Tejashwi Yadav Challenge | क्या ये लड़का Bihar में Modi का बैंड बजाने जा रहा ! | - instathreads

Tejashwi Yadav Challenge | क्या ये लड़का Bihar में Modi का बैंड बजाने जा रहा ! |

नमस्कार

आपको जानकर हैरत होगी कि बीजेपी ने जब
से बीजेपी ने जब से नितिश कुमार का फिर से
दामन थामा है बिहार में भाजपा का जो ताकत
का ग्राफ है जो ताकत का ग्राफ है व ऊपर
जाने के
बजाय नीचे आ रहा है और जो केंद्रीय

नेतृत्व मोदी और अमित शाह मोदी और उनके
चाणक के जो यह सोच रहे थे कि नितिश के आने
से जो सीटें हैं उसमें इजाफा
होगा में से 32 प्लस
सीटें मिल सकती थी मोदी और शाका यह उनका

आकलन था असेसमेंट था लेकिन य जो 32 प्लस
सीट है जिस पर निगाहे थी चाणक्य की यह
घटकर जो ताजा सर्वे इंटरनल सर्वे बीजेपी
का यह 25 से नीचे जा रही है आप कह सकते
हैं कि घटनाक्रम कुछ और बदला तो 25 से और

भी कम यह सीटें हो
सकती अब दोस्तों असली खबर यह कि गुजरात
लॉबी इस देश की सबसे ताकतवर गुजरात लॉबी
बिहार में फिर से नए सिरे से एक ऑपरेशन को
अंजाम देने जा रही है और उनके निशाने पर
बिहार का सबसे उभरता हुआ चेहरा नेता

तेजस्वी यादव और आश्चर्य मत करिएगा कि अगर
अगले 15 दिनों में नेक्स्ट 15 डेज में
अगले पखवाड़े तक तेजस्वी के साथ ईडी वही
सलूक करे जो रांची में झारखंड के
मुख्यमंत्री हेमंत सुरेन के साथ किया था
क्योंकि बेचैनी के आलम में

मोदी कुछ भी कर सकते हैं जेल भी भेज सकते
हैं तेजस्वी को अब सबसे बड़ा सवाल यह है
कि क्या इस कदम से इस कारवाई से अगर मोदी
करते हैं जिस पर जिस जिद पर वह अड़े हुए
हैं क्या इससे बीजेपी का ग्राफ बिहार में
बढ़ेगा या मोदी जी को नुकसान होगा और हो

सकता है तेजस्वी को जेल भेजने में उनको
डिस्टर्ब करने में या उनकी घेराबंदी करने
में ये जो 32 प्लस सीटें जी हां जो आकलन
किया जा रहा है 32 प्लस सीट 40 में से 32

ये 32 घट के 25 ना हो जाए और जेल जाने में
25 से 20 ना आ जाए और 20 से भी कम जा सकती
सवाल इस बात का है कि क्या नरेंद्र मोदी
इस घबराहट में जी हां 2024 के फाइनल की
घबराहट
में 2024 की सबसे बड़ी गलती करने जा रहे

हैं
इज मोदी गोइंग टू कमिट अ ब्लंडर अ बिग
मिस्टेक अब दोस्तों बड़ी खबर पर आने से
पहले मैं चाहता हूं आपके सामने कुछ तथ्य

रखूं ताकि आपको यह पता लग सके यह एहसास हो
सके कि आखिर यह जो ऑपरेशन कर रहे हैं यह
जो अगले 15 दिन में जो बड़ा ऑपरेशन बिहार
में मोदी शाह करने जा रहे हैं या करने की
मंशा रखते हैं उसकी जड़ में क्या है उसके

पीछे जो असली वजह है वो क्या है और वजह यह
है कि बीजेपी को लगता है कि कहीं ना कहीं
नितीश के साथ
जाकर उनको नुकसान हो गया क्योंकि 152 दिन
पहले यूं कहे महीने भर पहले बीजेपी का जो

थिंक टैंक था जो उनका असेसमेंट था वो यह
था कि अगर नीतीश आएंगे तो अपने साथ 151 पर
वोट लेके आएंगे नीतीश कुमार के साथ हमें
151 पर वोट मिलेगा यानी नितीश के पास आज
भी बिहार में 15 टू 16 पर वोट है वोट शेयर
है और यह वोट शेयर जब जुड़ेगा तो हो सकता

