2024 लोकसभा चुनाव से पहले पलट गई बाजी, Rahul का ये वीडियो भाजपा की जमीन हिला देगा - instathreads

2024 लोकसभा चुनाव से पहले पलट गई बाजी, Rahul का ये वीडियो भाजपा की जमीन हिला देगा

नमस्कार

देश के सियासी हाल इन
दिनों कुछ ठीक नहीं है भाजपा राज में आज
किसान सड़कों पर हैं न्याय के लिए लोग
दरबदर की ठोकरें खाने को मजबूर हैं युवा
आज पढ़ लिखकर भी बेरोजगार हैं लोगों की

उम्मीदों पर पानी फिर गया है लेकिन भाजपा
के नेता हैं कि अलग ही राग अलाप रहे हैं
चुनाव के समय इस कदर वादे किए जाते हैं कि
मानो सच में ही पूरा कर देंगे लेकिन असल

में ऐसा बहुत ही कम देखने को मिलता है जो
केंद्र सरकार ने वादे किए हो और उन्हें
चुनाव जीतने के बाद पूरा किया हो पिछले 10
सालों की अगर हम बात करें तो इन 10 सालों
में भाजपा की सरकार रही है जनता के सामने

चुनाव के पहले उनके द्वारा बहुत से वादे
किए गए लेकिन पूरा करने के नाम पर बस
जुमले ही मिले भाजपा की इस नीति का विपक्ष
लगातार विरोध करता रहा लेकिन सत्ताधारी दल
सत्ता के नशे में चूर अपनी ही दुनिया में

व्यस्त है खैर अभी मौजूदा माहौल की बात
करें तो युवा सड़कों पर रोजगार मांगने के
लिए उतरने को मजबूर हैं किसान एमएसपी जैसे
तमाम मुद्दों को उठा रहे हैं यहां तक कि

पंजाब हरियाणा समेत अन्य राज्यों के किसान
आज अपने हक की बात करने दिल्ली आने को
मजबूर हैं लेकिन सत्ताधारी दल उन पर भी

लाठियां चलवा रहा है बॉर्डर को ऐसे सील
किया है जैसे कि मानो दुश्मन देश की सेना
ने हमला कर दिया हो साहब शायद भूल चुके
हैं कि यह किसान है और इसी देश के हैं आज

इन्हें जिस तरह से नकारा जा रहा है कल को
यह भी चुनाव में भाजपा को नकार सकते हैं
लेकिन साहब को अभी इनके इस दिल्ली कूट से
कोई फर्क नहीं पड़ता तभी तो देश का युवा
और किसान अपना घर बार छोड़ कर के सड़कों

पर सोने को मजबूर है और साहब है कि विदेश
के दौरे कर रहे हैं इतना ही नहीं वहां
जाकर के बड़ी-बड़ी बातें भी कर रहे हैं
मोदी जी अब यहां ही नहीं विदेशों में भी

जाकर गारंटी यां दे रहे हैं लेकिन उनकी
गारंटी कितनी सही साबित होगी और कितनी गलत
खैर यह तो आने वाला समय ही बताएगा लेकिन
मोदी सरकार द्वारा दी जा रही गारंटी को

लेकर विपक्ष दल जो है वह लगातार हमलावर है
दरअसल पीएम मोदी यूएई और कतर दौरे पर हैं
ऐसे में वहां से भी उन्होंने गारंटी के
पुल बांधे पीएम मोदी ने अबू धाबी में कहा
कि भारत 11वें नंबर से दूसरे नंबर की

अर्थव्यवस्था बन गया है इसी भरोसे के दम
पर मोदी ने एक गारंटी भी दी मोदी की
गारंटी आप जानते हैं मोदी ने अपने तीसरे
टर्म में भारत को तीसरे नंबर की इकोनॉमी
बनाने की गारंटी दी है मोदी की गारंटी

यानी गारंटी पूरा होने की गारंटी लोगों के
जीवन स्तर को सुधारने के लिए उनकी
परेशानियां कम करने के लिए लगातार काम कर
रहे हैं हमने 4 करोड़ से ज्यादा परिवारों
को पक्का घर बना कर दिया हमने 10 करोड़ से

ज्यादा परिवारों को नल से जल का कनेक्शन
दिया मोदी जी ने कहा कि हमने 50 करोड़ से
ज्यादा लोगों को ₹ लाख तक के मुफ्त इलाज
की सुविधा दी है गांव देहात के लोगों को

