2024 लोकसभा चुनाव से पहले PM Modi को लेकर Rahul Gandhi ने किया अब तक का सबसे बड़ा खुलासा! - instathreads

2024 लोकसभा चुनाव से पहले PM Modi को लेकर Rahul Gandhi ने किया अब तक का सबसे बड़ा खुलासा!

बाप रे क्या साहिब ने देश का इतना बड़ा
काट दिया 140 करोड़ की आबादी को इस लेवल
पर भी बेवकूफ बनाया जा सकता है क्या टोपी
पहनाई जा सकती है क्या वो भी आज के डिजिटल
युग में एक आदमी दुनिया के सबसे बड़े

लोकतांत्रिक देश को किस तरीके से झूठ और
प्रोपेगेंडा के दम पर सरेआम मूर्ख बना
सकता है इसका ये वाला जबरदस्त नमूना जब आप
देखेंगे तो आपको कहना ही पड़ेगा कि आडवाणी
और चौधरी साहब को तो छोड़ो पहले फलाने

साहिब को भारत रत्न दो और इससे भी कुछ हो
ब्रह्मांड रत्न टाइप का तो वो पकड़ा दो
क्योंकि भारत के इतिहास में इतनी बड़ी ठगी
कथित ठगी शायद ही किसी ने की हो

प्रधानमंत्री बनने के लिए आपने 15 लाख का
जुमला दिया 2 करोड़ रोजगार हर साल की बात
कही विदेशों से काला धन वापस लेने की बात
कही भ्रष्टाचार मिटाने की बात कही बुलेट
ट्रेन चलाने की बात कही 100 स्मार्ट सिटी

बनाने की बात कही महंगाई घटाने की बात कही
किसानों की आय बढ़ाने की बात कही इन सारी
बातों को जुमला मानकर भी थोड़ी देर के लिए
किनारे रखा जा सकता है हालांकि रखा नहीं
जाना चाहिए लेकिन रखा जा सकता है लेकिन यह

वाला जो कथित झोलझाल प्रधानमंत्री का
सामने आया है इसको किसी भी रूप में भुलाया
नहीं जा सकता इसको किनारे रखा नहीं जा
सकता यदि रखा तो यह मूर्खता की पराकाष्ठा
कही जाएगी और यकीन मानिए यह बात यदि देश

में जनजन तक पहुंच गई तो मोदी के 2024
वाले सपने का सबसे तगड़ा बंटाधार यहीं से
हो सकता है जी हां साहिब की जाति को लेकर
कांग्रेस ने तमाम कागजात प्रस्तुत करते
हुए बड़े भयंकर वाले खुलासे किए हैं जैसा

देश वैसा भेस तो आपने सुना होगा लेकिन
जैसी पोस्ट वैसी जाति नहीं सुना होगा यानी
जैसा पद वैसी जाति नहीं सुना होगा आज इसी
मसले पर हम विस्तार से बात करेंगे एक-एक
लाइन को ध्यान से सुनते जाइएगा ये पिछले

10 साल का सबसे बड़ा कथित फ्रॉड कहा जा
सकता है इससे पहले के पूरे मामले पर बात
करें आपसे अनुरोध ये है कि यदि आप हमें
पहली बार देख रहे हैं तो

क्यूआर कोड या फिर मोबाइल नंबर का प्रयोग
करते हुए हमें आर्थिक रूप से मजबूत कर
सकते हैं वैसे तो हमारे बीच रंग बदलने के
लिए गिरगिट बदनाम है लेकिन भारत के कुछ

नेताओं ने इस रेस में गिरगिट को मीलों
पीछे छोड़ दिया है मगर रंग और विचार बदल
लेना अलग बात होती है कुर्सी पाने के लिए
जाति ही बदल लेना ये एकदम अलग स्तर की बात

है और जाति बदलने के पीछे कथित रूप से
क्या-क्या खेल किया गया इसको समझना बड़ा
जरूरी है पिछले दिनों राहुल गांधी ने अपनी
भारत जोड़ न्याय यात्रा के दौरान
प्रधानमंत्री मोदी की जाति को लेकर बड़ा