है मोदी जी पिछले बार की तरह फिर से 40
में से 39 सीट ले जाए 38 सीट ले जाए यह वह
सोच रहे थे लेकिन जो पिछले हफ्ते जो ताजा
सर्वे इंटरनल सर्वे जो है बीजेपी का है
उसमें जो वोट शेयर है 15 16 पर का यह

घटकर 78 पर हो गया ऑलमोस्ट हाफ हो गया अब
इसके पीछे जो वजह बताई जा रही है वो यह है
कि नितीश ने जिस तरह से यू टर्न पर यू टन
लिया और तेजस को डिच किया और बिना किसी
वैलिड रीजन के व जिस तरह से मोदी के साथ
चले गए
अचानक उससे ना सिर्फ बदनामी हुई है

क्रेडिबिलिटी बहुत घट गई है और वह जो
क्रेडिबिलिटी घटी वह जो बदनामी हुई उसकी
आंच साझेदार पर भी आ गई पार्टनर पर भी आ
गई बीजेपी पर आ गई आप कह सकते हैं डबल

इंजन की सरकार में बिहार में डबल झटका खा
गए मोदी जी अब जाहिर तौर पर मोदी जी या
उनके जो चाणक है अमित शाह जब भी राजनीतिक
संकट में फंसते हैं या कहीं भी इनको हिसाब
बराबर करना होता है तो एक ही बही खाता है

या यूं कहे एक ही हथियार है वो ईडी है तो
एक बार फिर से ईडी को सक्रिय किया जा रहा
है कुछ अधिकारियों को पटना भेजा जा रहा है
लगातार मीटिंग हो रही हैं अमित शाह के बीच
में और ईडी के अधिकारियों के बीच में ऐसा
लोग कहते हैं कोई साक्ष नहीं लेकिन हरकत

है दिल्ली में हरकत है पटना में हरकत है
और जिस तरह से पिछली बार 30 जनवरी को 8
घंटे की पूछताछ तेजस्वी यादव से की गई थी
एट आवर्स की जो पूछताछ इंटोन हुआ उसके बाद
में बहुत से ऐसे सवाल हैं कि दोबारा
घेराबंदी ईडी करना चाहती है सेकंड टाइम

उनकी घेराबंदी करना चाहती और उनको लगता है
कि अगर तेजस्वी को डिस्टर्ब किया जाए तो
आरजेडी डिस्टर्ब होगी आरजेडी डिस्टर्ब
होगी तो इंडिया अलायंस डिस्टर्ब होगी और

अगर इंडिया अलायंस का कुनबा बिखरता
है फिर मैदान साफ है मैदान आसान हो सकता
है तो यह एक स्ट्रेटेजी है और उनको लगता
है कि इस बार तेजस्वी यादव की जो घेराबंदी
होगी कुछ वैसे ही होगी जो रांची में हेमंत

सुरेन की की गई थी पूरी तरह से इस नेता को
क्रश कर देना यह है मकसद अब तेजस्वी का जो
इंटोन हुआ था वो प्रिवेंशन ऑफ मनी लरिंग
एक्ट पीएम में हुआ था एक बड़ा सख्त कानून
है जिसका खुलकर दुरुपयोग हो रहा है

हालांकि नितीश कुमार जो साझेदार है
मुख्यमंत्री हैं मोदी जी के बिहार में
उनका कहना है कि तेजस्वी पर जो भी मामला
है वह सब फर्जी है फर्जी केस उन पर खोला
गया वैसे भी अगर आप चार्जशीट देखें सीबीआई

की तो आपको पता लगेगा कि एक गड़ा मुर्ता
एक बहुत पुरानी फाइल जानबूझकर खोजी गई है
कि तेजस्वी पर कोई केस बनाया जा मैं इस
दौर में केस की क्या मेरिट और क्या डी

मेरिट बहरहाल जो बीजेपी की टॉप लीडरशिप है
यानी आप कह सकते हैं मोदी जी और कुछ हद तक
शाह साहब और कुछ हद तक नड्डा साब ये जो
बीजेपी की लीडरशिप है ये अभी भी ऑप्शंस जो
है वो वे कर रही है ये अभी भी विकल्प जो

है वो सोच रही है कि जेल भेजना ठीक रहेगा
उसमें लाभ है कि क्या तेजस्वी जो इस वक्त
सेंटर फिगर है अपोजिशन के बिहार में अगर
इनको जेल भेजा जाए या इनकी घेराबंदी हो