इलाज में दिक्कत ना हो इसके लिए हमने 5
लाख से ज्यादा आरोग्य मंदिर बनवाए हैं जो
लोग बीते दिनों भारत गए होंगे वह जानते
हैं कि भारत में कितनी तेजी से बदलाव आ

रहा है संबोधन में प्रधानमंत्री मोदी ने
कहा कि आज भारत की पहचान नए आइडिया और नए
इनोवेशन से बन रही है हालांकि आपको बता
बता दें कि पीएम मोदी भले ही विदेशों में

दौरे कर रहे हो और बड़े-बड़े वादे कर रहे
हो लेकिन हकीकत क्या है यह किसी से छिपी
तो है नहीं ऐसे में कांग्रेस नेता राहुल
गांधी ने पीएम मोदी द्वारा पिछले 10 सालों
में दी गई गारंटी को लेकर घेरा है

उन्होंने सोशल मीडिया पर वीडियो के जरिए
भाजपा और पीएम मोदी को घेरा है सांसद
राहुल गांधी ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी
को नई गारंटी से पहले पुरानी गारंटी का

हिसाब कराना चाहिए किसान की आय दोगुनी
करने की उनकी गारंटी झूठी निकली राहुल ने
पीएम मोदी पर हमला बोलते हुए कहा कि पीएम
मोदी पिछले 10 सालों से झूठे सपनों का बाय
स्कोप दिखा रहे हैं उन्होंने कहा कि

बीजेपी सरकार मतलब झूठ है और अन्याय की
गारंटी देश के सपनों के साथ न्याय
कांग्रेस करेगी आपको बता दें कि राहुल
गांधी ने

twitter4j गारंटी की नई बात होने लगी है
जो गारंटी 14 के पहले दी गई थी उसका क्या
हुआ वह जुमले निकले 2 करोड़ सालाना रोजगार
15 लाख सबके अकाउंट में सारा काला धन 100

दिन में वापस आएगा पेट्रोल और डीजल 35
प्रति लीटर पे मिलेगा फार्मर इनकम डबल
होगी 2022 तक 5 ट्रिलियन की इकॉनमी बनेगी
20222 तक हर छ सर पे छत होगी 2022 तक 100

स्मार्ट सिटी बनेगी 2022 तक
इस गारंटी का क्या हुआ क्योंकि यह गारंटी
नहीं यह जुमला था और ऐसे ही जुमले
लगातार बोले जा रहे आज सरकार कहती है

बेरोजगारी है ही नहीं आईटी कंपनीज ने 2 ला
60000 नौकरियां 2023 में घटा दी क्योंकि
निवेश और उपभोग दोनों नहीं हो रहा है
जुमला था 15 लाख बैंक अकाउंट में लाने का

बड़े-बड़े स्विंडलर्स बड़े बड़े वो लोग आप
पर चूना लगाकर आपकी नाक के नीचे देश छोड़
के भाग गए पिछले 10 साल में एक फूजिटिव को
सरकार वापस नहीं ले पाई चाहे वोह मोदी जी
के मेहुल भाई हो चाहे नीरव मोदी हो चाहे

विजय माल्या हो चाहे संदे सारा हो चाहे
रितेश जैन हो तमाम ऐसे लोग जो देश छोड़कर
मोदी सरकार की नाक के नीचे भाग गए यह
जुमला आता रहा कि 15 लाख अकाउंट में आएंगे

भगा उनको दिया गया चपत आपकी लग रही है
फार्मर इनकम डबल करनी थी ₹ कमा रहा है आज
का एवरेज फार्मर
25 करोड़ लोगों को गरीबी से निकाला गया
दोनों सदनों में मैंने सुना बड़ी निर्लज्ज

से प्रधानमंत्री और वित्तमंत्री इसकी बात
कर रहे हैं किसने इसकी पुष्टि की है नीति
आयोग ने मानक बदलकर क्या यूएनडीपी ने इसकी
पुष्टि की है क्या वर्ल्ड बैंक ने इसकी
पुष्टि की है क्या आईएमएफ ने इसकी पुष्टि

की और अगर यह सच है तो उपभोग क्यों कम है
अगर 25 करोड़ लोगों को गरीबी की सीमा रेखा
से निकाला गया तो 80 करोड़ को फ्री का
राशन क्यों देना पड़ रहा है अगर 25 करोड़
को निकाला गया तो माल न्यूट्रिशन क्यों है