गहरा सवाल उठा दिया उन्होंने साफ-साफ कह
दिया कि मोदी ओबीसी जाति में पैदा नहीं
हुए उन्होंने अपनी जाति को साल 2000 में
ओबीसी में शामिल किया इसके बाद से पूरे

देश में इस मसले पर चर्चा होने लगी है
क्या मोदी ने पूरे देश को जाति के नाम पर
उल्लू बनाया बेवकूफ बनाया पूरे देश से झूठ
बोला कि वो ओबीसी समाज से आते हैं इस

मामले पर सवाल उठते ही बीजेपी की तरफ से
एक पन्ना दिखाया गया और कहा गया कि देखो
देखो मोदी जिस जाति से आते हैं वो तो
19999 में ओबीसी में जोड़ी गई मगर

कांग्रेस ने उस पन्ने को पूरी तरह से
फर्जी बताया और पूरा डॉक्टर कमेंट सामने
रखा है हालांकि बीजेपी ने इतना कहते ही
इतना तो साफ कर दिया कि मोदी ओबीसी पैदा
नहीं हुए बाद में उनकी जाति को ओबीसी में

जोड़ा गया कांग्रेस ने जो डॉक्यूमेंट
सामने रखा है उसके जरिए उनका दावा है कि
यह सिद्ध होता है कि मोदी कहीं से भी
उसमें शामिल नहीं है इसके अलावा कांग्रेस

ने ये भी साफ-साफ कहा है कि यदि 1999 में
ही मोदी की जाति ओबीसी में शामिल हो गई थी
तो 1 जनवरी 2000 को 2002 को गुजरात के
मुख्यमंत्री ने दूसरा नोटिफिकेशन क्यों
निकाला जिसमें कई जातियों को ओसी में

शामिल किया गया यानी पहला झूठ तो यह पकड़ा
गया कि 1999 में यानी मोदी के गुजरात के
मुख्यमंत्री बनने से पहले ही उनकी जाति
ओबीसी में आ गई थी यह झूठ हो गया और

कांग्रेस जो कागजात दिखा रही है उसके
अनुसार यह साफ-साफ दिखता है कि मोदी 7
अक्टूबर 2001 को गुजरात के मुख्यमंत्री
बने और कुछ महीने बाद ही कई जातियों को
ओबीसी में शामिल किया गया इसके अलावा

कांग्रेस ने बाकायदा प्रेस कॉन्फ्रेंस
करके तमाम घटनाओं को बताया है जिसमें मोदी
के मुख्यमंत्री बनने के बाद मुंबई में
उनकी जाति से यानी उनके वर्ग से आने वाले
लोगों ने बड़ा आयोजन किया जिसमें कहा कि

हमारे जैसे सुपर अपर कास्ट का पहला
व्यक्ति गुजरात का मुख्यमंत्री बना है
उन्होंने बधाई दी और बकायदा मैगजीन में
फोटो वगैरह भी छपवा तो कांग्रेस का कहना
है कि यदि उस वक्त मोदी ओबीसी थे तो

उन्होंने खुद को सुपर अपर कास्ट बुलाए
जाने पर आपत्ति क्यों नहीं जताई विरोध
क्यों नहीं किया क्यों नहीं कहा कि अरे
मैं ओबीसी हूं कांग्रेस बार-बार यह सवाल
पूछ रही है कि जब तक वह गुजरात के

मुख्यमंत्री थे तब तक उन्होंने कभी क्यों
नहीं कहा कि वो ओबीसी हैं जब तक
प्रधानमंत्री बनने का सपना मन में नहीं
आया तब तक ओबीसी का जिक्र क्यों नहीं किया
गया अब सवाल यह है कि क्या प्रधानमंत्री

बनने के लिए नरेंद्र मोदी ने सुपर अपर
कास्ट से यानी बड़ी जातियों में भी जो
सबसे ऊपर वाली व्यापारी वर्ग होता है उससे
खुद को लाकर ओबीसी में जोड़ दिया क्योंकि
देश भर में वोट चाहिए था तो ओबीसी की

