Bihar में Nitish Kumar फिर मारेंगे पलटी, भाजपा के विधायकों ने कर दी बगावत! Bihar Politics - instathreads

Bihar में Nitish Kumar फिर मारेंगे पलटी, भाजपा के विधायकों ने कर दी बगावत! Bihar Politics

नमस्कार आप देख रहे हैं 4 पीएम और मैं हूं
आपके साथ निधि तिवारी नीतीश कुमार के पाला
बदल से बिहार में शुरू हुए सियासी ड्रामे
का विधानसभा में शक्ति परीक्षण के साथ ही

पटाक्षेप हो चुका है बिहार विधानसभा में
नीतीश कुमार ने विश्वास मत तो जीत लिया
नीतीश कुमार ने भले ही फ्लो टेस्ट में पास
कर लिया हो लेकिन दुनिया यह जान गई है कि

बीजेपी और जेडीओ के बीच सब कुछ ठीक नहीं
चल रहा है दोनों दलों के विधायकों में जबर
असंतोष है जेडीयू और बीजेपी दोनों ही दलों
के विधायकों ने पार्टी नेतृत्व को जिस तरह

चकमा दिया वह कोई सोच भी नहीं सकता था
वहीं कांग्रेस के विधायक अपनी पार्टी के
साथ खड़े दिखाई दिए इस तरह यह प्रोटेस्ट
संकेत दे गया कि नीतीश और बीजेपी के लिए
आने वाले लोकसभा चुनाव में रास्ता इतना

आसान नहीं है जितना एनडीए गठबंधन समझ रहा
है जेडीओ के कुछ विधायक फ्लो टेस्ट में
नीतीश के साथ नहीं दिखे बीमा भारती तो
नीतीश सरकार में मंत्री रह चुकी हैं लेकिन

अविश्वास प्रस्ताव के दिन वह करीब 2:4 बजे
विधानसभा पहुंची वह एक दिन पहले किए गए
भोज में भी नहीं पहुंची विधायक दल की बैठक
में भी नहीं पहुंची और शायद वह सामने ना

आती अगर बेटे और पति पर पुलिस का दबाव
नहीं होता दावा है कि बेवा भारती को पुलिस
ने मकामा में डिटेन किया तो वहीं पार्टी
के एक और विधायक संजीव कुमार को नवादा में
डिटेन किया गया था जेडीयू के अलावा बीजेपी

में भी असंतोष और बगावत साफ नजर आई बीजेपी
के तो कई विधायकों ने खुलेआम बगावत कर दी
बीजेपी के तीन विधायकों को बड़ी मुश्किल
से विधानसभा में लाया गया रश्मी वर्मा को

गोरखपुर से किसी तरह लाया गया कहा जा रहा
था कि मिश्रीलाल यादव भी परिवार के दबाव
में ही विधानसभा आए बीजेपी विधायक रश्मी
वर्मा भागीरथी देवी और मिश्री लाल यादव ने
जिस तरह से बीजेपी की किरकिरी करवाई जिससे

सम्राट चौधरी काफी नाराज और गुस्से में
नजर आए वहीं आरजेडी के तीन विधायकों ने
मतदान किया लेकिन उनके बारे में पहले से
ही आशंकाएं थी कि बाहुबलियों के घरों के
दोनों विधायकों को एनडीए के साथ जाना ही

था क्योंकि उनकी मजबूरी थी थी नीलम देवी
बिहार के बाहुबली नेता अनंद सिंह की पत्नी
हैं और चेतन आनंद कुछ ही महीने पहले जेल
से छोड़े गए आनंद मोहन के बेटे हैं चेतन
आनंद अगर एनडीए को वोट ना देते तो उनके

पिता की रिहाई खतरे में पड़ सकती थी
इसीलिए उन्होंने एनडीए के साथ जाना ही ठीक
समझा तो कुल मिलाकर आरजेडी के तीन
विधायकों को छोड़कर उनके भी सारे विधायक