रोज इनको इंट के लिए बुलाया जाए पाच पाच
घंटे छछ घंटे तो क्या यह इंडिया अलायंस को
समूचे विपक्ष को डिस्टर्ब कर सकते हैं
कैसा हो सकता है उसका लाभ बीजेपी को मिल
जाए एनडीए को मिल जाए या फिर जेल भेजने से

नुकसान अब बहरहाल जो भी है मोदी जी को
डिसाइड करना है फाइनल कॉल उनको लेनी है कि
इसमें नफा नुकसान क्या होगा हो सकता है कि
ईडी तेजस्वी की घेराबंदी करके उनको कहीं

ना कहीं ढील दे दे या यह भी हो सकता है
हेमंत सोरेन करते बहरहाल जो भी है मैंने
आपसे पहले भी कहा कि यह डिसाइड आने वाले
15 दिनों में होगा और हो सकता है आचार
संहिता से पहले हो

जाए अब दोस्तों जो सवाल है बिग क्वेश्चन
है वह यह है कि बिहार में होने क्या जा
रहा है क्या पिछले बार की तरह 40 में से
39 सीटें 39 सीट्स आउट ऑफ 40 40 में से 39
सीटें मोदी जी को फिर से मिल जाएंगी नितीश

कुमार क्योंकि साथ आ गए या नितीश कुमार के
साथ आने से नुकसान है क्योंकि तेजस्वी जो
इस वक्त एकदम सामने खड़े हैं तेजस्वी
वर्सेस नितीश कुमार या तेजस्वी वर्सेस

मोदी जो भी आप समझ लीजिए बिहार में जहां
तेजस्वी की लोकप्रियता शोहरत ताकत बढ़ रही
है क्या तेजस्वी अगर अलग लड़ते हैं मजबूती
से लड़ते हैं तो यह सीटें घट और अगर एक्शन
लिया जाए तो उसका नतीजा क्या होगा क्या

होने जा रहा है क्या बीजेपी पुरानी
परफॉर्मेंस रिपीट करेगी या एक नया चैलेंज
है बिहार का और बिहार बिहार की जो रणभूमि
है बिहार की जो रणभूमि है महाराष्ट्र और

बंगाल और कर्नाटक की तरह एक बहुत बड़ा
सवाल है मोदी जी के लिए जिसकी वजह से मोदी
जी कहीं ना कहीं बेचन है तो क्या होने जा
रहा है बिग क्वेश्चन क्योंकि फाइनल 20224
में बिहार का एक बड़ा रोल होगा इस बार ये
मैं आपको बता रहा हूं सीटें जितनी भी है

 

रोल एक बड़ा है अब बिहार कीय जो तस्वीर है
क्या तस्वीर बिहार की बनेगी इसको जानने के
लिए भीतर तक इसको समझने के लिए
आज बिहार के एक बड़े महारथी पत्रकार एक
बड़े दिलेर पत्रकार एक बहुत ही बेबाक
पत्रकार जो लालू यादव को भी जानते हैं

नितीश कुमार को भी जानते हैं तेजस्वी को
भी जानते हैं सबको आगे बढ़ते हुए देखा है
लालू की राजनीत नितीश की राजनीत भाजपा की
राजनीत कन्हैया बिहारी खुलकर बोलते हैं
धबंग बोलते हैं आप इनको बिहार का शेर बोल

सकते हैं पत्रकारिता का और आज की तारीख
में किसी से दबते नहीं है जो इनकी
एनालिसिस है
उसको समझना दोस्तों जरूरी है पिक्चर
क्लियर होगी ज्यादा वक्त नहीं लूंगा चलते

हैं कन्हैया बिलारी के पास क साब जो पहला
सवाल माय फर्स्ट क्वेश्चन
कया ऐसा कहा जा रहा है दिल्ली में पाटली
पुत्र के बारे में इंदु प्रस्त कह रहा है
कि कहीं ना कहीं सम वेयर जो मोदी जी को

उम्मीद थी जो अमित शाह को उम्मीद थी उनके
चाणक्य को कि जब नितिश आएंगे तो पिछली बार
की तरह होलसेल सीट मिलेंगी होलसेल पिछली
बार 40 में 39 ले गए थे लेकिन अब उनको ऐसा
लगता है कि नितीश जी की बड़ी बदनामी हुई