संख्या ज्यादा है तो वोट भी ज्यादा वहीं
से मिलेगा यानी जिस जाति से ज्यादा वोट
मिले उसी जाति में जाके घुस जाओ उसी वर्ग
में घुस जाओ क्या ऐसा खेल हुआ इसके साथ ही
राहुल गांधी पर मोदी सरनेम को लेकर जो

मुकदमा किया गया था उस मामले से भी कुछ
बड़े खुलासे कांग्रेस ने प्रेस कॉन्फ्रेंस
में किया है उसका कुछ कुछ हिस्सा हम आपको
सुनाने जा रहे हैं ध्यान से सुनिए मगर
उससे पहले जरा सोचिए कि मोदी ने खुद को

सबसे बड़ा ओबीसी तो बता दिया लेकिन पिछले
10 साल में उन्होंने ओबीसी समाज के लिए
क्या किया क्या-क्या किया एक तरफ खुद को
सबसे बड़ा ओबीसी बताते हैं दूसरी तरफ
जातीय जनगणना करवाने से भागते हैं बल्कि

उसको गलत बताते हैं देश भर में ओबीसी एससी
एसटी के तमाम पद खाली रहते हैं हाल ही में
विश्वविद्यालयों से खबर आई कि आरक्षित
पदों को निपटाने की कहानी चल रही है उत्तर
प्रदेश में शिक्षक भर्तियों में आरक्षण को
लेकर बड़े पैमाने पर गड़बड़ी की कहानी

सामने आई ओबीसी एससी एसटी समाज के तमाम
छात्र आंदोलन कर रहे हैं यदि प्रधानमंत्री
सच में ओबीसी होते तो कम से कम ओबीसी के
नाते ही उनके मन में इन युवाओं का दुख नजर
आता इनके लिए कुछ ठोस कदम उठाते क्या वजह

है कि प्रधानमंत्री का ख्वाब जगने के बाद
ही यानी उससे पहले कभी भी उन्होंने नहीं
कहा कि मैं पिछड़ी जाति का हूं मैं घांची
हूं इस खुलासे से बहुत सारे सवाल उठते हैं
सबसे महत्त्वपूर्ण सवाल यह है कि क्या

प्रधानमंत्री बनने के लिए तमाम साजिशों
झूठ फरेब और षड्यंत्र के साथ-साथ मोदी ने
अपनी जाति का भी गलत उल्लेख करके पू पूरे
देश को बरगलाया उससे भी बड़ा सवाल यह है
कि क्या बीजेपी के पीछे यानी बीजेपी के

साथ चलने वाली आरएसएस उसने भी इसमें कुछ
प्लानिंग की थी कि ओबीसी बनकर देश भर से
वोट बटोर और फिर काम करो उसके लिए जहां से
पैदा हुए हो और अब तो कांग्रेस के
प्रवक्ता स्याम चुनौती दे रहे हैं कि यदि

नरेंद्र मोदी खुद को ओबीसी मानते हैं तो
हमारे सामने एक मंच पर आकर बहस करें हम
तमाम तथ्य उनके सामने रखेंगे और उनको
पटखनी देंगे और साबित करेंगे कि वो ओबीसी
नहीं बल्कि ऊंची जाति से हैं पिछले कई

सालों से धन परिवर्तन का मामला भारतीय
जनता पार्टी के लोग खूब जोर शोर से उठाते
हैं लेकिन धर्म परिवर्तन से बड़ा मामला तो
यहां पर जाति परिवर्तन का हो गया यह मसला
सच में बड़ा गंभीर है इस प्रेस कॉन्फ्रेंस

को जरा ध्यान से सुनिए कैसे-कैसे खुलासे
साहिब के कारनामों पर हो रहे हैं और इन
कथित खुलासों को सुनने के बाद कमेंट बॉक्स
में जरूर लिखेगा कि जिसने 140 करोड़ की

