा

इतिहास नहीं रहा है जब विपक्ष की जो है वो
पुलिस से होती रही है क्या भारतीय जनता
पार्टी जो है अपने वक्त को भूल गई कि जब
आप विपक्ष में हुआ करते थे तब दिल्ली के
अंदर किस तरह से आपकी दिल्ली पुलिस से

टक्कर होती थी क्या निर्भय आंदोलन को आप
भूल गए अब बैरिकेडिंग टूट रही है तो उसको
लेकर एफआईआर दर्ज किया जा रहा है उसको
अर्बन नक्सल बताया जा रहा
है सबसे बड़ी बात हेमंत विश्व शर्मा

चुनावी सभाओं में जाते हैं और धार्मिक तौर
पर सिटव संवेदनशील बयान देते हैं हिंदू
मुस्लिम करते रहते हैं मिया भाई मियां भाई
करते रहते हैं आपके इन बयानों को भड़काऊ
क्यों ना माना

जाए मैं आपको बतलाना चाहता हूं दोस्तों कि
राहुल गांधी ने सीधा हमला बोला हेमंत विश्
शर्मा पर और शायद यही वजह है कि हेमंत
बिसव शर्मा जो है उनके खिलाफ भड़के हुए
हैं पहले राहुल गांधी ने उन्हें भारत का
सबसे भ्रष्ट मुख्यमंत्री बताया था और अब
उन्होंने क्या कहा स्क्रीन पर असम के

मुख्यमंत्री ने दलितों और पिछड़े वर्ग का
जितना बड़ा अपमान किया कोई नहीं कर सकता
क्या कह रहे हैं राहुल गांधी आइए सुनते
हैं कुछ दिन पहले आपके चीफ मिनिस्टर का
ट्वीट देखा कहते हैं कि पिछड़ जात वाले

दलित जनरल कास्ट वालों के काम करने के लिए
पैदा हुए हैं जनरल कास्ट की सेवा करने के
लिए पैदा हुए हैं इससे बड़ा
अपमान पिछली चात वालों का द का कोई नहीं
कर सकता है मैं आपसे पूछना चाहता आम प जा

लोग से ओ से द से आप चप क हो आपने श नहीं
कहा आपका अपमान किया जा रहा है आपको अपनी
बात चीफ मिनिस्टर के सामने रखनी चाहिए मैं
रखता ह
दलित

ओ से कम नहीं
है जाहिर सी बात है दोस्तों कल आपको याद
होगा कि अखिलेश यादव राहुल गांधी के साथ
खड़े हुए नजर आए थे जब उन्होंने इस बात पर
आपत्ति दर्ज की थी कि मंदिर के दर्शन से

रोकना अपने आप में एक बहुत बड़ा पाप है
याद कीजिए पहले राहुल गांधी को अनुमति
मिलने के बावजूद मंदिर में प्रवेश नहीं
होने दिया गया उसके बाद उन्हें कॉलेज नहीं
जाने दिया गया हेमंत विश्व शर्मा ऐसा

बारबार लगातार कर रहे हैं और मैं आपको यह
भी बतला दूं दोस्तों कि इस मुद्दे पर आम
आदमी पार्टी भी कांग्रेस के साथ खड़ी हुई
दिखाई दे रही है क्या कह रहे सौरव
भारद्वाज उन्होंने सीधे हमला बोला है
हेमंत बिस शर्मा पर और कह रहे हैं कि

हेमंत विश्व शर्मा ऐसे बयान सिर्फ
सुर्खियों में बने रहने के लिए करते रहते
हैं उन्होंने भगवान राम का नाम तो लिया
मगर भगवान राम की मर्यादा नहीं सीखी राम
भी वण के सामने झुके थे राहुल गांधी की

न्याय यात्रा पर उन्होंने कहा कि मुझे
लगता है कि असम के मुख्यमंत्री हेमंत विश्
शर्मा को राजनीति नहीं पता लोग न्याय
यात्रा की चर्चा कर रहे हैं और यह राहुल

गांधी को फायदा दे रहा है हमारे बेस्ट
विशेस है राहुल गांधी के साथ दरअसल हो
क्या रहा मैं आपको बताता हूं दोस्तों जैसे
जैसे न्याय यात्रा बढ़ रही
है राहुल गांधी या कांग्रेस अपनी तरफ से
कुछ नहीं कर रही जिस तरह से दबिश जिस तरह

