Farmer Protest 2024: किसानों ने रेल रोक कर ट्रोल फ्री किया, Congress ने दिया समर्थन | - instathreads

Farmer Protest 2024: किसानों ने रेल रोक कर ट्रोल फ्री किया, Congress ने दिया समर्थन |

इस वक्त बड़ी खबर पंजाब से आ रही
है सड़कों के बाद अब प्रदर्शनकारियों ने
रेलवे ट्रैक और टोल पर भी कब्जा करना शुरू
कर दिया है पंजाब के पटियाला बठिंडा और
लुधियाना से प्रदर्शन की ये तस्वीरें आ

रही हैं पंजाब के लुधियाना में
प्रदर्शनकारियों के ने सतलुज नदी के
किनारे बने नेशनल टोल पर कब्जा कर लिया है
और सभी के लिए टोल फ्री कर दिया है वहीं
बठिंडा में भी प्रदर्शनकारियों ने रेल के

पहिए रोक दिए है वही पटियाला के राजपुरा
रेलवे स्टेशन पर भी प्रदर्शनकारी रेलवे
ट्रैक पर बैठे हुए दिख रहे
हैं यह तीन तस्वीरें आपको अब दिखा रहे हैं
किसानों ने बठिंडा में रेल रो को आंदोलन

के तहत पटरियों पर डेरा डाल दिया है वही
लुधियाना में भी टोल पर उन्होंने कब्जा कर
लिया है सतत नदी के किनारे बने नेशनल टोल
पर कब्जा कर लिया है और टोल फ्री कर दिया

है पूरा इस को और वहीं टोल पर किसान धरने
पर भी बैठे हुए हैं किसानों का कहना है कि
कल पूरा भारत बंद रहेगा यह ऐलान किया है
कि 18 तारीख को सिर्फ संयुक्त किसान
मोर्चे की बड़ी मीटिंग होगी किसान आंदोलन
के पक्ष में केंद्र सरकार और हरियाणा

सरकार ने
जो काउंटर किया है इनके प्रदर्शन को उसके
खिलाफ रणनीति तय की जाएगी तो ट्रैक पर

प्रदर्शनकारी बैठे हैं एक तरफ पटियाला में
भटिंडा में भी इसी तरीके का प्रदर्शन
और रेलवे ट्रैक पर प्रदर्शन लुधियाना में
भी और जहां पर टोल पर भी इन्होने कब्जा कर

लिया है नेशनल टोल पर भी कब्जा कर लिया
है अब सबसे पहले समझिए कि आखिर किसान
सरकार के सामने क्या क्या मांगे रख रहे
हैं सबसे पहले उन्होंने कहा कि सभी फसलों

की खरीद के लिए एमएसपी की गारंटी इसको
कानून बनाया जाए दूसरा इनका कहना है कि
सभी फसलों के उत्पादन की औसत लागत से 50
प्र से ज्यादा एमएसपी इनको मिलनी चाहिए

किसान और मजदूरों के कर्ज का को माफ कर
दिया जाए किसानों को प्रदूषण कानून से
बाहर रखा जाए 60 साल से ज्यादा उम्र के
किसानों को 00 पेंशन दी जाए भूमि अधिग्रहण

अधिनियम 2013 दोबारा लागू किया जाए मुक्त
व्यापार समझौतों पर रोक लगाई जाए विद्युत
संशोधन विधेयक 2020 को रद्द किया जाए
मनरेगा में हर साल 200 दिन काम और 00
मजदूरी दी जाए किसान आंदोलन में मृत

किसानों के परिवारों को मुआवजा और सरकारी
नौकरी मिले किसान आंदोलनों के दौरान दर्ज
सभी मुकदमे दर्ज किए जाएं फसल बीमा सरकार
खुद तय करे
मिर्च हल्दी और अन्य मसालों के लिए

राष्ट्रीय आयोग भी ग भी घ गठित हो यह सबसे
बड़ी बात है कि राष्ट्रीय आयोग को गठित
किया जाए और वह भी मसालों के लिए मिर्च
हल्दी और अन्य मसालों के लिए एक राष्ट्रीय
आयोग को गठित किया जाए इसमें से कई बातों

पर कई बातों पर सरकार के साथ चर्चा हो रही
है लेकिन किसान अपनी हर बात को मनवाने पर
लड़ी
है इधर कांग्रेस ने किसानों के भारत बंद

के ऐलान का समर्थन कर डाला है कांग्रेस
नेता जयराम रमेश ने किसान संगठनों का खुला
समर्थन किया और कहा कि कल सासाराम में
भारत जोड़ो न्याय यात्रा में राहुल गांधी