आबादी को कथित रूप से टोपी पहनाई व भारत
रत्न का हकदार है कि नहीं किसी को कोई भी
शक करने की गुंजाइश ना रहती अगर उसकी
बार-बार झूठ बोलने की फिरत ना होती भारतीय
जनता

पार्टी बार-बार झूठ फैलाती है मैं आज कुछ
तथ्य आपके सामने रख
के सच्चाई सामने रखने की कोशिश
करूंगा कल राहुल गांधी जी के ऊपर हमला
बोलक कुछ भक्त चैनलों ने तो कुछ

दस्तावेजों
पर डिबेट भी कर
ली एक ये र पर
था सिर्फ एक
पन्ना गवर्नमेंट गैजेट नोटिफिकेशन का
सिर्फ इतना
पार्ट और इसके अंदर आप देखेंगे यहां

रजिस्टर्ड नंबर दिया
है रजिस्टर नंबर है डी एल
33004 ऑ
99 और यह
कहा कि 1999 में
इस सूची
में
पहले जो नाम था सिर्फ घांची मुस्लिम था

उसकी जगह पर घाची मुस्लिम तेली मोड घाची य
तीन नाम ऐड किए गए 1999 में कहा
गया मैं
आपको एक पन्ना नहीं दिखाऊंगा क्योंकि कोई
भी डॉक्यूमेंट दिखाते हैं तब पूरा दिखाना
चाहिए यह गुजरात गवर्नमेंट का न

यह नोटिफिकेशन की डेट
है
जनरी
2002 और इस डॉक्यूमेंट में माने फर्स्ट
जनरी 2002 जब गुजरात के मुख्यमंत्री जी
मोदी जी थे इसमें जो य फर्स्ट
पैराग्राफ जिम लिखा है कि सीरियल नंबर 9
एंड

96 जो जातिया है
उसमें नीचे दी गई हुई जातियों को हम ऐड कर
रहे हैं एक यहां पर बरवाड़ बरवाड़ लिखा था
ना देना नहीं था दूसरा य नोटिफिकेशन का
सेकंड
पेज सेकंड

पेज इस पर लिखा है गाची
मुस्लिम ची मुस्लिम
ली
तेली साहू तेली राठौड़ तेली
राठौर यह डॉक्यूमेंट है और

इसका ही
नहीं आखिरी तक
का जिसमें सेक्रेटरी की साइन है लीडर ऑफ
अपोजिशन चीफ मिनिस्टर सबको कॉपीज गई पूरा
आपको हम साझा
करेंगे तो आप समझ सकते हैं कि अगर 1999

में यह जातिया ऐड हुई थी तो गुजरात के
मुख्यमंत्री ने फर्स्ट जनवरी 2002
में क्यों
निकाला इससे भी और सीरियस मैटर मैं आपके
सामने रखना
चाहूंगा आपको इनकी जो फितरत है उसका और
पता चले आप याद कीजिएगा और इन्वेस्टिगेटिव

जर्नलिज्म कीजिए मोदी जी का प्रधानमंत्री
का ख्वाब जागने से पहले कभी भी मोदी जी ने
यह कहा हो कि मैं पिछड़ी जाति का हूं मैं
घाची हूं एक एक वर्ड पहले का दिखा दीजिए
आपको किसी रिकॉर्ड में नहीं मिलेगा कि मैं

घाची हूं मैं या या पिछड़ी जाति का ह कहीं
नहीं मिलेगा गुजरात के मुख्यमंत्री बनने
के तुरंत
बाद बंबई में एक बड़ा वाटर पार्क
है जिसके ओनर ने मोदी समाज की मीटिंग
रखी उसका मैगजीन भी चलता है और उसमें कहा
मोदी सुपर अपर

कास्ट हमारी सुपर अपर कास्ट मोदी
से पहली बार गुजरात का मुख्यमंत्री बना
है हम प्रस्ताव पारित करके सम्मानित करते
हुए समाज की मीटिंग में प्रस्ताव पारित
किया गया और
सुपर अपर कास्ट के मोदी समाज से बने

