Bihar Niyojit Shikshak: नियोजित शिक्षकों को बड़ी राहत, सक्षमता परीक्षा में अब 5 अवसर | Bihar Politics - instathreads

Bihar Niyojit Shikshak: नियोजित शिक्षकों को बड़ी राहत, सक्षमता परीक्षा में अब 5 अवसर | Bihar Politics

नमस्कार स्वागत है आपका आप देख रहे हैं जी
बिहार झारखंड और मैं हूं आपके साथ राहुल
सिन्हा बिहार के शिक्षा मंत्री विजय कुमार
चौधरी का कहना है कि नियोजित शिक्षकों को

अब कुल पांच परीक्षा के मौके दिए जाएंगे
सीएम नीतीश कुमार की सलाह पर जो तीन
परीक्षा ऑनलाइन हो रही है उसके अलावे दो
लिखित परीक्षा के मौके दिए जाएंगे बहुत से

शिक्षकों को ऑनलाइन परीक्षा में समस्या थी
जिनके लिए ऑफलाइन परीक्षा की बात कर ली गई
है उन्होंने कहा कि सरकार शिक्षकों के हित
के खिलाफ काम नहीं करेगी विजय कुमार चौधरी
ने कहा कि जब वह शिक्षा मंत्री थे तभी
शिक्षक बहाली का निर्णय लिया गया था

शिक्षक बहाली प्रक्रिया में सारा निर्णय
मुख्यमंत्री नितीश कुमार और जेडीयू का है
यह बिल्कुल साफ
है जो शिक्षक ऑनलाइन यानी कंप्यूटर बेस्ड
एग्जाम देने में असमर्थ है या नहीं देना

चाहते हैं और जिनकी मांग रही है कि
परीक्षाएं ऑफलाइन यानी लिखित रूप में ली
जाए उनके दिक्कतों का ख्याल करते हुए
सरकार
ने जो तीन परीक्षाएं
अभी ऑनलाइन हो रही

हैं इसके अलावा हम लोग दो परीक्षाएं
ऑफलाइन यानी लिखित परीक्षाएं भी लेंगे वह
भी सक्षम परीक्षाओं का ही अंश होगा भाग
होगा और इस तरीके से कुल लगभग
पांच मतलब परीक्षाएं उनके लिए उपलब्ध

होंगी तो देखिए पांच मौके दिए जाएंगे
परीक्षा के नियोजित शिक्षकों को विजय
कुमार चौधरी जो शिक्षा मंत्री हैं
उन्होंने यह बताया कि यह जो फैसला है यह

हम लोगों के टाइम जब नीतीश कुमार थे और
मैं शिक्षा मंत्री था उसी दौरान लिए गए थे
और अब शिक्षकों के हित को देखते हुए पांच
मौके दिए जाएंगे दो जो है वह ऑफलाइन

परीक्षा ली जाएगी तीन मौके ऑनलाइन मिलेंगे
जिन लोगों को ऑनलाइन परीक्षा में दिक्कतों
का सामना करना पड़ रहा था उनके लिए अब ये
ऑफलाइन परीक्षा का इंतजाम किए जाएंगे तो

विजय कुमार चौधरी ने यह बड़ा ऐलान कर दिया
नियोजित शिक्षकों को अब पांच मौके मिलेंगे
और ऑफलाइन परीक्षा की जो बात थी उसे
मंजूरी दे दी गई
है
उन्होंने यह भी कहा कि शिक्षकों के हित के

खिलाफ कोई फैसला नहीं लिया जाएगा बिहार के
शिक्षा मंत्री विजय कुमार चौधरी उन्होंने
कहा है कि नियोजित शिक्षकों को परीक्षा के
अब पांच मौके दिए जाएंगे सीएम नीतीश कुमार

की सलाह पर जो तीन परीक्षा ऑनलाइन हो रही
थी उसके अलावे अब दो लिखित परीक्षा के
मौके भी दिए जाएंगे दरअसल बहुत से
शिक्षकों को ऑफलाइन परीक्षा से समस्या थी

जिनके लिए ऑफलाइन परीक्षा की बात की गई है
ऑनलाइन परीक्षा से जिन्हें समस्या थी
उन्हें अब ऑफलाइन परीक्षा के मौके दिए जा
जाएंगे उन्होंने कहा कि सरकार शिक्षकों के
हित के खिलाफ काम नहीं

करेगी तो लगातार नियोजित शिक्षक प्रदर्शन
भी कर रहे हैं दरअसल वह सक्षम परीक्षा का
ही विरोध कर रहे हैं और जी मीडिया
संवाददाता रजनीश हमारे साथ फोन लाइन पर