किसानों के साथ भेट करेंगे जयराम रमेश ने
किसानों से बातचीत में तीन मंत्रियों की
नियुक्ति का को को दिखावा करार दिया है और
कहा कि सरकार चंदा दाताओं का सम्मान करती

है अन्न दाताओं का
नहीं जो ऐलान किया है कि साथ सटने उसका तो
समर्थन हम कर रहे हैं पर कल ससर में भारत
जोड़ो न्याय यात्रा में राहुल गांधी जी

किसानों से मुलाकात करेंगे करीब एक दो
घंटे के लिए सब दिखावा है तीन मंत्री वहां
नियुक्त किए गए हैं आप जाके किसानों से
बात कीजिए पहले तो मन बना लिया है यह सब

दिखावा है यह सब टीवी चैनलों के लिए है
आंसू की गैस छोड़े जा रहे हैं ऊपर ड्रोन
से आंसू की गैस छोड़े जा रहे हैं और कीले
लगा गए हैं सड़कों में और जिस भाषा का
इस्तेमाल किया जा रहा है किसानों के खिलाफ

किसान संगठनों के खिलाफ ये बिल्कुल
निंदनीय
है इधर केंद्र सरकार ने किसानों को चिट्ठी
लिखकर तीसरे दौर की बातचीत के लिए
आमंत्रित किया है यह चिट्ठी कृषि एवं

किसान कल्याण मंत्रालय की ओर से किसानों
को भेजी गई है चिट्ठी में किसान नेता
संयुक्त किसान मोर्चा नेता जगजीत सिंह
दलेवाल और किसान मजदूर मोर्चा के नेता

सरवंत सिंह पंढेर को संबोधित करकर इस
चिट्ठी को लिखा गया है दोनों नेताओं को आज
शाम पाच बजे चंडीगढ़ में बातचीत के लिए
न्यौता दिया गया है किसानों के साथ इस
मीटिंग में केंद्र सरकार की ओर से

केंद्रीय मंत्री अर्जुन मुंडा जी पियूष
गोयल और नित्यानंद राय शामिल होंगे तो यह
तीन मंत्रियों का ग्रुप किसानों से भेंट
करेगा यह मीटिंग आज शाम 5 बजे चंडीगढ़ में

होगी और इस पत्र को दो किसान नेताओं का
नाम लेकर उन्हें संबोधित करकर उन्हें
आमंत्रित किया गया
है

आइए आपको एक चिट्ठी दिखाते हैं श्री जगजीत
सिंह डल्ले वाल जी संयुक्त किसान मोर्चा
और श्री सरवन सिंह पंढेर जी किसान मजदूर

मोर्चा इनको स इनको संबोधित करते हुए लिखा
है किसान संघों की मांगों पर विचार करने
हेतु और कहा गया है कि किसान संघों की
मांगों के संबंध में भारत सरकार के

केंद्रीय मंत्री गण अर्जुन मुंडा श्री
पियूष गोयल एवं श्री नित्यानंद राय के साथ
एक बैठक दिनांक 15 फरवरी 2024 सायंकाल को
महात्मा गांधी स्टेट इंस्टिट्यूट ऑफ

पब्लिक एडमिनिस्ट्रेशन पंजाब यहां पर
सेक्टर 26 चंडीगढ़ में आयोजित की गई है आप
बैठक में सादर आमंत्रित है कृपया नियत समय
पर उपस्थित होने का कष्ट करें और इसको

साइन किया गया है कपिल अशोक वंदरे
इन्होंने साइन किया कपिल अशोक जी ने सं
साइन किया है ऑन बिहा ऑफ यह जो तीन
मंत्रिमंडल का गठन है तो इन्होंने यह भेजा
गया है कृषि भवन नई दिल्ली से दिनांक 14

फरवरी
को तो दो किसान नेता है जिनको संबोधित कर
कर के यह ये आमंत्रण दिया गया है यह
पहुंचते हैं कि नहीं आज शाम 5:00 बजे
चंडीगढ़ में देखेंगे अब बात करते हैं उन

मांगों की जिन पर सरकार और किसानों के बीच
पैच फसा हुआ है यानी आज शाम 5:00 बजे जो
तीसरे दौर की बातचीत हो रही है वह इन्हीं
पर फोकस रहेंगी सबसे पहला विषय है एमएसपी