से अंकुश भाजपा की सरकार लगा रही है हेमंत
विश् शर्मा लगा रहे हैं इसका फायदा सीधे
तौर पर राहुल गांधी को मिल रहा है और अभी
आगे भी कई राज्यों से गुजरेगी और
स्वाभाविक सी बात है उत्तर प्रदेश में भी
प्रवेश

करेगी हेमंत विश्व शर्मा एक हल्का सा
ट्रेलर दे चुके हैं कि आगे जब गैर भाजपा
राज्यों में राहुल गांधी प्रवेश करेंगे तब
क्या होने वाला है इसका एक हल्का सा
ट्रेलर हेमंत विश् शर्मा दे चुके हैं बड़ा

सवाल यह कि राहुल गांधी जो अपनी न्याय
यात्रा में पांच किस्म के न्याय की बात कर
रहे हैं क्या इस वजह से भाजपा में चिंता
है क्योंकि इसके अंदर व महिला सम्मान की
बात कर रहे हैं युवाओं को न्याय देने की

जिसका जिक्र राहुल गांधी ने कल अपने प्रेस
कॉन्फ्रेंस में किया आइए सुनते हैं न्याय
यात्रा के
पीछे न्याय का आइडिया है और उसमें हमारे
पांच स्तंभ है जो देश को शक्ति देंगे पांच

न्याय के स्तंभ जो देश को शक्ति
देंगे युवा न्याय
भागीदारी नारी न्याय किसान न्याय और श्रम
के लिए न तो इन स्तम इन स्तंभ के लिए
हम एक प्रोग्राम आपके सामने कांग्रेस

पार्टी आपके सामने अगले एक महीने में डेढ़
महीने में र
दोस्तों मैं जानता हूं कि कई लोग कमेंट
सेक्शन में आकर कहेंगे कि भाई आप भारतीय
जनता पार्टी की क्यों आलोचना कर रहे हैं

आप कांग्रेस का पक्ष क्यों ले रहे हैं
मुद्दा कांग्रेस के पक्ष का लेने का नहीं
है मुद्दा यह है कि विपक्ष को प्रदर्शन
करने का अधिकार है यह पहली बार नहीं हुआ
है जब पुलिस के साथ टक्कर हुई है यह पहली

बार नहीं हुआ है जब बैरिकेडिंग को तोड़ा
गया है इससे पहले भी ऐसा होता आया है
भाजपा भी ऐसा करती रही है तो क्या उस वक्त
की सरकार ने उनके खिलाफ एफआईआर दर्ज किया
था सबसे बड़ी बात एक वो दौर भी था जब संसद

के
अंदर भाजपा के सिर्फ दो सांसद हुआ करते थे
क्या उस वक्त जो सरकार थी राजीव गांधी की
सरकार उन्होंने उन पर दबिश डालकर उन्हें
संसद के बाहर का रास्ता दिखला दिया था
जैसा हाल ही में करीब 1 स सांसदों

को दोनों सभा के स्पीकर्स ने निलंबित कर
दिया था
और अब पुलिस दबिश डाल रही है राहुल गांधी
तो पहले ही अपनी
सांसदीय कोर्ट का फैसला आया जिसकी वजह से
उनकी सांसदीय हो गई मैं फिर सवाल पूछना

चाहता हूं लोकतंत्र में विपक्ष की जगह है
या नहीं
है कानून हाथ में नहीं लेना चाहिए मगर
बड़ा प्रश्न यहां पर क्या इससे पहले कभी
भी भारतीय जनता पार्टी के नेताओं ने
बैरिकेडिंग नहीं तोड़ी
है और और हम क्या भूल गए कि निर्भया

आंदोलन के दौरान हमने दिल्ली में किस तरह
के नजारे देखे थे यह दोहरे मापदंड है और
लोकतंत्र की निगाह से निहायत ही चिंताजनक
मगर भाजपा को समझना चाहिए कि वह जितनी
ज्यादा दबिश डालेंगे जितना ज्यादा अंकुश

डालेंगे स्वाभाविक सी बात है कि यह विपक्ष
के लिए राजनीतिक तौर पर फायदेमंद साबित
होगा अभिसार शर्मा को दीजिए इजाजत नमस्कार
स्वतंत्र और आजाद पत्रकारिता का समर्थन
कीजिए सच में मेरा साथी बनिए बहुत आसान है

दोस्तों इस जॉइन बटन को दबाइए और आपके
सामने आएंगे ये तीन विकल्प इनमें से एक
चुनिए और सच के इस सफर में मेरा साथी बनिए

Leave a Comment