है जो इन्होने यू टर्न लिया है और कहीं ना
कहीं एक क्रेडिबिलिटी क्राइसिस के दौर से
नितीश गुजर रहे हैं और जेडीयू और आरजेडी
को जो तोड़ना था इसका लाभ तेजस्वी को मिल
रहा है मैं आपसे पूछना चाह रहा हूं कि
क्या नितीश का साथ लेकर

मोदी जी को जो सौदा है महंगा पड़ रहा
है मुझे लगता है कि असल में यह लोग समझे
थे कि हमको जो जानकारी है इनके पास
इंटैक्ट वोट है 15 16 पर का जो वोट है
इनका

वो नीतीश के पास महादलित में जो उन्होने
दलित महादलित कर दिया लेकिन अब लेटेस्ट जो
इन लोगों ने अपना सर्वे कराया है जो मेरी
जानकारी है उसम लगा कि इनके पास अब सा पर

से ज्यादा रह गया ओहो ओ हा हां अभी भी
इनको लेकर के चिराग पासवान एकदम असहज है
चिरा के पास भी 6 पर वोट है अब मानिए कि
वो वोट पिछला जो चुनाव हुआ था तो उस चुनाव
में नीतीश भी साथ थे तब चिराग पासवान भी

साथ थे तब य 39 सीट जीते थे अगर चिराग हट
जाते हैं ये तो रहेंगे ही
रहेंगे उसमें से एक केवल नहीं रहेंगे तो
जीतन राम मांझी नहीं रहेंगे जो लोकसभा में
थे व महागठबंधन के थे इसके बाद सहनी और

उपेंद्र कुशवा लेकिन इन तीनों का अगर वोट
मिला दिया जाए तो उससे ज्यादा चिराग
पासवान का वोट है तीनों का भी वोट उतना
नहीं है नीतीश तो थे ही थे लोग के था
चिराग थे तो चिराग के हटने के बाद तो अब

क्या स्थिति
हो क्या सम 39 कैसे रिपीट जाएंगे इनका अब
15 16 पर है भी नहीं तो इसीलिए उन लोग को
अब अब सोस हो रहा है जो अंदर की खबर मिल
रही है कि काफी अफसोस हो रहा है क्योंकि
बिहार का कोई भी नेता नॉट सिंगल लीडर ऑफ

बीजेपी वास इन फेवर ऑफ टा विथ नीतीश कुमार
नीतीश कुमार फिर आ रहे हैं यह खुशी का
इजहा मैंने नहीं होता है आप जो कहना चाह
रहे मैं दोस्तों को समझा दूं बिल्हारी
साहब सीनियर जर्नलिस्ट बिहार यह कह रहे

हैं कि नीतीश कुमार को लेकर जो अमित शाह
और मोदी जी को उम्मीद थी कि 15 पर वोट
आएगा कुर्मी वोट ई बीसी वोट या थोड़ा बहुत
मुस्लिम भी वोट वो जो 15 पर वोट है जो
अमित शाह का बीजेपी का इंटरनल सर्वे है

ताजा वो बताता है कि वो 15 पर वोट घट के
सा आ पर हो गया ऑलमोस्ट हाफ हो गया और
उसकी वजह जो बिल्हारी साहब बता रहे हैं कि
नितिश का एक क्रेडिबिलिटी क्राइसिस एक साख
का संकट है और सी पसो पेश में लगे हुए हैं

अमित शाह और मोदी कि भाई नितीश को लेकर
फायदा हुआ नुकसान हुआ नितीश तो मुझे लगता
है वो मछली है अब ना निगलते बन रहा है ना
उगलते बन रहा है एक चीज बिलारी साहब आप
एकदम स्पष्ट मैं आपसे जवाब चाहूंगा क्या

आपको लगता है कि ये गठबंधन ये जो एनडीए है
बीजेपी और जेडीयू अगर यह मिलकर लड़ते हैं
तो आपको लग रहा है कि 40 में से 30 सीटें
लाएंगे 25 लाएंगे अब जो इंटरनल सर्वे ताजी
रपट क्या कहती है व्हाट इज द

फीडबैक अच्छा आप बताइए पिछले दिनों एक
इंडिया टुडे और उनका सर्वे जो आया था सी
वोटर इंडिया टुडे का उन्होंने 32 दिया सात
घटा दिया अब कैसे व किए होंगे आप समझ सकते

हैं किस तरह से व करते हैं अभी मेरी बात
मुझे जो लगता है देखि नितीश कुमार की जिसे
हम लोग कहावत है कि जिंदगी भर के कमाई
अपने जिंदगी में गवाई माने बर्बाद कर