हैं उसके न में इश्तिहार आए है मैं आपसे
वो भी साझा
करूंगा यह हमारे मोदी समाज के सुपर अपर
कास्ट के प्रथम मुख्यमंत्री कभी मोदी जी
ने नहीं इसको
डिनाइज हूं मैं तो पिछड़ी जाती हूं नहीं

कहा मैं आपको एक और ऑथेंटिक बात रखूंगा पर
उससे पहले मैं आपको एक क्लेरिटी कर दू कि
गुजरात में
मोदी भगवत ग मंडल के हिसाब जो हमारा जैसे
लॉ लेक्सिक होता है उसी तरह वर्ड का एक

गोंडल महाराजा ने किया हुआ भगवत गो मंडल
है जिसमें हर चीज की परिभाषा
है मोड क्या होता है मोदी क्या होता है
घाची क्या होता है और हर वर्ड का वहां पर
और गुजरात की हाई कोर्ट भी गुजराती लब्ज

में भगवत गौ मंडल को ऑथेंटिक मानती
है तो ये मोदी पिछड़ी जाति में आता ही
नहीं है ना वो गांची
ना वह तेली है ना वह पिछड़ी जाति के इससे
आगे चलकर मेरी बात के समर्थन में एक और

चीज आपके सामने रखना चाहता आप सभी को पता
है कि पूर्णेश मोदी ने राहुल गांधी जी के
खिलाफ केस किया व सूरत के बीजेपी के एमएलए
उस वक्त उन्होंने केस
किया और सारे केस

पेपर्स मेरे पास है
पूरे उस पूर्णेश मोदी जी
ने यह कहा कि मेरी मोदी समाज के खिलाफ
राहुल गांधी बोले
हैं मुझे मेरी जाति को मेरे समाज को डिफेम

किया है तो राहुल गांधी के खिलाफ केस चला
आप सब य जानते अभ पूर्णेश मोदी जी को जब
पूछा गया कोर्ट में और कोर्ट का हर
प्रोसीडिंग पूरा सेट में मे पास है

गुजराती का मैंने ट्रांसलेशन भी करवाया
है सुप्रीम कोर्ट तक मैटर चली अगर मैं
कहूंगा कि किसी ने जो गाली दी
है उस समाज को मैं उस समाज का नहीं हूं तो
मेरा लोकस नहीं बनता है मैं कोर्ट में केस

नहीं कर सकता मुझे एब्लिश करना होगा कि
जिसको खराब कहा है वह मेरे समाज का है और
इसलिए मैं भी हर्ट हुआ हूं मेरा लोकस बनता
है आई कैन फाइल ए केस वो एब्लिश करना
पूर्णेश मोदी जी ने सूरत कोर्ट में क्या

कहा उसकी क्रॉस एग्जामिनेशन और सयो मोटो
उन्होंने जो बातें कही थी वह मैं आपके
सामने रखता इट इ ट्रू मोदी सोसाइटी इन
गुजरात इज नोन एस ए मोड वणिक समाज वणिक
मान

व्यापारी मोदी कौन है गुजरात में कहा जाता
है मोदी जो है वह मोड वण माने व्यापारी
समाज है यह कौन कहता है जिसने राहुल जी के
खिलाफ केस किया और कहा कि नरेंद्र भाई
मोदी को कहा मेरी कास्ट है मुझे भी डेफ

समेशन का असर हुआ आगे चलकर वह कहते हैं कि
हमारा मोदी समाज का एक ट्रस्ट है जिसमें
हम हमारे समाज के लोगों को मेंबर बनाते
हैं उसमें उन्होंने क्या कहा जरा गौर से
सुनिए उन्होंने कहा इट इज ट्रू दैट राठौड़

