Farmers Protest News : पुलिस ने तोड़े किसानों की गाड़ियों के शीशे | Haryana News | Delhi Police | - instathreads

Farmers Protest News : पुलिस ने तोड़े किसानों की गाड़ियों के शीशे | Haryana News | Delhi Police |

प्रशासन दे नाल गल बात करन दे ल पहुंचे ता
किसाना द गड्डियां दे शीशे ही तोड़ दते गए
ने जी हां दरअसल इल्जाम भी न किसाना दे
वल्लों पुलिस दे उपर लगाए जा रहे ने कि

पुलिस दे वल्लों उन्हा द गड्डियां दे शीशे
तोड़े गए ने दरअसल मामला जींद तो सामने
आया जिथे कि किसाना दे वल्लों लगातार अपया
मंगा न लेके धरना प्रदर्शन कीता जा रहा सी

हालांकि कई इलाक दे विच प्रशासन दे वल्लों
इंटरनेट सेवाओं बंद कर दतिया गईया सी लोका
दिया शयता किसाना दे कोल जा रहिया सी ता
किसान आगू प्रशासन दे नाल गल बात करन दे

ली पहुंचे सी इस तो पहला किहा जा र है कि
जींद दे विच पुलिस दे वल्लों किसाना ते
लाठी चार्ज भी किता गया सी तो उस मसले न
लेके जद प्रशासन दे नाल गल बात करन दे ली
पहुंचे तो जिव ही किसान गल बात करन ली

अंदर गए तो बाहर खड़िया गड्डियां दे उन्हा
दे शीशे तोड़ देते गए जी हां इल्जाम भी
उन्हा दे वल्लों पुलिस दे ऊपर लगाए गए ने
जिस तो बाद मौके दे उते माहौल काफी पाक
गया तस्वीरा भी इसन ले सामने आइया ने जिस

दे विच साफ देखा जा सकता है कि गड्डियां
दे शीशे पन्ने हुए ने ता कहा जा रहा है कि
करीब 10 गड्डियां दे शीशे पुलिस दे वल्लों
तोड़ देते गए ने अते कई तरीके दे न

सवालिया निशान किसाना दे वल्लों पुलिस दे
ऊपर लगाए जा रहेने कल से यहां पर किसान
डटे हुए हैं और किसान शांतिपूर्ण तरीके से
आंदोलन करना चाहते थे अपनी मांगों को लेक

दिल्ली कुछ करना चाहते थे लेकिन प्रशासन
की तानाशाही और प्रशासन की बदसलूकी के
कारण उनको बॉर्डर पर रोका गया जबकि यह
पहली बार हुआ है कि पहले तो यह किसानों के
जुम लगाते थे किसान रोड रोकते अब प्रशासन

तीन दिन से रोड रोके हुए है यहां पर नेट
बंद कर रख प्रशासन तानाशाही करया पानी
वाटर कैनन से वो ये जहरीली गैस भी उड़ाई
गई है टियर गैस भी उड़ाई गई है और
प्लास्टिक की गोलियां भी चलाई गई है और आज

हमारे साथ भी बलक की हम क्योंकि कल हमारे
कुछ साथियों को गिरफ्तार किया गया था जैसे
ही हमें पता चला कि हमारे किसान भाइयों को
गिरफ्तार किया गया है और जाजती की गया
गांव-गांव में लोगों को रोका गया है सबके

मुंह बंद कर दिया गया है यह तानाशाही
प्रशासन करया है हमें पता चला तो प्रशासन
से हम बातचीत करने आए थे हमारा डेलीगेट
आया था शुक्त किसान मोर्चा का और आज हमारी
ये गाड़ियों को तोड़
दिया कितनी गाड़ न कम से कम 10 गाड़ियों

का नुकसान
है एसकेएम के 50 के लगभग हमारे जो इलाके
के जींद इलाके के जितने भी संगठन है किसान
संगठन वो सभी आए थे क्योंकि हमारे पास 72
गांव के लोग आके सब इसने कहा था भाई हमें
एक नेतृत्व देकर ने आगे करके ने भेजा था

यहां पर कि आप जाइए प्रशासन ने इतनी
तानाशाही कर रखी है सभी गांव में नाके लगा
रखे किसी को लोगों को नहीं निकलने देते
लोगों का दम घोट रखा है तो कुछ साथियों को
किसान भाइयों को गिरफ्तार भी गया है जिसने

एसपी ने बताया कि चार किसानों ने स्वयं ने
मान्या है लेकिन बातचीत हुई लेकिन उस
बातचीत हम करने गए पीछे से हमारी गाड़िया
तोड़ दी यह तानाशाही रवैया सरकार का है
सरकार खुद चाहती है कि प्रदेश के अंदर देश

के अंदर दंगे बकाए जावे इसलिए हम कहते कि
इस सारी सारी जिम्मेवारी सरकार की और
सरकार एक मनोप अपनी एक पॉलिसी के तहत इस
प्रकार का करा रही है ताकि लोग बढ़ के
लेकिन हम शांतिपूर्वक तरीके से इस सरकार

से एमएसपी लेना चाहते हैं सरकार ने चाहिए
कि हमें देने का काम करें स्वामीनाथन आयोग
की रिपोर्ट लागू करने का काम करें और जो
किसान मजदूर के कर्जे है वह माफ करने का
काम करें हमारी यही तो मांगे हमने को

लेकिन सरकार नहीं चाहती सरकार किसी भी
कीमत पर एक दंगे भड़काना चाहती है प्रदेश
के अंदर हम किसी की म मत पर सद नहीं
करेंगे और हम जा पाएंगे तो नहीं जा पाएंगे

ऐसे तो लग रहा है कि नहीं तोड़ पाएंगे
लेकि देखो किसान लड़ेगा और जीतेगा संघर
जारी है समय लग सकता है एक हमने भी अब आगे
जैसे भी सक्त किसान मोर्चा जो आगू नेता और
रणनीति बनाएंगे अब उसके अनुसरा हमारी नियत

और नीति है कि शांतिपूर्वक तरीके से हम
आंदोलन करें और शांतिपूर्वक तरीके से जिस
प्रकार हमने 13 महीने लड़ाई लड़ी है मोदी
सरकार को झुकाने का काम किया था काले

कानून वापस करवाने का काम किया था इसी
प्रकार हम शांति से आंदोलन करना चाहते हैं
लेकिन सरकार तानाशाही और बरगलाने पर लगी
हुई है लोगों में एक धार्मिक प्रचार करना
चाहती है और सरकार स्वयं जिम्मेवार है जो
इस प्रकार की गुंडागर्दी सरकार स्वयं करना

चाहती है सड़कों पर कील गाट दी वाटर कैनन
का प्रयोग किया जबक शांतिपूर्ण तरीके से
किसान बैठे हुए हैं लगातार टेर गैस का
इस्तेमाल किया जा बिल्कुल तो लगातार आप
देख रहे हो भारत पाकिस्तान का बॉर्डर बना
रखा है लेकिन हम सरकार से कहना चाहते हैं

चेतावनी देना चाहते हैं सरकार कि इस
तानाशाही से किसान मजदूर ना झुकने वाला ना
डरने वाला हम जरूर हम दिल्ली पहुंचेंगे और
हमारी मांगों को मन
आजवा सद मचा
हरियाणा

Leave a Comment