लियाने एक हीरो जो है कैसे विलन बन
गया जो जनता जो है नितीश कुमार के नाम
लेकर के गर्व महसूस करती थ देखिए बिहार आज
वो उनका नाम लेना नहीं चाहते उनके ही समाज
के लोग उनके ही वोटर बाकी तो छोड़ दीजिए

प्रकाश तो कभी नीतीश कुमार के साथ नहीं
रहे इस भ्रम में मत रहिए किसी को नहीं
रहना चाहिए अपर कास्ट इनके साथ इसीलिए थे
बीजेपी इनके साथ रही है लेकिन जिस तरह से

पॉलिटिकली अपने अपना नैतिक पतन कर लिया
इन्होंने तो इसीलिए लोग अब इनका नाम भी
नहीं लेते हैं णा माने एक जो होता है ना
आप कहीं

जाइए ऐसा पॉलिटिशियन बिहार का नाम हसवा
दिया इस आदमी क भी हम लोग जाते हैं उसी
जगह क हो जी ज तुम्हारे यहां केवल पलटा
पलटी होती है क्या मतलब है

बड़ी बात बिलारी साहब एक बड़ी बात आप कह
रहे हैं कि घृणा का स्तर है मतलब लोग घृणा
कर रहे हैं लोगों को कहीं ना कहीं नफरत है
कि भाई यह आदमी क्या था और क्या से क्या

हो गया क्या आपको लगता है कि यह बात मोदी
जी समझ रहे हैं और अब उनको लगता है जो
मेरे पास दिल्ली से खबरें हैं वो यह है
उनको लगता है कि अब नितीश से कुछ होने

वाला नहीं है अब वो एक और बड़ा ऑपरेशन
करना चाहते हैं एक बड़ा ऑपरेशन करना चाहते
हैं इंडिया एलायंस में और जाहिर तौर पर
इंडिया एलायंस का बिहार में मतलब है
तेजस्वी
यादव राहुल गांधी के इतने मायने नहीं है

कांग्रेस में कोई इतना बड़ा फेस नहीं है
बिहार में लेफ्ट पार्टियां है लेकिन अपने
पॉकेट्स में तो घूम फिर के जो चेहरा है
तेजस्वी यादव अगर हम हफ्ते भर पहले की बात
करें तो नितीश और तेजस्वी चेहरा थे लेकिन

अब सिर्फ तेजस्वी है मोदी जी को लगता है
कि अगर हेमंत सिरेन की तरह तेजस्वी यादव
को पैक करके जेल भेज दिया जाए ईडी के
मामले में तो बात बन सकती है अगर इंडिया
एलायंस को ही हम ध्वस्त कर दे जो ऑपरेशन

उन्होंने महाराष्ट्र में कर रखा है या जो
दिल्ली में करना चाहते हैं या जो झारखंड
में ऑपरेशन उन्होंने कर दिया अगर तेजस्वी
को जेल भेजते हैं जैसा कि एक थिंकिंग चल

रही और पिछली 30 जनवरी को आठ घंटे की
पूछताछ हुई चार सीट में तेजस्वी का नाम है
यानी पूरी प्लानिंग कर रखी है ईडी और
सीबीआई अगर तेजस्वी को जेल भेजते हैं
तो फिर आपको बिहार में क्या लग रहा है
क्या फिर मोदी जी फिर से 40 में 40 ले

जाएंगे क्या खेल कुछ और
होगा बूमरैंग कर
जाएगा क्या बूमरैंग कर जाएगा ट विल
बूमरैंग ऑन एनडीए और

खास बूमरैंग कर जाएगा व मुझे नहीं लगता कि
ऐसा वो करेंगे कर भी सकते हैं मैं मुझे जो
लगता है इसलिए कि जेल जाने के बाद उनके
वोट पर क्या असर पड़ेगा वो तो और जो है
अग्रेसिव तरीके से वोट देंगे क्योंकि आज
के तिथि में और सरकार से ब्लेसिंग इन

डिसगाइज समझिए कि वो सरकार से बाहर निकल
गए उनकी पॉपुलर सरकार में रहते हुए
तेजस्वी की पॉपुलर बहुत गिर रही थी और
लेकिन उसको अब रिकवर कर लिया उन्होंने

