PM Modi Vs Congress: मोदी अव्वल आएंगे...परिवारवादी देखते रह जाएंगे ! | 2024 Election | INDI Alliance - instathreads

PM Modi Vs Congress: मोदी अव्वल आएंगे…परिवारवादी देखते रह जाएंगे ! | 2024 Election | INDI Alliance

नरेंद्र मोदी की एक खासियत है पहले वह
टारगेट सेट करते हैं फिर उसे अचीव करने का
नया बेंचमार्क सेट करते हैं लेकिन इस बार
उन्होंने 370 सीटों का जो टारगेट रखा है

उसके लिए उनके स्ट्रेटेजी क्या है आज
दिल्ली के भारत मंडपम में उसी की एक झलक
नजर आई बीजेपी के ग्राउंड वर्कर से लेकर
बड़े-बड़े नेता कैसे विरोधियों को घेर
राहुल गांधी ममता बनर्जी अखिलेश यादव लालू
यादव और स्टालिन जैसे नेताओं को बैकफुट पर

का फार्मूला आखिर है क्या इस रिपोर्ट में
जानिए लोकसभा चुनाव में बीजेपी 370 का
टारगेट कैसे अचीव
करेगी मोदी और शाह का फार्मूला क्या है
इसका रिफ्लेक्शन अमित शाह के तीन शब्दों
में मिल

गया 2जी 3जी और
4जी सबसे पहले मतलब समझ लीजिए फिर
फार्मूला समझाते
हैं देश के अंदर 2जी 3जी और 4जी पार्टिया
है 2जी से मतलब आप 2जी घोटाले से नहीं है
टू जनरेशन पार्टी थ्री जनरेशन पार्टी फोर
जनरेशन

पार्टी आप पूछेंगे कि बीजेपी के 370 सीट
वाले टारगेट से इसका कनेक्शन क्या है
गौर से देखिएगा तो बीजेपी के विनिंग
फैक्टर से इसका डायरेक्ट कनेक्शन है पहले
कुछ चेहरे देख
लीजिए राहुल गांधी ममता बैनर्जी शरद पवार
उद्धव ठाकरे अखिलेश यादव तेजस्वी यादव एम

के स्टालिन केसीआर फारूख अब्दुल्ला हेमंत
सोरेन इन सभी में एक ही चीज कॉमन है इन सब
पर परिवारवाद का आरोप
है किसी पार्टी में दो पीढ़ी किसी में तीन
पीढ़ी और किसी में चार लेकिन लीडरशिप

दूसरी फैमिली में नहीं गई अमित शाह ने यही
बात डिटेल में समझाई पब्लिक को यह बात समझ
में भी
आई चार चार पीढ़ी तक नेता नहीं बदलता है
चार चार पीढ़ी तक नेता नहीं बदलता है
क्यों भाई देश के किसी युवा में कौत नहीं

है वो आगे नहीं बढ़ सकता ना जी वो नहीं
बढ़ सकता थोड़ा आगे बढ़ गया तो का हस्र कर
देंगे कई सारे लोग ऐसे हस्र किए हुए हैं
भारतीय जनता पार्टी जॉइन करकर आज लोकतंत्र
की यात्रा में जुड़े

हैं सवाल यह नहीं कि बीजेपी में कौन-कौन
आया किस पार्टी से आया सवाल यह है कि
क्यों आया जवाब सिंपल सा है परिवारवाद के
सामने वो टिक नहीं
पाया यह बात किसी से छिपी नहीं है कि
सोनिया गांधी का सिर्फ एक ही सपना है

राहुल गांधी को देश का प्रधान मंत्री
बनाना यही ख्वाब लालू यादव के मन में भी
है तेजस्वी किसी तरह मुख्यमंत्री
बने इसीलिए लालू यादव ने नीतीश कुमार से
तमाम पुराने गिले शिकवे बुलाकर दोस्ती की

दोनों ने मिलकर बिहार में सरकार बनाई और
फिर लालू यादव ने खुद दबाव भी बनाया लेकिन
फायदा कुछ नहीं हुआ अब नीतीश और लालू के
रास्ते फिर जुदा हो गए लेकिन टीस बाकी रह
गई तेजस्वी सीएम नहीं बन
पाए

मुलायम सिंह यादव इस मामले में चैंपियन
निकले उन्होंने बेटे के लिए उनका जो फर्ज
था उसे काफी पहले ही निभा दिया था कोई इसे
परिवारवाद कहे तो कहता
रहे मोदी जी कहते हैं महान भारत की रतना
हो 207 तक का लक्ष रखा आत्मनिर्भर भारत की
रतना हो 207 तक का रक्ष रखा सोनिया जी का

 