उनके समर्थन में नजर आए और कांग्रेस के भी
सभी विधायक अपनी पार्टी के साथ खड़े दिखाई
दिए लेकिन जेडीयू और बीजेपी के तमाम
विधायक धोखा दे गए जिससे सम्राट चौधरी

काफी खफा भी हुए और इलाज करने की धमकी भी
दे डाली और कहीं ना कहीं इलाज करना शुरू
भी कर दिया जेडीयू विधायक भीमा भारती के
पति और बेटे को जिस तरह से पुलिस ने

गिरफ्तार किया वो उन्होंने भी सरकार पर
बेहद गंभीर आरोप लगाए और बोली कि मेरे पति
और बेटे को गिरफ्तार करवाया गया है और
काफी गुस्से में वो नजर आई क्या कुछ कहा

है वीडियो देखिए ब शुभचिंतक बन गया था
इसीलिए अपने विधायक से ही विश्वास उठ गया
था जी इसलिए इस तरह से किया गया है और
मेरा बेटा को जो है इतना मासूम है बच्चा

किया मेरा भतीजा को जेल किया मेरा
कार्यकर्ता टोटल न को कल 9 बजे रात में
भेजा गया है दिन भर का जो है कि दो दिन से
थाना में बैठा के रखा इसके बाद कल 9 बजे
रात में जो है कि बोला ऊपर से दबाव है ऊपर

से दबाव है इसको जेल भेजिए तो क्या साबित
करना चाहता है आपकी सरकार आपकी सरकार है
सरकार में इसलिए तो दुख बात है सरकार के
विधायक को पतार किया जा रहा है बच्चा को
जेल भेजा जा रहा है इससे और जुल्म क्या हो

सकता है सरकार में नीतीश जी से अपील
करेंगी बिलकुल बिल्कुल बिल्कुल जो है
बिल्कुल हम माननीय मुख्यमंत्री जी से अपील
करते हैं हमारा बच्चा क्या गुनाह किया था
क्या आतंकवादी था क्या मेरा बेटा आतंकवादी

था जो उसको जेल किया गया मेरा जदयू का
कार्यकर्ता आतंकवादी था जो जेल किया गया
आप पार्टी के खिलाफ पार्टी के खिलाफ है
पार्टी के साथ है आज पार्टी के साथ है
मैडम आज पार्टी के साथ तो हैय है जी

क्योंकि आप लेट विधायक पर भरोसा उठ गया है
और कोई बात भरोसा उठ गया है क्या जेडीयू
का सभी जो है ना पार्टी का जो नेता है
उसको विधायक जदयू के विधायक पर से भरोसा
उठ गया इस इसलिए ना ऐसा किया गया है नितीश

जी का भरोसा है आप पर अब भरोसा है कि नहीं
भरोसा भरोसा नहीं था तब ना हमारा बेटा को
जेल किया है तो भरोसा नहीं तो ये बमा
भारती है और अपनी ही पार्टी और अपनी ही

सरकार से काफी खफा वो नजर आ र रही हैं तो
बिहार में तेजस्वी ने खेल तो कर दिया भले
ही नीतीश ने फ्लो टेस्ट पास किया हो लेकिन
पूरे देश में चर्चा रही तेजस्वी यादव के
संबोधन की नीतीश के पिछले पाला बदल के बाद

तेजस्वी यादव ने सड़क से लेकर सदन तक उनके
खिलाफ मोर्चा खोल दिया था लेकिन इस बार
तेजस्वी ने नीतीश पर प्रहार का कोई मौका
नहीं छोड़ा लेकिन तरीका थोड़ा अलग था
तेजस्वी के संबोधन में बॉडी लैंग्वेज

आक्रामक थी लेकिन भाषा पूरी तरह संयमित और
सहज थी नीतीश कुमार की ओर से पेश किए गए
विश्वास प्रस्ताव पर चर्चा की शुरुआत
तेजस्वी यादव ने ही की तेजस्वी यादव जब
बोलने के लिए खड़े हुए उनका अलग ही अंदाज