दिल्ली में लोग कह रहे हैं कि अगर तेजस्वी
को जेल भेजते हैं तो आरजेडी और इंडिया
एलायस का की पूरी जो व्यू रचना है वो
ध्वस्त हो जाती
व वही केंद्र में है और अगर उनको जेल भेज

दिया दो महीने के लिए छ महीने के लिए तो
एक एक तरफा लड़ाई हो सकती है आप कह रहे कि
एक तरफा नहीं होगी ये दाव उल्टा पड़ेगा तो
क्या तेजसवी को वोट ग होथी
मिलेगी सिंपैथी

मि अभी तो य बहुत सिंपैथी मिलेगी य जान
लीजिए अभी ही जो है नीतीश कुमार छोड़ कर
के गए हैं एक तरह से जो भाषण दिया इस
लड़के ने विधानसभा के पटल पर उसको लेकर के
जो राम किस तरह से भाषण वो भाषण लोग मतलब

कटिंग अक्रॉस द कास्ट लाइन उस पर डिस्कशन
करते हैं और उसकी तारीफ करते हैं कि भाई
कितना लड़का इंप्रूवमेंट कर
दिया आपको लगता है कि जो मुस्लिम और यादव

है सपोज करिए तेजस्वी को एक सिंपैथी मिलती
है या मिल रही है क्या आरजेडी का जो वोट
है उसमें विस्तार हो रहा है क्या मुस्लिम
और यादव के अलावा कुछ और जातिया उनके साथ

आ रही है क्या युवा वर्ग उनके साथ जुड़
रहा है आपको जमीन पर जो फीडबैक क्या मिल
रहा है फीडबैक देखिए ये है कि ये सरकार
में रकर के जो भी नौकरिया मिली है तो ये

सब ये जो नौकरी पाए हैं छात्र नवयुवक या
जो पाने वाले उनको यही व्यक्ति जो अगर यह
दबाव नहीं बनाता सरकार पर तो नौकरी नहीं
दे सकते थे नीतीश कुमार इसलिए नीतीश कुमार
तो थ्रू आउट चुनाव के समय ये कहते
अपना बाबू जीी के यहां से नौकरी ला पैसे

लाएगा जेल से लाएगा कहां से लाएगा कैसे दे
सकता है लेकिन पा लाख तो मिल गई नौकरी ये
लोगों के दिमाग में कि इसके पास विजन है
अब यह नहीं आपको कहेगा ये लड़का इतना पढ़ा
लिखा डिग्री की बात नहीं होती है ये बात

होती है ये कि हा जजन है इस लड़के के
समझदारी है इसके पास य जान गया है कि
राजनीति कैसे किया जाता है और अगर अब जो
है ये लीडर ऑफ पोजीशन जब बन जाने के बाद

पहले तो अंडर नीतीश कुमार था ना जी अब तो
उनके बराबर का लीडर ऑफ पोजीशन है एक साइड
पते तो एक साइड ब हो गया ना बराबर में अब
जो है इसका क एकदम नीतीश से ऊपर चला जा

रहा है दे
बाई आपको क्या लगता है जो फीडबैक है कि
अगर चुनाव लोकसभा का होगा चलिए मान लिया
तेजस्वी जेल नहीं जाते और आपने कहा जेल
जाएंगे तो फिर और तो भी कोई नुकसान नहीं
होगा आज की तारीख में आपको लगता है कि

तेजस्वी 10 12 सीटें ला रहे हैं इंडिया
लाइंस के लिए क्या आपको लगता है बिहार की
जमीन पर आज भी फाइट है मोदी वर्सेस

तेजस्वी बैटल यह होने जा रहा है आपको लगता
है कि बीजेपी को नुकसान होगा नीतीश कुमार
को लेने के बावजूद
मुझे लगता है
कि वर्स्ट स्थिति में भी कितना भी लोग कुछ
करेंगे वो अभी तो चुनाव की घोषणा हो फिर

अभी तेजस्वी यादव जो है 20 तारीख से अपनी
यात्रा शुरू कर रहे हैं जन विश्वास यात्रा
जो है 29 तक उनका चलेगा इलेक्शन जब
कैंपेनिंग शुरू होगा भाषण वाजी शुरू होग
लेकिन जिस तरह से एक देखिए आप नीतीश कुमार