गारंटी वाला कानून जहां सहमति फिलहाल नहीं
बन पाई
वहीं स्वामीनाथन आयोग रिपोर्ट लागू हो इस
पर भी पूरी तरह से सहमति नहीं बन पाई
है तीसरा किसानों का कर्ज माफ हो इस पर भी

सहमति नहीं बन पाई तो पहली मांग एमएसपी
गारंटी वाला कानून इस पर सहमति नहीं
स्वामीनाथन आयोग रिपोर्ट लागू हो इस पर

सहमति नहीं किसना किसानों का कर्ज माफ हो
इन तीन मुद्दों पर फिलहाल कोई सहमति नहीं
बन पाई
है अब वही हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर
लाल खट्टर ने क्या कुछ कहा वह भी आपको

सुनाते हैं
सुनिए को समय समय पर जो हम सहायता देते
हैं उसमें आज
विभिन्न प्रकार के जो उनका मुआवजा या था
उनकी जो इंसेंटिव राशि व जो बनती है उसको

आज हमने रिलीज किया है आपको पता है कि
हरियाणा इसमें बहुत संवेदनशीलता के साथ
अपने किसानों के प्रति काम करता है कि जब
भी कभी किसी प्रकार की कोई आपदा आती है

अथवा हमको कोई नई स्कीम चलानी होती है
जिसमें किसान का भी हित हो और उसमें
प्रोडक्शन के नाते हो अथवा नई विधि के

नाते से कोई टेक्नीक के नाते से हो तो
उसके लिए हम नई नई चीजें अपनी खोजते हैं
आवश्यकता के
अनुसार अब वही किसान आंदोलन पर केंद्रीय
कृषि मंत्री अर्जुन मुंडा का एक बहुत बड़ा

बयान सामने आया है उन्होंने कहा कि आंदोलन
से आम लोगों को कोई परेशानी नहीं होनी
चाहिए किसान नेता इसका ध्यान रखें क्योंकि
आम लोगों को परेशान कर किसी का भी भला

नहीं होने वाला
इसके साथ ही अर्जुन मुंडा ने कहा कि किसान
नेता जो कानून बनाने की मांग कर रहे हैं
उस पर विस्तार से चर्चा जरूरी है जो कि
पिछली बार नहीं हो पाई थी उन्होंने उम्मीद

जताई कि इस बार किसान नेता कानून बनाने पर
विस्तार से चर्चा
करेंगे मैं निवेदन
करूंगा सारे किसान संगठनों से जो भी इस
समय इस तरह की बातों को

लेकर जिससे
कि समस्या का समाधान
के रास्ते मजबूत हो सकता है उसके अनुसार
पहल
करें बातचीत के माध्यम से समाधान ढूंढे जो
कानून बनाने की बात होगी उसमें सभी ऐसे

विषयों पर ध्यान रखना जरूरी होता है जिससे
कि कठिनाई ना हो और जो भी कुछ हम करना
चाहते हैं वह अच्छे ढंग से हो
अच्छे के लिए
हो

तो इस बात पर हमें और चर्चा इसलिए करने की
आवश्यकता जरूरी
है क्योंकि इसके पहले भी इस तरह की जब
बातें आई तो उसमें किसान संगठनों के
प्रतिनिधि के माध्यम से चर्चा करने की बात

की गई लेकिन उसमें किसान संगठनों के
प्रतिनिधियों ने
योगदान नहीं किया
वहीं बीजेपी नेता हरनाथ सिंह ने दिल्ली
में प्रदर्शन के लिए कुछ कर लिया है

प्रदर्शनकारियों पर बड़ा हमला भी बोला है
उन्होंने कहा है कि कुछ ऐसे तत्व है जो
किसानों की भावनाओं को भड़का करर देश में
अशांति फैलाना चाहते हैं उन्होंने कहा है
कि यह खालिस्तानी हों का आंदोलन

है कुछ ऐसे तत्व है इस देश के अंदर जो कुछ
किसानों की भावना को भड़कर भड़का करके इस
देश में जो शांति है इस देश में जो देश
प्रगति के रास्ते पर बढ़ रहा है व उनको
बदा नहीं है और वह जो है क्या नाम इस देश

के अंदर अराजकता का माहौल पैदा करना चाहते
हैं और यह
बारबार स्थिति पैदा होती है पंजाब से यह
इस आंदोलन के पीछे गहराई से आप विचार करिए
तो

इसमें यह किसानों का आंदोलन नहीं है यह
आंदोलन है कांग्रेस का यह आंदोलन है आम
आदमी पार्टी का यह आंदोलन है देशद्रोही
खालिस्तानी को तीनों का यह एक गुट बन गया
है

Leave a Comment