गुप्ता तेली मोदी घाची चौधरी दास चट साहू
एटस आर नॉट मेंबर ऑफ मोदी
समाज य कौन कहता है जिसको कोर्ट ने माना
कि नरेंद्र भाई मोदी और यह दोनों एक ही
कास एक ही समाज के हैं और इसलिए इसका इसका
लोकस बनता है ये डिफॉर्मेशन

केस क्या
हुआ फर्स्ट पॉइंट मैंने जो आपको ये
डॉक्यूमेंट दिया 2001 में ये कास्ट
इंक्लूड की जब मोदी जी थे पर यह करने के
बावजूद मोदी जी ओबीसी में थे नहीं है नहीं
हो सकते नहीं अगर कोर्ट ने सुप्रीम कोर्ट

तक चली मैटर को आप
देखें और बंबई में हुए मोदी समाज के उन
रेजोल्यूशन को उन मीटिंग को उन सन्मान
समारोह को मोदी समाज के उन मैगजीन को
देखेंगे तो मोदी जी ना घाची है ना तेली है

ना लोअर कास्ट है वो सुपर अपर कास्ट मोदी
जिसको कहते हैं उसमें से
वो इन इन नोटिफिकेशंस का कोई मतलब नहीं है
पर जागा था
रात में शूट करता था कि अगर सुपर प्रका
रहूंगा तो गुजरात फायदा है कभी नहीं कहा
जब प्रधानमंत्री का ख्वाब जागा तब मत के

लिए जरूरी लगा कि अब अगर ओबीसी हो जाऊ तो
ओबीसी कैसे
बन तो एक इसको जो 2 फ जनवरी 2002 में था
उसको कह दिया इसमें आप देखिए एक पहले मैं
आपको कहूंगा कि इसमें आप देख लीजिए जो

बीजेपी ने
लगाया यह बीजेपी का लगाया हुआ है
इसको आप गौर से देखें इनका क्या क्लेम है
कि इस नोटिफिकेशन की वजह से ये झूठा है
फिर भी मैं कहता हूं चलो इसको मान लिया वह
कहते हैं इस नोटिफिकेशन की वजह से मोदी जी

ओबीसी है व्हाट इज दिस नोटिफिकेशन घाची
मुस्लिम थे नई यादी में घांची मुस्लिम
तेली मोड घाची नए ऐड हुए इसमें कहीं लिखा
है
मोदी यह बीजेपी का डॉक्यूमेंट है इसमें

कहीं लिखा है मोदी
तो कैसे मोदी बन गए
ओबीसी यह फ्रॉड है चलो उनके मुख्यमंत्री
बनने के बाद का यह डॉक्यूमेंट देख

लो इस डॉक्यूमेंट में जो नई जातिया ऐड
हुई उसमें घाची मुस्लिम थे उसके अलावा
घाची मुस्लिम तेली मोट घाची तेली साहू
तेली राठौड़ तेली राठौड़ इसमें भी कहीं
मोदी है आप

बताइए इसमें भी कहीं मोदी नहीं है
आज के दिन में भी बताएं कि मोदी है इसमें
कहीं दोनों की वजह से मोदी ओबीसी ना थे ना
आज भी है किसी भी गैजट को देख लो और मेरी
बात को समर्थन करता

है वह यह डॉक्यूमेंट समर्थन करता है जो
पूरा डॉक्यूमेंट सूरत की कोर्ट में केस
चला जिसमें पूर्णेश मोदी कहते हैं कि हम
मोदी
समाज
वो गुजरात में मोदी समाज मींस गुजराती मोड

वणिक मोड इज अ
टाइटल हम सुपर अपर
क्लास व्यापारी
वणिक उसमें से हैं और कोर्ट ने हमारी
दलीलों को हमने कहा था उस वक्त पे कि यह
इनका लोकस नहीं बनता है सूरत की कोर्ट ने

लंबा जजमेंट करते हुए कहा कि पूर्ण मोदी
का लोकस बनता है क्योंकि वह मोदी समाज से
है अब मोदी समाज ना तो घ है है ना जाति
में किसी भी लिस्ट में नहीं है तो यह अपर