जुड़ गए रजनीश पांच मौके तीन ऑनलाइन और दो
ऑफलाइन कैसे देखा जाए इसे देखिए जिस तरीके
से
नियोजित शिक्षक हैं उनकी मांग थी इसके

अलावा उनका प्रदर्शन भी था विधानसभा का
सत्र चल रहा है जोरदार तरीके से उन्होंने
अपनी उपस्थिति दर्ज कराई थी लिहाजा अब
सरकार ने यह निर्णय लिया है कि उनकी बातों
को ध्यान में रखते हुए दो और परीक्षा ली

जाएगी और तीन ऑनलाइन परीक्षा जो है वह
पहले से तय है लेकिन अब दो ऑफलाइन परीक्षा
लेने का निर्णय राज्य सरकार ने लिया है और
शिक्षा मंत्री विजय कुमार चौधरी ने बताया

कि मुख मंत्री नीतीश कुमार से सहमति लेकर
और इसे अंतिम रूप दिया गया है कुछ जो
पुराने समय के शिक्षक हैं वो उतना
कंप्यूटर फ्रेंडली नहीं है लिहाजा उनके

लिए ऑनलाइन परीक्षा जो है बहुत संभव नहीं
है तो जो मांग थी उनकी और जिस तरीके से
विरोध था इस बात को लेकर यह फैसला लिया
गया है हालांकि शाम को 6:00 बजे नियोजित

शिक्षकों के साथ उप मुख्यमंत्री सम्राट
चौधरी की एक बैठक है लेकिन उससे पहले ही
शिक्षा मंत्री ने स्थिति स्पष्ट करते हुए
कहा कि राज्य सरकार हर संभव जो शिक्षक है

उनके हित में ही काम करती है लेकिन शिक्षक
अपना समय जो है बेहतर तरीके से बच्चों के
हित को ध्यान में रखकर विद्यालयों में दें
और जिस तरीके से उनका समर्थन मिला है इस

पूरे मसले मामले पर आगे भी मिले और सरकार
भी उनका ध्यान रखेगी तो इस तरीके से एक
बीच का रास्ता निकालकर और समस्या के

समाधान की कोशिश जरूर की गई है अब यह
देखना होगा कि यह जो सरकार की पहल है इस
पर नियोजित नियोजित शिक्षकों की किस तरीके
से प्रतिक्रिया होती है लेकिन सरकार ने

अपने स्तर से बातों को रख दिया है जी चलिए
रजनीश आप बने रहे मृत्युंजय तिवारी आरजेडी
से हमारे साथ जुड़ गए हैं मृत्युंजय जी
स्वागत है आपका देखिए नियोजित शिक्षकों की

जो मांग थी वह मांग ली गई है क्या अब खुश
है आप लोग या अ भी कोई परेशानी है कोई
दिक्कत है नियोजित शिक्षकों की जो सबसे
बड़ी मांग थी वो तो पूरी महागठबंधन सरकार
में हो गई थी राज्य कर्मी का दर्जा उन

को दिया गया जब महागठबंधन की सरकार बनी तब
नियोजित शिक्षकों को उनका वाजिब हक मिला
और उनकी सारी मांगों को किस तरह सरकार ने
एक एक कर चाहे नियुक्ति का प्रक्रिया हो

चाहे जो भी हो मान सम्मान सारे चीजों का
ख्याल रखा गया
अब नियोजित शिक्षकों को तो लगातार आप देख
ही रहे हैं कि किस तरह से परेशानियों का
सामना करना पड़ता था उनके ऊपर लाठियां

चलाई जाती थी यह तो तेजस्वी यादव जी जो
सरकार में आए इसके बाद उनके लिए सारे
जितने मांग उनके थे सबको एक एक कर पूरा
करना शुरू किया और हम लोग तो शिक्षकों के

साथ नियोजित शिक्षकों के साथ उनकी मांगों
के साथ पूरी मजबूती के साथ हमारी पार्टी
हमारे नेता जी सवाल यह था कि जिन लोगों को
ऑफलाइन परीक्षा की जिन्होंने मांग की थी

जिन्ह ऑनलाइन परीक्षा देने में दिक्कत आ
रही थी वो मांग तो अब मानी गई है ना भाई
अभी तो जब राज्य कर्मी का दर्जा यह सारे
जो मांग है इस मांग को लेकर भी आपने उस

