सभी कष्ट दूर करे महाकाली चालीसा - Mahakali Chalisa ~ माँ काली चालीसा With Lyrics - instathreads

सभी कष्ट दूर करे महाकाली चालीसा – Mahakali Chalisa ~ माँ काली चालीसा With Lyrics

:
हुआ है
:
कि अ
:
[संगीत]
:
ए मिनिट एगो
:
कि
:
[संगीत]
:
हम तनिक एनिमल है परिवार हवाल
:
महिषमर्दिनी का तरीका यह तय हो अब भज दादी
:
मान मिटावन हारी कुंडू अलग अलसो हत्यारी
:
अष्टभुजी सुखदायक ममता बनर्जी में
:
व्याख्याता निशान उद्
:
का उद्
:
लिए
:
तीसरे चौथे खटक प्लीज सब्सक्राइब
:
[संगीत]
:
हिखोज
:
डिशनरी एप
:
[संगीत]
:
फोन नंबर
:
को अधिकतम कर भर तंवर दाणा
:
जड़ मनहरण रुपये माता
:
अनुबंध भवानी
:
विषय टेंशन मुनि ग्यानी
:
मां शक्ति अधिक प्रबल पुनीता तू ही काली
:
तू ही पेशावर स्थित करनी है कल यानी कुल
:
घालक
:
[संगीत]
:
करे कृपया
:
तुम्हारा धार्मिक इन्हें सुनहरा ना मने
:
मां तुम्हारे भक्त जनों के संकट के बारे
:
में
:
को
:
प्ले के कष्ट कलेक्शन हरनी
:
लुटन मंगल करणी
:
महक की अध्यक्षता वे
:
नारद सारद पार न पावैं
:
पर भाइयों मारी तब तक
:
मांसाहारी आदि अनादि वर्धा विश्वविद्यालत
:
वजन घटता खुश मत मारो
:
दाखिल
:
[संगीत]
:
हुआ रोशन कुमार रूप लाल धीर व कल धत तेरी
:
आज्ञाकारी है
:
कर दो
:
हुआ है
:
कर दो
:
की
:
सरिता में रघुवर हित
:
i कल्याण की तेरी नचाई
:
बिल्कुल निराला
:
रमा रमण झा से प्यार मिला
:
लाखों रुपए दान धागे उद्योग भवन भवन
:
अधीर को लुभाया
:
राम चरण में
:
प्रॉब्लम
:
यही प्रचलित है मां महिषासुर वध भारी पड़ी
:
छह सकल नर-नारी करुण पुकार सुनी भक्तन के
:
पीर टावर जनसंघ की
:
आप
:
सभी प्रगति इसलिए सुमिता
:
नाम पड़ा महिला विजेता
:
शुंभ-निशुंभ नहीं चल माहिती
:
तुम समझा दो सर कोई ना ही
:
मानुष फलाहारी दत्त हल्के सदा सहायक भक्त
:
कि इन विन करें नित्य वफा वे मनवांछित फल
:
मेवा संकट में सुमिरन करे उनके बस
:
तुम्हारे
:
वृद्धों कृतिका वे मोह बंधन से मुक्ति व
:
काली चालीसा जो पढ़े लिए स्वर्ग लोक बिन
:
बंधन चढ़ गई दया दृष्टि है रोज जगदंबा के
:
ही कारण मांसपेशियों विलंब अगर घुमा तू
:
भक्तन रखवाली राधे जय श्री काली कंकाली
:
मैं सेवक दीन अनाथ अनारी ईएस
:
भक्तिभाव व्यक्ति शरण तुम्हारी ईएस
:
[संगीत]
:
अजय को
:
झाल

Leave a Comment