हम 111 वां स्थान पर क्यों है भुखमरी के
इंडेक्स में यह बातें सरकार नहीं बताएगी
सरकार कहेगी हमने 11 करोड़ 80 लाख
फार्मर्स को पीएम किसान सम्मान दिया

असलियत यह है कि उनकी संख्या घटकर 8 करोड़
हो गई और एक असलियत यह भी है कि किसान से
आपने जीएसटी लगाया उसकी खाद पर उसकी दवाई
पर उसके कृषि के उपक्रम पर डीजल उसको

महंगा दिया 28 लाख करोड़ की वसूली आपने
सिर्फ किसान से करी और अंत में मैं सिर्फ
इतना कहना चाहती हूं बड़ी-बड़ी बातें
आईआईटी बनाए एम्स बनाए ट्रिपल आईटी बनाए
वेकेंट पोजीशन आईआईटी में 9600 के ऊपर है
ट्रिपल आईटी में 1000 के ऊपर है सेंट्रल
यूनिवर्सिटी में 22000 के ऊपर है पीएम

मुद्रा से बहुत पैसा दिया गया असलियत यह
है एवरेज लोन साइज 25000 का था 25000 आप
में से जिसको चाहिए उसको देते हैं एक धंधा
शुरू करक एक बिजनेस शुरू करके दिखाइए कोई
नहीं कर सकता है और अंत में जिस जीएसटी के

नाम पर बहुत कूद फांद हुई 50 प्र इस देश
की सबसे गरीब आबादी 44 प्र जीएसटी अदा कर
रही है और सरकार वसूली करके अपनी पीठ ठोक
रही है जिस इंफ्लेशन के नाम पर बड़े-बड़े
दावे किए जाते थे बहुत हुई महंगाई की मार
असलियत यह है कि फूड

इंफ्लेशन 9 पर के आसपास लगातार बना हुआ है
और एक साल भी पिछले पाच वर्षों में जो
इंफ्लेशन का लेवल है 4 पर वो अचीव नहीं
हुआ है लगातार 6 प्र के आसपास इंफ्लेशन
रहा है मुझे ऐसा लगता है कि काफी डिटेल

में मैंने इस पर बात करी है क्योंकि ये
कच्चा चिट्ठा सरकार का खोलना जरूरी था
खोलना इसलिए जरूरी था क्योंकि सरकार अगर
अपने ही दिए हुए मानकों से अपने ही दिए

हुए आंकड़ों से कंपैरिजन करें तो वो पाएगी
कि हर मोर्चे पर अर्थव्यवस्था के सरकार
पूरी तरह से विफल है चाहे वो निवेश हो
उपभोग हो ग्रोथ हो बेरोजगारी हो महंगाई हो

कर्ज हो रुपया हो पेट्रोल डीजल की कीमतें
हो ऐसा कोई भी मानक नहीं है जिसमें इस
सरकार ने मोदी सरकार ने यूपीए से बेटर
परफॉर्म किया हो तो झूठ बोलना एक कला है
लेकिन आंकड़ों के साथ खिलवाड़ नहीं किया

जा सकता है और यह सरकारी आंकड़े मैंने एक
भी आंकड़ा अपना नहीं कोट किया है एक भी
प्राइवेट आंकड़ा नहीं कोट किया है ये सारे
सरकारी आंकड़े हैं ये बजट के आंकड़े हैं

ये नेशनल एजेंसीज के आंकड़े हैं और अगर
सरकार के अंदर हिम्मत है तो जिस चार्ट का
मैंने यहां पर प्रोडक्शन किया है जो हम
आपके साथ साझा करेंगे ऐसी एक चार्ट सरकार
जरूर बनाए और लोगों के सामने लाए इस देश

को निर्धारित करने दीजिए कि हो क्या रहा
है जिस हिसाब से मौजूदा माहौल है ऐसे में
एक बात तो साफ है कि भाजपा अपने ही जाल
में फंसती जा रही है किसान सड़कों पर हैं

लेकिन साहब को कोई फर्क ही नहीं पड़ रहा
है ऐसा नहीं है कि भाजपा के सामने बस एक
ही चुनौती है बल्कि सुप्रीम कोर्ट के
द्वारा चुनावी बंड को असंवैधानिक बताते
हुए तत्काल प्रभाव से उस पर रोक लगा दी गई

