22:22 माँ काली 🕉 तुम गलत लोगों के बीच फंस गए हो।🕉️इसे भूल कर भी अनदेखा मत करना ।🕉️#shivshakti - instathreads

22:22 माँ काली 🕉 तुम गलत लोगों के बीच फंस गए हो।🕉️इसे भूल कर भी अनदेखा मत करना ।🕉️#shivshakti

मेरे

बच्चे कैसे हो

तुम तुम्हारे मन का

दर्द मेरे मन को भी आहत कर रहा

है तुम्हारे साथ जो हो रहा है मैं सब देख

रही

हूं किंतु मेरे बच्चे तुम्हें थोड़ा सा

सब्र और करना

पड़ेगा मैं जानती

हूं तुम कभी किसी से कुछ नहीं कहते

परंतु तुम्हारे भीतर एक शोर है दर्द

है तुम्हारी आंखों में हजारों प्रश्न

है तुम्हारा मन अक्सर मुझसे यह सवाल करता

है कि माता आखिर किस गलती की सजा में भुगत

रहा

हूं मेरे कर्म इतने भी तो बुरे नहीं

है ना कष्ट मुझे मिल रहा

है क्यों मेरे रिश्ते मुझसे छूट रहे

हैं क्यों वह लोग मुझसे खुश नहीं

है जिनके लिए मैंने अपना सर्वस्व निछावर

कर

दिया मैं दिन रात मेहनत कर रहा

हूं फिर भी मुझे सफलता नहीं

मिलती समाज में जो इज्जत जो शोहरत में

पाना चाहता

हूं मुझे वह नहीं

मिलती मेरे बच्चे मैं तुम्हें तुम्हारे

सभी प्रश्नों के उत्तर देने आई

हूं परंतु उचित समय आने का इंतजार

करो तुम बस यह सोचकर निश्चिंत

रहो कि माता अपने संतान के

साथ जो कुछ भी करती है

उसके भले के लिए करती

है तुम्हारी माता तुम्हें जो पीड़ा दे रही

[संगीत]

है वह भी किसी बड़े उद्देश्य से

[संगीत]

है मेरे बच्चे तुम गलत रास्ते

में गलत लोगों के बीच उलझ गए

हो तुम्हें तो इस बात का भान तक नहीं है

कि तुम अपना कितना

समय कितनी ऊर्जा व्यर्थ कर रहे

हो किसी ऐसे इंसान किसी ऐसी चीज के

लिए जो तुम्हारे किसी काम का

नहीं मेरे बच्चे क्या तुमने कभी यह विचार

किया कि तुम कितने बदल गए हो

[संगीत]

उन लोगों ने तुम्हें बदल

दिया जिन्हें तुमने अपना

समझा फूलों के समान कोमल हृदय था

तुम्हारा तुम्हारा हृदय बेजुबान के प्रति

आकर्षित होता

था तुम्हारी आंखों में अन्य सभी जीवों के

प्रति प्रेम था

[संगीत]

तुम्हें केवल प्रेम और खुशी देना आता

था जिसे भी तुम देखते थे शुभ दृष्टि से

देखते

थे किंतु लोगों ने तुम्हारे मन में इतना

जहर भर

दिया कि तुम्हारे मन से सरलता का विनाश हो

गया तुमने जिस पर भी विश्वास

किया सबने तुम्हारे विश्वास को तोड़ा है

तुम्हारी भावुकता का फायदा उठाया

है दुनिया का बर्ताव

देखकर तुम भी भावना शून्य हो गए

हो तुम्हें भी लगता

है कि यह संसार प्रेम और दया का पात्र

नहीं

है सब मतलबी

है मेरे बच्चे

यह दुख यह

पीड़ा तुम्हें यही सबक सिखाने के लिए मिला

है कि तुम अपने पथ से अपने उद्देश्य से

भटक रहे

हो तुम्हारे मन में जो कड़वाहट है जो

चिड़चिड़ापन है अब उसका अंत

करो क्योंकि तुम्हारे जीवन का उद्देश्य

है सबसे प्रेम करना सब में खुशी बांटना

मेरे बच्चे मैं जानती

हूं तुम्हारे जीवन के अनुभव अच्छे नहीं

रहे तुमने लोगों से समाज से संबंधों

से सिर्फ धोखा ही

खाया किंतु मेरे बच्चे तुमने अपना प्रेम

अपनी करुणा वहां

लुटाया जहां आवश्यकता नहीं थी

दो चार लोगों के धोखा देने से उनके बदल

जाने से तुम नहीं बदल

सकते मेरे बच्चे तुम नहीं

[संगीत]

जानते हजारों लाखों लोग तुम्हारे प्रेम

के तुम्हारी दया के भूखे

हैं वह तुम्हारा इंतजार कर रहे हैं

उन्हें तुम्हारी आवश्यकता

है किंतु तुम किसी ऐसे

की आवश्यकता पूरी करने में व्यस्त

हो जिसे तुम्हारी कोई आवश्यकता

नहीं मेरे बच्चे तुम्हें बहुत लंबा सफर तय

करना

है और तुम पीछे की ओर कदम बढ़ा रहे हो

व्यर्थ के लोग व्यर्थ के संबंधों में तुम

उलझ गए

हो ध्यान से देखो और

समझो जिन लोगों के बीच तुम अपनी खुशी ढूंढ

रहे

हो अपना समय बर्बाद कर रहे

हो उनकी दृष्टि में ना तुम्हारा कोई मूल्य

है ना तुम्हारे समय का

[संगीत]

मेरे बच्चे इस संदेश के माध्यम

से मैं तुम्हें जगाने आई

हूं जागो और अपने कर्म पथ पर

चलो तुम्हारी मंजिल तुम्हारा इंतजार कर

रही

है मैं तुम्हें विश्वास दिलाता

हूं जिस दिन तुमने अपने कर्म पथ पर चलना

आरंभ कर

दिया तुम्हारे जीवन की हर उलझन दूर हो

जाएगी और केवल कुछ ही महीनों में तुम वह

सफलता प्राप्त

करोगे जिसके बल पर तुम जो चाहे वह पा सकते

हो मेरे बच्चे इस संदेश को अनदेखा मत

करना समय बार-बार अवसर नहीं

देता तुम भाग्यशाली हो कि तुम्हें यह अवसर

मिला

है सभी दुख दर्द भूलकर

[संगीत]

पूरी ईमानदारी से एक लक्ष्य

चुनो और धैर्य के साथ उस पर काम

करो आरंभ में तुम्हें निराशा तो

मिलेगी किंतु यदि तुम अपने पथ पर डटे

रहे तो तुम्हें सूर्य की भांति प्रकाशित

होने से

कोई रोक नहीं

सकता मेरा आशीर्वाद तुम्हारे साथ

है तुम्हारा कल्याण

हो सच्चे मन से

कहो जय माहाकाली

Leave a Comment