इतना विलन बन गए हैं एक तरह से अमंग द
पीपल वो लोग कहते कि भाई कब इससे जान
छूटेगी इधर भी जरता है इधर चला जाता है कब
इससे जान छोड़ेगी अब बिहार को ऐसे नेता की
जरूरत नहीं है ऑफकोर्स ही है डन लट फॉर द
बिहार टनिंग अराउंड भी किया इन्होने लेकिन

अब जो है वो जान छोड़ना चाहते आप पूछ रहे
कि कितना मुझे लगता है कि वर्ष स्थिति में
भी महागठबंधन या इंडिया जो है बिहार में
आपको 12 13 सीट से कम नहीं जीतेगी अभी की
जो ये भी नुकसान है ये भी अगर 12 1 सीट है
तो एनडीए को कम से कम 11 सीट स का नुकसान

मैं कह रहा अगर थ सि मिलती सपोज करिए अगर
तेजस्वी जेल चले जाते फिर य जो 12 1 की
टैली है कहां
जाएगी के सा जी 50 हो

जाएगा
50 और क्या जेल उसको भेज देंगे अगर
तेजस्वी को जेल भेज देते हैं तो 50 मैं
कहा ना कि अब केवल माई माई तक सीमित नहीं
है उस माई में बहुत लोग जुड़ गए हैं

ब युवा वर्ग अपना समझता है नंबर वन पर अभी
जो बिहार के जुआ है कटिंग अक्रस का रहा व
मानते हैं कि हमारा अगला जो है बिहार का
भविष्य तेजस्वी यादव चिराग में भी देखते
लेकिन चिराग के पास प्लेटम नहीं है एकज और
आपको लगता है कि

अगर तेजस्वी और राहुल गांधीय जो एक के्री
है क्या आप इस केमिस्ट्री को बनते देख रहे
हैं राहुल गांधी और तेजस्वी की हाल की जो
यात्रा थी उस लाल जीप प जिस लाल जीप की
बड़ी चर्चा थी दिल्ली में लोगों ने कहा कि
भाई मोदी जी ने भी वो वीडियो बना मंगा के

देखा था क्या आपको लगता है एक केमिस्ट्री
बन रही है और यह केमिस्ट्री अरिमिल्ली
[संगीत]
तेजस्वी जादव थे बगल में बैठे थे साथी और
सारथी ऐसा कुछ चला था तो सारथी कौन होता
है जंग में सार्थी तो कृष्ण होते हैं और
अर्जुन बगल में रहते हैं जी एक चीज मैं और

यहां पर पूछना चाहूंगा आपको लगता है कि
तेजस्वी को अगर बीजेपी परेशान करती अगर
जेल नहीं भेजती चलिए मान लिया जेल नहीं
भेजती अमित शाह और मोदी को लेकर अभी

कंफ्यूजन है उनको डिसाइड करना है अगर
बार-बार ईडी परेशान करती है इनकम टैक्स
परेशान करती है फिर नोटिस जाता है फिर समझ
जाता है और बीच-बीच में चुनाव के समय जब
तेजस्वी रैली कर रहे हो यात्रा पर निकले

हो उनको बारबार समन भेजा जाता है आठ आठ
घंटे फिर से इंटोन होता है अगर यह सारी
चीजें होती है इसका नेगेटिव इंपैक्ट
पड़ेगा क्या इसका लाभ मिलेगा तेजस्वी को
या आरजेडी को नुकसान हो सकता है आरजेडी

डिस्टर्ब हो सकती है क्या आरजेडी र्ब होगी
क्या डिस्टर्ब है देखिए अपोजिशन में है
विपक्ष में जो भी रहता है नेता वो निखरता
है और सत्ता में आने पर बिखरता है ये तो
निखर रहा है दिन प्रतिदिन जितना भी इसको

परेशान कीजिएगा य तो तैयार है हर तरह से
हां ये जांच से को जो भी जांच करिए जितना
बार जेल भेजना है भेजिए तो आप बताइए कि
नीतीश कुमार जैसा व्यक्ति ही कह रहे थे कि
अरे दिल्ली वाला इसको फसा रहा है हम आ गए

हैं साथ में ना इसीलिए इसको फसा रहा है
ललन सिंह राष्ट्रीय अध्यक्ष कई बार
उन्होंने कहा वह केस में कुछ दम नहीं है
इसीलिए तब के प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने

बंद कर दिया सीबीआई ने कहा कि सर इस कु
नहीं है य सारी बातें तो जनता के सामने ना
है यह छपी हुई बात तो है नहीं
जी साब एक आखरी क्वेश्चन एक आखरी क्वेश्चन
और मैं बहुत ईमानदारी से आपसे जवाब चाहता
हूं आपके तजुर्बे को देखते हुए 30 40