लक्ष्य राहुल जी को पीएम
बनाना पवार साहब का लक्ष्य बेटी को सीएम
बनाना ममता दीदी का लक्ष्य भतीजे को सीएम
बनाना स्टालिन का लक्ष्य अपने बेटे को
सीएम बनाना लालू प्रसाद जी का लक्ष्य अपने

बेटे को सीएम बनाना उद्धव ठाकरे का लक्ष्य
अपने बेटे को सीएम बनाना और मुलायम सिंह
जी बेटे को बनाकर ही गए हैं अब मुझे एक
बात बताइए कार्यकर्ता भाइयों बहनों जिनका
लक्ष्य ही
अपने बेटे बेटी भतीज का कल्याण हो वह गरीब

का कल्याण कर सकता है क्या कभी नहीं
कर जिन नेताओं के नाम आपने सुने वह सब
इंडिया एलायस का हिस्सा है कहने के लिए एक
साथ हैं लेकिन बैटल ग्राउंड पर अलग-अलग
खड़े हैं सबकी पोजिशनिंग अलग है सबका
एजेंडा भी अलग

है ममता बनर्जी को पश्चिम बंगाल में
कांग्रेस से दिक्कत है अखिलेश यादव को भी
यूपी में कांग्रेस से परेशानी है केजरीवाल
और उनकी पार्टी पंजाब में तेवर दिखा रहे
हैं कई राज्यों में एंटी मोदी मोर्चा बिखर
चुका है सिर्फ बिहार में आरजेडी ही

कांग्रेस के साथ बची है अलायंस कितना टूटा
कितना बचा यह तो सबके सामने है लेकिन जो
कुछ भी बचा है उसे अमित शाह अपने तरीके से
डिफाइन कर रहे हैं इंडि अलायंस इंडि
अलायंस बड़ा चैलेंज बड़ा चैलेंज बड़ा
चैलेंज बड़ा चैलेंज

अगर मुझे कोई कहे कि इंडि एलांस क्या है
तो मैं इसकी एक ही व्याख्या करता हूं सात
परिवारी परिवारवाद पार्टियों का गठबंधन
इडी
एलायंस इससे ज्यादा कुछ नहीं है जो अपनी
पार्टी के अंदर डेमोक्रेसी नहीं स्थापित

कर सकते वह देश की डेमोक्रेसी की रक्षा
नहीं कर सकते इस देश की जनता को आपकी
पार्टी लोकतांत्रिक पार्टी नहीं है आप की
पार्टियां लोकतांत्रिक पार्टिया नहीं है
आप देश के लोकतंत्र का रक्षा नहीं कर सकते

एलायंस है और दूसरी और राहुल जी के
नेतृत्व में डायनेस्टिक एलायंस है
डेमोक्रेटिक एलायंस डेवलपमेंटल एलायंस और
डायनेस्टिक एलायंस के बीच में देश की जनता
को पसंद करना है वैसे परिवारवाद की
डेफिनेशन बीजेपी के अध्यक्ष जेपी नड्डा भी

अच्छी तरह समझाते हैं और इसके लिए वह पूरा
मैप सामने लेकर आते हैं जम्मू कश्मीर में
अब्दुल्ला फैमिली पंजाब में बादल फैमिली
यूपी में मुलायम अखिलेश का परिवार बिहार
में लालू यादव का कुनबा पश्चिम बंगाल में

ममता बनर्जी का परिवार महाराष्ट्र में
ठाकरे फैमिली तेलंगाना में केसीआर और
तमिलनाडु में स्टालिन
फैमिली बीजेपी के तमाम लीडर्स उत्तर से
दक्षिण तक पूरा मानचित्र दिखाते
हैं

अमित शाह इसे कौरव पांडव का युद्ध बताते
हैं डेवलपमेंट बनाम डायनेस्टी की जंग
बताते हैं मैं
आज आप सबके माध्यम से करोड़ों भारतीय जनता
पार्टी के कार्यकर्ताओं को कहने आया अगला
चुनाव दो खे में पड़े हुए महाभारत के
युद्ध में जैसे पांडव और कौरव के खेमे

पड़े थे इसी तरह चुनाव के पहले दो खेमे
पड़े हैं एक खमा है मोदी जी के नेतृत्व
में बीजेपी के नेतृत्व में एनडीए का
गठबंधन और दूसरा है कांग्रेस के नेतृत्व
में सारी परिवारवाद पार्टियों पार्टियों
का इंडी एलायंस देश को इ दोनों में से एक
को चुनना

है नरेंद्र मोदी अमित शाह जेपी नड्डा या
बीजेपी का कोई भी सीनियर लीडर जब भी
परिवारवाद की बातें करता है तो करप्शन की
बातें भी साथ साथ आती हैं बीजेपी के लोग
इंडिया एलायस के तमाम चेहरे सामने लेकर
आते