दिन कहा सुना नहीं तेजस्वी यादव जी ने
अपने भाषणों में क्या चलिए ठीक है मंजा जी
अभिषेक झा जेडीयू से जुड़ गए हमारे साथ
अभिषेक जी स्वागत है आपका नियोजित

शिक्षकों की जो मांग थी कि ऑफलाइन परीक्षा
ली जिन लोगों को ऑनलाइन से दिक्कत चलिए वो
तो मांग पूरी हो गई लेकिन तंजा जी जुड़े
हुए वो साफ तौर पर क कि भाई सारी मांग तो
हमने उठाई थी जो भी नियोजित शिक्षकों के

हित में फैसले लिए वो हमने
लिए उने कैसे ले लिए सरकार कलेक्टिव
रिस्पांसिबिलिटी से अगर चलती भी है तो
मुखिया तो सीएम नीतीश कुमार जी और फैसला
अंत गवा उन्होने लिया लेकिन हम लोग

क्रेडिट लेने में विश्वास नहीं रखते काम
करने में विश्वास रखते हैं जो लोग क्रेडिट
लेना चाहते हैं वो सत्ता से बाहर जाने के
बाद भी क्रेडिट ले रहे लेने दीजिए उसे

क्या फर्क पड़ता है अच्छा कह रहे हैं कि
तेजस्वी यादव ने मांग उठाई
थी मुद्दा यह है कि बिहार की सरकार
शिक्षकों के मसले को लेकर हमेशा से

संवेदनशील रही है और जो भी मांग सामने आई
है विचाराधीन रही है और जो भी मसले हैं वो
शिक्षा मंत्री जी ने आपको बेहतर तरीके से
बता दिया है बिहार के शिक्षक हमारी पूंजी

है हमारे भाई हमारी बहने हैं और उनके ऊपर
एक बहुत बड़ी जवाबदेही है बिहार के बच्चों
के भविष्य को सुधारने के वही काम वो कर
रहे हैं ठीक है मृत्युंजय जी सुना अपने

अभिषेक जी जुड़े हुए हैं जेडीयू से
उन्होंने साफ तौर पर कहा कि जो भी मांगे
हैं विचाराधीन रही और उस समय भी मुखिया
नीतीश कुमार थे और अभी जो आज मांग मांगी

गई है वो अभी भी नीतीश कुमार है चलिए उनसे
संपर्क टूट गया है तो अभिषेक जी साफ तौर
पर आज मीटिंग भी होने वाली है नियोजित
शिक्षकों की सम्राट चौधरी के साथ क्या इसे

समझा जाए क्या नियोजित शिक्षक के जो अन्य
मांगे उन पर भी ध्यान दिया जाएगा उससे
संबंधित कोई बात सामने आएगी मैंने एक लाइन
में कहा मैंने एक लाइन में कहा कि सरकार

बेहद संवेदनशील है और इस बात का प्रकटीकरण
इसी माध्यम से हो सकता है कि सरकार के लोग
लगातार उनसे मिल रहे उनकी बातों को सुन
समझ रहे हैं जो भी फैसला होगा जो भी बातें

होंगी निश्चित रूप से उनके हित में और
बिहार के लोगों के हित में होगी अच्छा
नियोजित शिक्षकों की एक मांग यह भी है कि
हम सक्षम परीक्षा ना

दें देखिए उस बाबत डिपार्टमेंट ने अपनी
बातें पूरी तरीके से कह दी है सभी पहलुओं
पर विचार होना चाहिए
शिक्षकों की दक्षता बनी रहे तभी वो

गुणवत्ता पूर्ण शिक्षा दे पाएंगे बेहद अहम
बेहद जरूरी है और शिक्षक भी किसी भी एंगल
से मोटिवेटेड ना हो यह भी जरूरी
है ठीक है अभिषेक जी बहुत शुक्रिया आपका

हमारे साथ जुड़ने के लिए तो अभिषेक झा
जेडीयू से थे उन्होंने कहा साफ तौर पर कि
जो भी मांगे हैं शिक्षकों की वह विचाराधीन
है और शिक्षकों के हित में फैसले लिए

जाएंगे तो नियोजित शिक्षक लगातार मांग कर
रहे हैं तरह-तरह की उनकी मांगें एक तो
सक्षम परीक्षा का विरोध दूसरी एक मांग यह
थी कि ऑनलाइन परीक्षा में जो पुराने
शिक्षक है जो कंप्यूटर से बहुत ज्यादा

फ्रेंडली नहीं है उन्हें दिक्कत हो रही थी
जिनके लिए अब ऑनलाइन परीक्षा के बजाय
ऑफलाइन

Leave a Comment