वर्षों से आप सियासत को कवर कर रहे हैं
बिहार के महारती य जो यंग जनरेशन लीडर
जैसे जगनमोहन रेड्डी है टीएमसी में अभिषेक
बनर्जी है ममता बनर्जी के भतीजे हैं चिराग
पासवान आपके य है या सम्राट चौधरी का भी

आपने नाम ले लिया या अगर आप ज्योति आद
सिंधिया को देखते या सचिन पायलट को हम
राजस्थान में देखते या फिर अखिलेश यादव को
हम देखते हैं या मायावती के भतीजे आनंद को
देखते और ऐसे ही अगर हम तेजस्वी को देखते

इवन राहुल गांधी भी लेली य जो यंग जनरेशन
य जो युवा पीढ़ी है सियासत की उसमें आप
तेजस्वी को कितने नंबर देंगे कहां खड़े
हुए देखते सबसे
ऊपर क्या
देखिए सबसे ऊपर मैं देखूंगा इस बार का जो
इनका भाषण रहा और उसके बाद का जो उसके बाद

भी जो अभी भाषण दे रहे हैं तो संयमित
तरीके से देखिए बाकी कई लोगों का अखिलेश
यादव जी का वो व्यंग करते हैं अग्रेसिव
थोड़ा ज्यादा मूड में रहते हैं सम्राट

चौधरी का
वही हाल है चिराग पासवान का भी वही हाल है
जगनमोहन रेड्डी तो ही फेसिंग लट ऑफ मतलब
वो तो काफी मजबूरी में लगता है कभी कभी तो
उसमें सबसे आगे अभी है और अपने पिता की
तरह ये भी जो है इट इज वेरी डिफिकल्ट टू

मीट यनो चिराग
पासवान सम्राट चौधरी भी है लेकिन इनसे
मिलना बहुत आसान है ही इजली एक्सेसिबल टू
द पीपल यह बात इनको अलग करता है और जो
भाषण जो है उसके बाद जो अभी राहुल गांधी
के साथ भी जो मंच शेयर करके उन्होने भाषण

दिया उसी से पता चलता है कि यह बाकी जो
नेताओं का नाम लिए उससे ऊपर ऊपर चलते चलते
एक सवाल पूछ लू आपसे मुझे लगता है आप पटना
में बैठे हैं तो जो सबसे बड़ा सवाल है देश
के जहन में क्या ऐसा तो नहीं कि नितीश
बाबू फिर से पल्टी मार देंगे ऐसा हो सकता

है ये तो भी नहीं जानते
व भी नहीं जानते होंगे
किक कब क्या करेंगे वो क्या बताया
जाए जिस तरह
से बड़ा आपने जवाब दिया कि वो तो नितीश को

भी नहीं मालूम कि वो कहां जाएंगे और एक
चीज आपने कही अगर ईडी परेशान करती है जेल
भेजती है तो य जो स्कोर है इंडिया अलायंस
वर्सेस एनडीए का यानी मोदी बनाम तेजस्वी
की जो लड़ाई है य 50 हो सकती है य 20 और

हो सकती है और जहां मोदी जी पिछली बार
ऑलमोस्ट 40 में 40 ले गए 39 आउट ऑफ 40
उनको बहुत बड़ा झटका लग सकता है और यह
झटका लग सकता है नितीश कुमार को लेने के
बाद और एक अंतिम बात आपने क फिर मैं आपसे

उस पर कभी बात करूंगा मैं चाहूंगा कि
तेजस्वी की जो पॉलिटिकल पर्सनालिटी उसको
डाइस सेक्ट करू आपसे और आपसे बेहतर कोई
जानता नहीं है आपने एक बात कही जो यंग लट
हैय जो युवा पीढ़ी है सियासत की सियासत के
जो जवान चेहरे हैं उसमें यह जो चेहरा है

आपने कहा कि बहुत तेजस्वी में तेज तेज के
साथ साथ आपने कहा संयम भी है खैर देखना
होगा तेजस्वी को आगे और मेरी कोशिश रहेगी
कि मैं आपको फिर दोबारा अपने दोस्तों में
बुलाऊं क्योंकि ऐसी प्रखर मुखर आवाज आज के
दौर में बिरला है रेयर है

Leave a Comment