कास्ट सुपर अपर कास्ट अपने को कहते हैं
उसमें से हैं अब जिनकी फितरत बीजेपी में
डॉक्यूमेंट टेंपर करके करने वाले वह जवाब
ना दे मुझे मोदी जी खुद दे और कहे तो बहस
करने के लिए मैं उनको एक प्लेटफार्म पर
तैयार

हू फेक डॉक्यूमेंट करते आपको पता है सबको
कि जब डिग्री वाली बात आई तो एक बीजेपी
के नेता ने ऐसी आपको दिखा दी के डिग्री तो
है पर किसी ने फिर अच्छे जर्नलिस्ट ने जो
मोडिया नहीं थे डरे नहीं थे उन्होंने एक

एनालिसिस करके दिया कि भाई यह डिग्री जिस
फनस में है वह फनस उस जमाने में थे नहीं
तो य डिग्री उस फनस में कैसे बनी उसके बाद
यह दिखाना उन्होंने बंद कर दिया
कक वो फेक डॉक्यूमेंट था जैसे मैंने कहा

कि यह डॉक्यूमेंट आप गल में डालकर देखो कि
इस नंबर का डॉक्यूमेंट क्या खुलता है कुछ
और
खुलेगा तो वह नहीं मोदी जी खुद जवाब
दे कि
आपने अपने आपको पिछड़ी जाति कहा कौन से

लिस्ट में आप तो मोदी हो गुजरात में ची
होते हैं वह लिखते हैं मोदी घाची गुजरात
में तेली होते हु लिखते मोदी
तेली अपने सरने मेंही लिखते मोदी घाची
मोदी तेली मोड घाची मोड वणिक अगर नहीं है

उसमें तो मोड वणिक लगते है सिंपल मोदी
मींस सिंपल मोदी मींस जो पूर्णेश मोदी ने
कहा कि हम मोदी समाज से हैं हम गुजरात के
वणिक समाज से हैं सुपर अपर कास्ट है और
इन्होंने यह भी कहा है उस ट्रस्ट के

साथ-साथ मैं आपको यह भी बता देता हूं कि
जब उन्होने पूर्णेश मोदी जी ने कोर्ट के
अंदर जब बोल रहे थे तो यह भी बोले किसी भी
गवर्नमेंट के डॉक्यूमेंट
में कहीं पर भी इसका जिक्र नहीं है ट

पूर्णेश मोदी
है अगर
इतना झूठ
क्यों अगर
आप रियल में
आप सही में सबसे बड़े पिछड़ा हो व कहते ना
कोई ऐसी कास्ट है ही नहीं पर उन्होंने कहा

सबसे बड़ा ओबीसी में मैंने कसी नोटिफिकेशन
में देखा नहीं कि कोई अलग से फिर सबसा
बेड़ा होता है माने यह ना घांची है ना
तेली है ना किसी लिस्ट में है यह मोदी है
पूर्णेश मोदी जी ने खुद स्वीकार किया कि

हम गुजरात में मोदी जो है वह व्यापार करने
वाली कम्युनिटी में है व सुपर री में माने
जाते हैं उसमें वह लोग हैं और यहां पर देश
में लोगों को गुमराह करने की बात कर
रहे
सवाल पहला
सवाल कि बंबई के उस मोदी समाज ने आपको जब

सीएम बने और कहा कि फ्रॉम अवर मोदी समाज
जो कि बड़े व्यापारी और सुपर रिच है उनमें
से पहला मुख्यमंत्री बना है उसके मैगजीन
में आपके इश्तिहार और फोटो छपे आपने क्यों

नहीं उस वक्त भूल जाओ भैया मैं तो पिछड़ा
हूं मैं गांची हूं मैं तेली हूं मैं ओबीसी
हूं कुछ नहीं अगर आप गांची थे तो आपकी
सरनेम के पीछे मोदी गांची आना चाहिए अगर
आप तेली हो तो गुजरात में सब लिखते मोदी