नजर आया तेजस्वी ने अपने संबोधन की शुरुआत
नीतीश कुमार पर एक विधानसभा के कार्यकाल
में तीन-तीन बार शपथ लेने की तंज के साथ
की और फिर बार-बार उन्हें अपना अभिभावक

पिता के समान भी बताया खुद को बच्चे जैसा
बताते हुए उन्होंने नीतीश को भगवान राम के
पिता दशरथ जैसा गार्जियन भी बता दिया और
बिना किसी बातचीत के चुपचाप राज्यपाल को
इस्तीफा सौंपने के लिए उन्हें दोषी भी

करार दिया तेजस्वी यादव ने नीतीश कुमार को
बीजेपी से पहली बार गठबंधन तोड़ने के बाद
की याद दिलाई और इस बार महागठबंधन से अलग
होने के पहले बातचीत नहीं करने को लेकर
नाराजगी भी जाहिर की उनका यह कहना कि आपने

बात तो की होती हम अपने सभी मंत्री हटा
लेते बाहर से समर्थन दे देते और कोई आपकी
सरकार को हिला तक नहीं पाता यह इस तरह का
संबोधन उनका काफी चर्चा का विषय रहा बिहार
विधानसभा में तेजस्वी 40 मिनट बोले और

तेजस्वी के इस संबोधन में नाराजगी थी
तल्खी थी तो साथ ही साथ संयम और भविष्य का
रोड मैप भी था इसीलिए उनके भाषण की हर ओर
तारीफ हुई नितीश कुमार हो या विधानसभा में
पाला बदल लेने वाले आरजेडी के तीनों

विधायक तेजस्वी ने यह कहा कि बात बने ना
बने बाद में हमको जरूर याद कर लेना उनका
यह बोलना एक तरह से भविष्य के लिए आश्वासन
की तरह ही देखा जा रहा है वरिष्ठ
पत्रकारों का कहना है कि तेजस्वी यादव ने

जिस तरह से संयमित और मर्यादित भाषा में
आक्रामकता के साथ ती कुमार पर हमला बोला
संयम दिखाया वह बताता है कि अब वह परिपक्व
हो चुके हैं नीतीश के साथ सरकार बनाने के
बाद भी बिहार बीजेपी के अध्यक्ष सम्राट

चौधरी जिस तरह से बीजेपी सरकार को बार-बार
अपना लक्ष्य बता रहे हैं यह इस गठबंधन और
गठबंधन सरकार के लिए शुभ संकेत तो कतई
नहीं देखा जा रहा है ऐसा माना जा रहा है
कि नीतीश काफी समय तक अब जो है एनडीए के

साथ भी नहीं रहेंगे और बीजेपी अगर नीतीश
कुमार पर सीएम की कुर्सी छोड़ने के लिए
जरा भी दबाव बनाती है तो फिर फिर व अपनी
कुर्सी बचाने के लिए पाला बदलने में जरा
भी समय नहीं लगाएंगे और चुनावी रणनीतिकार

और बिहार में जन स्वराज पद यात्रा पर
निकले प्रशांत किशोर कह भी चुके हैं कि
लोकसभा चुनाव के बाद नीतीश कुमार पाला
बदलेंगे और ऐसे संकेत भी अब साफ नजर आने
लगे हैं एक तो उनके विधायकों की नाराजगी
एनडीए के विधायकों की नाराजगी और सम्राट

चौधरी का बार-बार इस तरह का बयान देना कि
लोकसभा चुनाव में जो है बीजेपी की तरफ ही
सारा जो उनका बयान है वो नजर आ रहा है
इससे पार्टी में काफी असंतोष जो है वो नजर
आ रहा है देखते हैं आगे क्या कुछ होता है

फिलहाल इस खबर में बस इतना ही देश और
दुनिया की तमाम बड़ी खबरें जानने के लिए
देखते रहिए 4 पीएम न्यूज नेटवर्क
नमस्कार

Leave a Comment