हैं झारखंड में एक एमपी के घर से सा स
करोड़ रुपया जप्त होता है छत्तीसगढ़ में
महादेव के नाम से जुआ खिलाने का एक घोटाला
आता है डीएमके के मंत्रियों के घर से
करोड़ों रुपया बरामद होता है तमल कांग्रेस
के मंत्रियों के घर से अनेक करोड़ रुपया

55 करोड़ तो एक ही स्थान पर से अनेक करोड़
रुपयों का सैकड़ों करोड़ के घोटाले बाहर
है और लालू जी सजा आपता है और अभी भी एक
एक नई नई भ्रष्टाचार की एफर उन पर हो रही
है मित्र पूरा इडी एलायस य कांग्रेस

पार्टी के नेतृत्व में घडिया गठबंधन ये
पूरा भ्रष्टाचार से लिप्त देश की जनता ने
तय करना है
भ्रष्टाचार के दूषण को समाप्त करने वाले
नरेंद्र मोदी जी को मैंडेट देना है या

भ्रष्टाचार ही जिनका धर्म है ऐसे इंडी
एलायंस
को मत देना
है अरविंद केजरीवाल अभी तक परिवारवाद वाले
घेरे में नहीं आए लेकिन करप्शन के इल्जाम
उनके खिलाफ भी खूब सामने
आए शराब घोटाला मोहल्ला क्लीनिक में

गड़बड़ी मरीजों के टेस्ट के नाम पर
फर्जीवाड़ा ऐसे तमाम आरोपों का सामना
केजरीवाल को भी करना पड़ रहा है ईडी
उन्हें बार-बार समन भेज रही है केजरीवाल
उसे इलीगल बता रहे हैं और बीजेपी उन्हें

भगोड़ा बता रही है एक कहावत है बड़े मिया
तो बड़े मिया छोटे मिया भी सुभान अल्लाह
जब कांग्रेस पार्टी इतना भ्रष्टाचार करती
है तो साथी भला क्यों बाकी रहेंगे आम आदमी
पार्टी आपकारी जकात का घोटाला लोगों के

उपचार में मोहल्ला क्लिनिक का घोटाला ढेर
सारे घोटाले की लोगों के मेडिकल टेस्ट
करने में भी घोटाला किया और आज उनका सारा
नेतृत्व कोर्ट से भागता है कोर्ट से भागता
है एजेंसी से भागता है देश की जनता ने तय

करना है कि देश का भविष्य य
भ्रष्टाचारियों के हाथ में सौंपना है या
नक्स प्रामाणिक वति जिस पर दुश्मन भी आरोप
नहीं कर सकते ऐसे नरेंद्र मोदी जी को
सौंपना वैसे परिवारवाद का इशू जब भी आता
है तो विरोधी पार्टियां बीजेपी पर भी आरोप

लगाती हैं अपोजिशन के लीडर्स अमित शाह और
राजनाथ सिंह जैसे नेताओं का नाम जोर-शोर
से उठाते हैं लेकिन वह फर्क खुद भूल जाते
हैं जो पीएम मोदी ने कुछ दिनों पहले
समझाया था और लोगों को समझ में नहीं आया

था मोदी का कहना है कि जब किसी पार्टी के
सारे फैसले एक ही परिवार के लोग करते हैं
उस पार्टी के मुखिया एक ही फैमिली के लोग
होते हैं तो परिवारवाद उसे कहते हैं
विरोधी इसका कोई जवाब नहीं दे पाए लेकिन

बीजेपी ने इसके बाद से ही हमले तेज कर दिए
इंडि एलायस अहंकार से युक्त वह सहन ही
नहीं कर सकते व ऐसा मानते हैं कि देश का
प्रधानमंत्री वही बन सकता है जो बड़े
परिवारों से आता वो सहन नहीं कर सकते एक

गरीब मां का बेटा देश का प्रधान
प्रधानमंत्री बनकर देश को चला रहा है ये
अहंकार उनको भारतीय जनता पार्टी के खिलाफ
खड़ ये परिवारवाद राजकुमार सारे के सारे
इकट्ठा होकर हमारा विरोध करहे लोकसभा के

इस इलेक्शन में मुद्दे तो कई होंगे यह सच
है कि आर्टिकल 370 से लेकर अयोध्या तक
तमाम इश्यूज बीजेपी का वोट प्लस कराएगी
लेकिन यह भी सच है कि परिवारवाद के मुद्दे
ने विपक्ष को पहले भी नुकसान पहुंचाया और
आगे भी पह

Leave a Comment