गाची लिखते मोट घाची लिखते हैं मो तेली
लिखते हैं सिंपल मोदी में व्यापारी
कम्युनिटी जो पूर्णेश मोदी ने कहा वो तो
आप इसका खुलासा करें मेरा दूसरा प्रश्न

अगर आप कहते हो कि आपके चट्टे बट्टे कहते
हैं मुख्यमंत्री बने उससे पहले इन तीन
जातियों की अंदर आ गए थे सब तो यह
डॉक्यूमेंट आपके मुख्यमंत्री बनने के बाद
फ जनवरी 2002 में क्यों निकला और इसमें

कहीं पर भी मोदी नहीं है कहीं पर मोदी
नहीं है इस नोटिफिकेशन भी आपको कैसे लागू
होता है आप बताइए थर्ड पूर्णेश मोदी सूरत
कोर्ट में केस दर्ज करते हैं और वह कहते
हैं कि गुजरात में मैं मोदी समाज से हूं

और हमारे मोदी समाज ट्रस्ट में हम घाची
तेली इसमें से किसी को नहीं मेंबर बनाया
इससे ज्यादा और प्रूफ क्या चाहिए इसका
मतलब साफ हुआ कि आप उन जातियों में हो ही
नहीं जिसका नोटिफिकेशन में जिक्र है चौथा

मेरा सवाल है कि अगर आप पिछड़ी जाति से हो
तो आप गोलवर करर जी की वो सोच का विरोध
क्यों नहीं करते हो आरएसएस के गुरु
गोलवलकर जी ने कहा था इवन रेगना एससी और

एसटी थिंकिंग इट इज अ ब्रेज टू जलेस एंड
कॉन्फ्लेट ही सेड रिजर्वेशन फॉर एससी एंड
एसटी वुड मेक देम स्लेव विद द लर ऑफ मनी
उसके बाद मोहन भागवत जी ने भी एक

स्टेटमेंट किया था फिर वह यूटन कर गए थे
मैं मोदी जी से कहता हूं कि आप गोलवलकर जी
की यह बात जो थी कि एससी एसटी को
रिजर्वेशन नहीं देना चाहिए इससे एक जलसी

पैदा होगी से सहमत हो या नहीं 1978 में
कपूरी ठाकुर जी जब 26 प्र का रिजर्वेशन
लाए तब जनसंघ ने करपुरी ठाकुर जी का और इन
रिजर्वेशन का विरोध किया था आप उस
विचारधारा से आपका आज मत क्या है माय अनदर

1981 में श्री माधव सिंह सोलंकी गुजरात के
मुख्यमंत्री थे और 21 प्र रिजर्वेशन आया
ओबीसी का उस वक्त पे एबीपी और बीजेपी ने
एजीटेशन किया था विरोध किया था
जेल में भी गए थे आप इसमें सहमत हो या

नहीं और आखिरी
सवाल आप भी उसमें शामिल थे मोदी जी जब
मंडल और कमंडल की लड़ाई हुई देश में ओबीसी
के आरक्षण की बात का अगर विरोध किसी ने
किया तो मंडल का विरोध करने वाला कमंडल

यानी कि भारतीय जनता पार्टी थी इसको आप
क्यों भूल राहुल गांधी जी ने जो कहा वो
सरासर सही है
कि ना यह घांची है ना तेली ना पिछड़ी जाति
से है ना इसकी सरनेम में कहीं पर मोदी के

बाद कुछ नहीं है और पूर्णेश मोदी ने राहुल
जी के खिलाफ किए केस में एक क्रिस्टल
क्लियर हो गया है कि मोदी सिर्फ लिखा इसका
मतलब व व्यापारी है सुपर अपर कास्ट है और
इससे पिछड़ों से कोई लेना देना नहीं है

इवन अपने ट्रस्ट में वो घाची तेली ऐसे को
मेंबर भी नहीं बनाते हैं यह ऑन रिकॉर्ड
कोर्ट के रिकॉर्ड में आया और एक्सेप्टेड
फैक्ट है यह मैं चीजें आपके सामने रखी हैं

Leave a Comment