है यह भाजपा के लिए खतरे की घंटी से कम
नहीं है आपको बता दें कि सुप्रीम कोर्ट की
पांच जजों की संवैधानिक बेंच ने मोदी
सरकार के लाय फैसलों को पूरी तरह से रद्द

कर दिया है चीफ जस्टिस डी वाई चंद्र चूर्ण
की अध्यक्षता वाली बेंच ने कहा कि चुनावी
बंड जारी करने में जो गोपनीयता बरती जाती
है वह सूचना के अधिकार कानून और मौलिक
अधिकारों का उल्लंघन है लिहाजा इसे रद्द

किया जाता है और अब से स्टेट बैंक को भी
नया चुनावी बंड जारी नहीं कर सकता है इसके
अलावा सुप्रीम कोर्ट ने स्टेट बैंक को कहा
है कि पिछले 5 सालों में बैंक ने कितने
चुनावी बंड जारी किए हैं किस पार्टी को

कितने बॉन्ड जारी किए हैं किस पार्टी को
कितने पैसे का बॉन्ड जारी किया गया है यह
सब जानकारी तीन सप्ताह के अंदर इलेक्शन
कमीशन को दी जाए सुप्रीम कोर्ट ने इलेक्शन

कमीशन को भी कहा है कि जब उसे सारी
जानकारी मिल जाए तो उस जानकारी को इलेक्शन
कमीशन की वेबसाइट पर प्रकाशित किया जाए
फिर क्या सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले के
आने के बाद यह खबर आग की तरफ फैल गई और
भाजपा को विपक्ष ने जम कर के घेरना शुरू
कर दिया इसे लेकर के ना सिर्फ राहुल गांधी

ने बल्कि अन्य नेताओं ने भी भाजपा को घेरा
इसी मामले पर राहुल गांधी ने सोशल मीडिया
मंच एक्सपर्ट पोस्ट के जरिए कहा नरेंद्र
मोदी की भ्रष्ट नीतियों का एक और सबूत
आपके सामने है बीजेपी ने इलेक्टोरल बंड को

रिश्वत और कमीशन लेने का माध्यम बना दिया
है आज इस बात पर मोहर लग गई है इसके अलावा
पवन खेड़ा ने भी भाजपा पर कई गंभीर सवाल
खड़े किए हैं उन्होंने कहा कि सुप्रीम
कोर्ट का फैसला अंधेरे में उजाले की किरण
की तरह है कांग्रेस शुरू से इलेक्टोरल

बॉन्ड योजना के खिलाफ थी राजनीतिक दलों को
मिले चंदे को लेकर लोगों को जानने का
अधिकार है एसबीआई जब दल की इलेक्टोरल
बॉन्ड की जानकारी सार्वजनिक करें
इलेक्टोरल बॉन्ड का 95 प्र चंदा यानी कि

5200 करोड़ रुपए बीजेपी को मिला इसके बदले
बीजेपी ने उन कंपनियों को क्या दिया
कांग्रेस को डर है सुप्रीम कोर्ट के फैसले
को पलटने के लिए सरकार कोई अध्यादेश ना ले
आए आज साफ हो गया है कि यह पीएम मोदी
द्वारा किया गया भ्रष्टाचार है ऐसे में

भाजपा चौ तरफा घिरी जा रही है लोकसभा
चुनाव नजदीक हैं और जनता से लेकर के
सुप्रीम कोर्ट तक भाजपा के लिए मुश्किलें
खड़ी कर रहे हैं अब एक बात तो तय है कि

भाजपा इस चुनाव से पहले कहीं ना कहीं
कमजोर पड़ रही है अब देखना यह होगा कि
भाजपा इन सब चुनौतियों से कैसे निपट है और
आगामी लोकसभा चुनाव से पहले इन सारे
मुद्दों को कैसे सुलझा पाती है यदि ऐसा

नहीं हो सका तो भाजपा को लोकसभा चुनाव में
भारी नुकसान का सामना करना पड़ सकता है
खैर अब यह तो आने वाला समय ही तय करेगा कि
किसके खेमे में कितने वोट पड़ेंगे और जीत
किसकी होगी क्योंकि इस बार भाजपा के सामने
इंडिया गठबंधन है और मजबूत माहौल को देखते

हुए यह कह सकते हैं कि लोकसभा चुनाव में
दोनों के बीच बहुत कड़ी टक्कर होने वाली
है फिलहाल के लिए इस खबर में बस इतना ह
धन्यवाद

Leave a Comment